edvertise

edvertise
barmer



बाड़मेर, सीमांत क्षेत्रांे के विकास कार्याें के प्रस्ताव भिजवाने के निर्देश



-जिला कलक्टर ने आधारभूत सुविधाआंे से जुड़े कार्याें के प्रस्ताव भिजवाने को कहा।



बाड़मेर, 22 अप्रैल। सीमांत क्षेत्र विकास कार्यक्रम के तहत 0 से 10 किमी के दायरे मंे आने वाले समस्त गांवांे मंे शिक्षा, स्वास्थ्य, पानी के अलावा आधारभूत सुविधाआंे की उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए जिला कलक्टर सुधीर शर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट कांफ्रेस हाल मंे बैठक आयोजित हुई। इस दौरान जिला कलक्टर शर्मा ने ऐसे विकास कार्याें के प्रस्तावांे को प्राथमिकता से भिजवाने के निर्देश दिए।




जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने कहा कि सभी विभागीय अधिकारी एवं कार्यकारी एजेंसियां यह सुनिश्चित करें कि सीमांत क्षेत्र विकास कार्यक्रम के तहत ऐसे विकास कार्याें को शामिल किया जाए, जिनको अन्य योजनाआंे मंे करवाने जाने की संभावना कम हो। उन्हांेने कहा कि सार्वजनिक निर्माण विभाग, जलदाय विभाग, चिकित्सा एवं शिक्षा विभाग निर्धारित दूरी के दायरे मंे आने वाले गांवांे मंे विकास कार्याें के प्रस्ताव भिजवाएं। उन्हांेने कहा कि अगर इससे अधिक दूरी के दायरे मंे आने वाले गांवांे मंे भी विकास कार्याें के प्रस्ताव भिजवाने है तो संबंधित विकास अधिकारी यह प्रमाण पत्र दे कि संबंधित गांव मंे समस्त कार्य करवाए जा चुके है अथवा इस कार्य योजनाआंे मंे समस्त कार्याें को प्रस्तावित कर दिया गया है।




इस दौरान जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने कहा कि विकास कार्याें के प्रस्ताव शीघ्र भिजवाएं, ताकि वर्ष इस वर्ष की कार्य योजना मंे शामिल किया जा सके। उन्हांेने कहा कि इस दायरे मंे आने वाले समस्त गांवांे मंे विभागीय नियमांे के अनुरूप सुविधाएं उपलब्ध कराई जाए। उन्हांेने सीमांत क्षेत्र विकास कार्यक्रम के तहत कराए जाने वाले कार्याें एवं कार्य योजना के बारे मंे विस्तार से जानकारी दी। बैठक के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक रामेश्वरलाल मेघवाल, अतिरिक्त जिला कार्यक्रम समन्वयक सुरेश कुमार दाधीच, जिला सूचना एवं विज्ञान अधिकारी दिलीप जैन, उप निदेशक सूचना एवं प्रौद्योगिकी विभाग देवेन्द्र माथुर, वरिष्ठ लेखाधिकारी मेवाराम बालन, अधीक्षण अभियंता नेमाराम परिहार समेत सीमा सुरक्षा बल एवं विभिन्न विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top