edvertise

edvertise
barmer



बाड़मेर मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान मंे सक्रिय भागीदारी निभाएंःशर्मा
- जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने बहुराष्ट्रीय कंपनियांे, व्यापारिक संगठनांे, ठेकेदारांे से मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान मंे सक्रि भागीदारी निभाने का आहवान किया।

बाड़मेर,17 जनवरी। मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान मंे किसी न किसी रूप में अपनी भागीदारी दर्ज करवाकर इसको सफल बनाएं। इस अभियान मंे सक्रिय भागीदारी के लिए सबको समन्वित प्रयास करने की जरूरत है। बारिश के पानी को सहेजने के इस अभियान को जन आंदोलन बनाना होगा। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने बुधवार को कलेक्ट्रेट कांफ्रेस हाल मंे जिले मंे कार्यरत बहुराष्ट्रीय कंपनियांे, उद्योगपतियांे, व्यापारिक संगठनांे एवं ठेकेदारांे तथा भामाशाहांे की एक दिवसीय कार्यशाला के दौरान यह बात कही।

इस दौरान जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के प्रथम चरण के उत्साहजनक नतीजांे के बाद 9 दिसंबर से द्वितीय चरण की शुरूआत की गई है। बाड़मेर जिले की 17 पंचायत समितियांे की 37 ग्राम पंचायतांे के 124 गांवांे मंे मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के द्वितीय चरण के तहत 5953 जल संरक्षण कार्य कराए जाएंगे। जिला कलक्टर ने कहा कि जल संरक्षण के इस महत्वाकांक्षी अभियान मंे सबसे सहयोग किया जाना अपेक्षित है। उन्हांेने कहा कि इसके लिए अपने स्तर पर कार्य करवाने के साथ मशीनरी अथवा आर्थिक सहयोग किया जा सकता है। उन्हांेने कहा कि इस अभियान के तहत जिले मंे वृहद स्तर पर रैन वाटर हार्वेस्टिंग संरचनाएं निर्मित होगी जिससे वर्षाती जल संग्रहण होगा जो आने वाली पीढी के लिए भी वरदान साबित होगा। उन्हांेने कहा कि प्रथम चरण मंे बुड़ीवाड़ा मंे हुए अच्छे कार्य का मुख्यमंत्री महोदया ने बजट भाषण के दौरान भी उल्लेख किया। इस दौरान बहुराष्ट्रीय कंपनियांे के प्रतिनिधियांे, उद्योगपतियांे, व्यापारिक संगठनांे एवं ठेकेदारांे तथा भामाशाहांे ने अपनी ओर से अपेक्षित सहयोग करने का भरोसा दिलाया।

कार्यशाला के दौरान जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने कहा कि मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान के जरिए प्रत्येक गांव को जल के लिहाज से आत्मनिर्भर बनाने का प्रयास किया जा रहा है। उन्हांेने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति जल की एक-एक बूंद को सहेजने में अपना सक्रिय योगदान दें। उन्हांेने कहा कि लोगों को इस अभियान की अहमियत समझाने के साथ उनकी भागीदारी सुनिश्चित करने का प्रयास किया जाए। उन्हांेने उपस्थित संभागियांे से मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के द्वितीय चरण को शत-प्रतिशत सफल बनाने में सहयोग देने की अपील की।

इस अवसर पर अधीक्षण अभियंता आईडब्ल्यूएमपी बलवीरसिंह ने मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के तहत कराए जाने वाले कार्याें के बारे मंे विस्तार से जानकारी दी। उन्हांेने कहा कि प्रथम चरण के दौरान कराए गए कार्याें के अच्छे नतीजे आए है। उन्हांेने प्रजेटेंशन के जरिए प्रथम चरण के कार्याें की सफलता एवं द्वितीय चरण मंे प्रस्तावित कार्याें के बारे मंे बताया। उन्हांेने कहा कि बरसाती जल संग्रहण के इस पावन अभियान में तन-मन एवं धन के साथ पूरा सहयोग देकर सहभागी बनें, ताकि यह अभियान जल के रूप में वरदान साबित हों। इस दौरान सहायक अभियंता ताराचंद शर्मा के साथ विभिन्न बहुराष्ट्रीय कंपनियांे के प्रतिनिधि, होटल मालिक एवं व्यापारी उपस्थित रहे।

विभिन्न संगठनांे एवं विभागीय प्रतिनिधियांे ने दिया सहयोग का आश्वासनः कार्यशाला के दौरान केयर्न इंडिया ने 1.25 करोड़, बाड़मेर लिग्नाइट कंपनी के प्रतिनिधि ने 8 सामुदायिक कार्याें के लिए 16.30 लाख, उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ने विभिन्न औद्योगिक संस्थाआंे से 15 लाख, वाणिज्यिक कर अधिकारी ने व्यापारिक संगठनांे से 20 लाख का आर्थिक सहयोग कराने का आश्वासन दिया। इस दौरान आकाश एक्प्लारेशन एवं स्लम्बर कंपनी के प्रतिनिधि ने दस हजार रूपए का आर्थिक सहयोग जमा कराया। इसी तरह सार्वजनिक निर्माण विभाग की ओर से आगामी दिनांे मंे ठेकेदारांे के साथ बैठक आयोजित कर यथासंभवन सहयोग करने का आश्वासन दिया गया।

पालनहार योजना में भुगतान के लिए चलेगा अभियान
बाड़मेर, 18 जनवरी। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा संचालित पालनहार योजना में पोर्टल के माध्यम से लाभांवित किये जा रहे पालनहार एवं बच्चों को चालू वित्त वर्ष में भुगतान में हो रही देरी को दृष्टिगत रखते हुए बच्चों के आंगनबाड़ी केन्द्र एवं विद्यालयों में अध्ययनरत होने के प्रमाण पत्रों के साथ साथ भामाशाह एवं बच्चों के आधार कार्ड नंबर दर्ज कराने के लिए 31 जनवरी, 2017 तक अभियान चलाया जाएगा।

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के निदेशक रवि जैन ने बताया कि अभियान में विभाग के जिला स्तरीय अधिकारी छात्रावास अधीक्षकों को पालनहारों की सूची उपलब्ध कराएंगे। साथ ही भुगतान के लिए पालनहार को पत्र एवं दूरभाष के माध्यम से संपर्क स्थापित कर आवेदन पत्रों में पाई कमियों एवं त्रुटियों को पूरी कराएंगे। अभियान के दौरान जिला स्तरीय अधिकारियांे को प्रतिदिन प्राप्त दस्तावेजों को पोर्टल पर अपडेट कर प्रगति से निदेशालय को अवगत कराने के साथ जिला अधिकारी अन्य विभागों से समेकित बाल विकास सेवाएं, विकास अधिकारी एवं ब्लॉक शिक्षा अधिकारी से समन्वय स्थापित कर दस्तावेजों की प्राप्ति के कार्य में अन्य एजेन्सियों की सहभागिता सुनिश्चित कराने के निर्देश दिए गए है।

संबंधित विभाग निर्धारित समयावधि मंे लक्ष्य प्राप्त करेंः नेहरा
बाड़मेर, 18 जनवरी। बीस सूत्री कार्यक्रम के तहत संबंधित विभाग उनको आवंटित किए गए लक्ष्य निर्धारित समयावधि मंे पूर्ण करें। इसके लिए इस तरह की कार्य योजना तैयार की जाए कि बाड़मेर जिला रैकिंग मंे प्रथम स्थान पर रहे। जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने बुधवार को बीस सूत्री कार्यक्रम की समीक्षा बैठक के दौरान यह बात कही।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी नेहरा ने कहा कि जिन विभागांे के लक्ष्य की प्रगति अपेक्षानुरूप नहीं है वे इसकी नियमित रूप से मोनेटरिंग करते हुए प्राथमिकता से लक्ष्य प्राप्ति के प्रयास करें। उन्हांेने कहा कि संबंधित विभाग फरवरी माह तक लक्ष्य प्राप्ति की कार्य योजना तैयार कर उसके अनुरूप कार्य करें। बैठक के दौरान चालू वित्तीय वर्ष में अर्जित की गई उपलब्धियों की विभागवार समीक्षा करने के साथ आवश्यक दिशा-निर्देश दिए गए। सहायक निदेशक हीरालाल मालू ने कहा कि जिन विभागांे को लक्ष्य आवंटित नहीं हुए है अथवा पूर्ण होने की संभावना नहीं है वे इस बारे मंे अवगत करवाएं। ताकि लक्ष्य संशोधित किए जा सके। उन्हांेने कहा कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग टीकाकरण मंे अपेक्षित प्रगति प्राप्त करें। बैठक के दौरान महात्मा गांधी नरेगा, श्रमिक कल्याण, खाद्य सुरक्षा, सबके लिए आवास, ग्रामीण जलापूर्ति कार्यक्रम, बाल प्रतिरक्षण, संस्थानिक प्रसव, अनुसूचित जाति परिवारांे को ऋण, छात्रवृति वितरण, बाल कल्याण, बस्ती सुधार कार्यक्रम, वन संरक्षण एवं वन वृद्वि,ग्रामीण सड़क तथा ग्रामीण ऊर्जा समेत विभिन्न बिन्दूआंे की समीक्षा करते हुए संबंधित अधिकारियांे को आवष्यक निर्देश दिए गए।

विकास योजनाआंे की समीक्षा बैठक स्थगित
बाड़मेर, 18 जनवरी। जिले के प्रभारी मंत्री एवं जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री सुरेन्द्र गोयल की अध्यक्षता मंे 20 जनवरी को आयोजित होने वाली विकास योजनाआंे की समीक्षा बैठक अपरिहार्य कारणांे से स्थगित कर दी गई है। यह जानकारी जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा ने दी।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top