edvertise

edvertise
barmer

बाड़मेर का गुजरात से संपर्क कटा, बसें बंद, नर्मदा नहर टूटी, कई गांव जलमग्न

बाड़मेर.जिले में जारी बारिश का दौर मंगलवार को भी जारी रहा। हालांकि इस दौरान गुड़ामालानी क्षेत्र को छोड़ शेष जगह हल्की बूंदाबांदी होने से सभी ने राहत की सांस ली। बरसाती पानी से भरी नाडियों में डूबने से तीन जनों की मौत हो गई। धोरीमन्ना क्षेत्र में नर्मदा नहर माइनर टूटने से कई गांव जलमग्न हो गए। आलेटी में चौदह जने पानी के बीच फंस गए, जिसे सेना की रैस्क्यू टीम ने दो घंटे की मशक्कत के बाद बचा लिया। गुजरात में चल रही तेज बारिश के चलते बाड़मेर-जैसलमेर की 25 बसें धानेरा के पास फंस गई है। पानी की आवक को देखते हुए सांचौर मार्ग पर गांधव पुल के पास वाहनों की आवाजाही को रोक दिया गया।

संबंधित चित्र


जिला परिवहन अधिकारी डी डी मेघानी ने बताया कि बाड़मेर-जैसलमेर से गुजरात के अहमदाबाद, सूरत, मुम्बई की ओर जाने वाली 25 बसें बंद हो गई हैं। धानेरा के रास्ते बाढ़ आ जाने से गुजरात का पूरा संपर्क कट गया है। धानेरा में मंगलवार दोपहर दो बजे तक बारिश तो बंद हो गई है लेकिन बुधवार तक भी बसों का आवागमन बंद रहेगा। सांचौर में रोक दिए सभी वाहन- सांचौर के पास ही सारे वाहन रोक दिए गए है। बाड़मेर से जाने वाले वाहनों को गांधव पुल पर ही रोक दिया गया है। धोरीमन्ना, गुड़ामालानी, चौहटन का सांचौर से सम्पर्क कट गया है।




धोरीमन्ना. क्षेत्र में चल रहे बारिश के दौर के बीच मंगलवार को नहर माइनर टूटने से कई गांव जलमग्न हो गए। आलेटी गांव के पास पानी के बीच फंसे चौदह लोगों को रैस्क्यू टीम ने बचाया। इससे पहले बरसाती पानी की लगातार आवक के बीच अरणियाली क्षेत्र में नर्मदा नहर माइनर टूट गई। इसके चलते चैनपुरा माइनर, मीठी, माणकी, काकड़ों की ढाणी, खोथावास, आलेटी,बांटा आदि गांव में नहर का पानी भर गया।




चार जाने फंसी, दो घंटे से निकाला

आलेटी में कई घरों के पास पानी का भराव हो गया। ग्रामीणों ने इसकी सूचना प्रशासन को दी,जिस पर प्रशासन ने एसडीआरएफ की रैस्क्यू टीम को मौके पर भेजा। टीम ने दो घंटे तक अभियान चला उदाराम पुत्र तेजाराम व उसकी पत्नी सहित चार जनों को घर से बाहर निकाल सुरक्षित पहुंचाया। इस दौरान धोरीमन्ना थानाधिकारी सुरेश सारण,एसडीएम विजयसिंह नाहटा,तहसीलदार रामसिह राव,धोरीमन्ना प्रधान ताजाराम चौधरी,नर्मदा नहर सहायक अभियंता रघुनाथ विश्नोई मौके पर मौजूद रहे।




प्रशासन ने दस को बचाया

आलेटी पटवारीं जयकिशन ने बताया कि 10 लोगो को शाम को प्रशासन ने शाम सात बजे ऑपरेशन चला बचाया। उन्होंने बताया कि सोनाराम पुत्र वागाराम,वागाराम विरधाराम,पुरखाराम पुत्र विरधाराम,तुलसाराम पुत्र विरधाराम, सुखराम जाणी, हीरा देवी पत्नी सोनाराम, रूपा देवी, जेराबाई, नेरा बाई को पानी से घिरे घरों से बाहर निकाल सुरक्षित जगह पहुंचाया। वहीं छोटू के नाइयों की ढाणी में जसराज पुत्र खींयाराम नाई के कच्चे मकान का आगे का हिस्सा ढह गया। श्रवण कुमार पुत्र नवलाराम के घर में छप्पर गिर गया।




चौहटन. गुजरात एवं सांचोर की सीमा से सटे बाखासर, साता, गीड़ा, भलगांव, चांदासनी, तारीसरा, बावरवाला सहित कई गांवों में चारों तरफ पानी ही पानी फैला हुआ है, जिससे आवागमन के कई रास्ते बंद हो गए हैं। तारातरा मठ के सुरते का तला गांव में तालाब टूटने का खतरा पैदा हो गया है। उपखंड अधिकारी भागीरथ चौधरी, विकास अधिकारी हनुवीरसिंह विश्नोई ने जेसीबी व ट्रैक्टर लगाकर पाल को दुरुस्त करवाया और लोगों को सतर्कता बरतने के निर्देश दिए।




शिव. कस्बे के मेगवालों का वास, खत्रियों का वास, गुरुओं का वास व स्वामियों के वास में पानी निकासी की पर्याप्त व्यवस्था नही होने के कारण घरों में पानी भर गया। भिंयाड़ के तालाब में अधिक पानी आवक पर तहसीलदार हीरसिंह चारण सहित कई अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर जेसीबी की सहायता से तालाब के एक ओर से पानी निकासी की व्यवस्था की।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top