edvertise

edvertise
barmer

जोधपुरविकास का राजमार्ग है स्किल इण्डिया कार्यक्रम

दिव्यालोक सेवा संस्थान में पे्ररक कार्यक्रम का आयोजन


जोधपुर, 17 मई, 2017। देश की बेरोजगार युवा शक्ति के हुनर को निखार कर रोजगार के बेहतर अवसर उपलब्ध करवाने के लिए कौशल विकास कार्यक्रम चल रहे हैं। स्वभाविक और पसन्द के कार्यक्रमों का प्रशिक्षण लेकर बुलंदियों छूने का इरादा रखने वाले 18 से 35 वर्ष के युवाओं के लिए ये कार्यक्रम विकास का राजमार्ग हैं। क्षेत्रीय प्रचार निदेशालय की ओर से चैपासनी हाउसिंग बोर्ड मंे संचालित दिव्यालोक सेवा संस्थान में आयोजित प्रेरक कार्यक्रम में क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी राजेश मीणा ने यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि आपके सपनों को साकार करने के लिए भारत सरकार की ओर से मुद्रा योजना उपलब्ध है। आपके नव व्यसाय शुरू करने, लघु उद्योग धन्धों में उपकरणों की आवश्यकता हो या विस्तार करने में वित्तीय सहायता चाहिए तो मुद्रा योजना में 50 हजार से लेकर 10 लाख तक का ऋण रियायती ब्याज पर उपलब्ध है। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए आपको किसी गारण्टर की आवश्यकता भी नहीं है। इसलिए इसका लाभ उठाकर आप अपने काम को नई पहचान दे सकते हैं साथ ही अन्य लोगों के रोजगार के अवसर पैदा कर रोल माॅडल बन सकते हैं।

इससे पहले आरएसएलडीसी, जोधपुर के जिला प्रबन्धक हितेश चैहान ने स्किल इण्डिया कार्यक्रम के तहत संचालित कार्यक्रमों की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि संस्थान की ओर से सूचना एवं संचार प्रोद्योगिकी, बैंकिंग एवं लेखांकन, रिटेल, हाॅस्पिटेलिटी, मेडिकर एवं नर्सिंग, खाद्य प्रसंस्करण, वस्त्र एवं परिधान, ब्यूटी कल्चर एवं केशसज्जा आदि पाठ्यक्रम संचालित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि योग्य प्रशिक्षणार्थियों को पाठ्यक्रम के उपरांत उचित प्लेसमेंट का अवसर दिया जाता है। नेहरू युवा केन्द्र के युवा समन्वयक एस एस जोशी ने बताया कि स्वभाव से ही घर की प्रबन्धक होने तथा सोच समझकर खर्च करने की आदत के कारण यह कार्यक्रम महिलाओं के लिए अधिक सार्थक साबित होगा।

इस अवसर पर प्रतिभागियों को प्रधानमंत्री के मन की बात कार्यक्रम का आॅडियो सुनाया गया। वक्ताओं की ओर से दी गयी जानकारी को प्रभावी बनाने के लिए निदेशालय की ओर से आयोजित प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में सही जवाब देने वाली 5 प्रतिभागियों को पुरस्कार देकर सम्मानित किया गया। संस्थान के अध्यक्ष श्री राजकुमार भण्डारी ने आभार व्यक्त किया।

------

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top