edvertise

edvertise
barmer



जोधपुर शादी नहीं कर पाने पर इस प्रेमी युगल ने फोन पर कहा वापस नहीं आएंगे और उठाया ये भयानक कदम
शादी नहीं कर पाने पर इस प्रेमी युगल ने फोन पर कहा वापस नहीं आएंगे और उठाया ये भयानक कदम

विजातीय होने से शादी न कर पाने से हताश एक प्रेमी युगल ने चुन्नी से हाथ बांधकर पत्थर की खान में भरे पानी में कूद जान दे दी। फरार होने के तीसरे दिन बुधवार दोपहर युगल के शव सूरसागर चोपड़ से एयरफोर्स राडार रोड के बीच पत्थर की खान में दोनों के शव मिले। झंवर थाना पुलिस ने मेडिकल बोर्ड से दोनों शव का पोस्टमार्टम करवाया।




थानाधिकारी शंकरलाल के अनुसार बुचेटी के पास सेवकी निवासी गजेन्द्र (20) पुत्र नाथूराम मेघवाल तथा सूरसागर में ऊटों की घाटी निवासी गुड्डी (17) पुत्री मेहलाराम नायक में काफी समय से घनिष्ठता थी। दोनों एक-दूसरे से प्रेम करते थे। गत दिनों गुड्डी झंवर थानान्तर्गत कराणी गांव निवासी बड़ी बहन के पास आई हुई थी। गत 24 अप्रेल की मध्यरात्रि जब उसकी बहन व बहनोई सो रहे थे। तब गुड्डी मौका पाकर गजेन्द्र के साथ भाग निकली।




मध्यरात्रि को ही बहन उठी और गुड्डी को गायब पाया तो तलाश के प्रयास किए, लेकिन गुड्डी का कोई पता नहीं लग पाया। दूसरे दिन 25 मार्च को पिता ने झंवर थाने में गजेन्द्र के खिलाफ बहला-फुसलाकर भगा ले जाने का मामला दर्ज कराया।




एक माह बाद पकड़ा गया हत्या का आरोपी

इस बीच, बुधवार दोपहर सूरसागर चोपड़ से एयरफोर्स राडार जाने वाली रोड के बीच स्थित पत्थर की खान में दोनों के शव मिले। खान बरसाती पानी से भरी हुई है। युगल के हाथ चुन्नी से बंधे हुए थे। आशंका है कि 24 अप्रेल की रात या मंगलवार सुबह दोनों ने एक साथ पानी में कूदकर जान दी है। सूरसागर थानाधिकारी प्रदीप डांगा मौके पर पहुंचे। मृतकों की पहचान होने के बाद झंवर थानाधिकारी व परिजन को सूचित किया गया। साथ ही शव मथुरादाास माथुर अस्पताल की मोर्चरी भिजवाए गए। पुलिस ने मेडिकल बोर्ड गठित कर शव के पोस्टमार्टम करवाए।




मैं जा रही हूं, वापिस नहीं आऊंगी

पुलिस का कहना है कि गत 24 अप्रेल की रात जब गुड्डी बहन के घर से गायब हुई थी। तब कुछ देर बाद ही उसने पिता को फोन किया था। उसने कहा था कि वह जा रही है। वह वापिस नहीं आएगी। उसे ढूंढने की कोशिश मत करना। पिता ने तुरन्त अपनी बड़ी बहन को फोन कर अवगत कराया था। पुलिस का कहना है कि कुछ माह पहले भी दोनों घर से भाग थे, लेकिन दो-तीन दिन बाद ही लौट आए थे।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top