edvertise

edvertise
barmer



बाड़मेर नौनिहालांे के लिए आंगनबाड़ी पाठशाला वरदान साबित होगीःशर्मा

-जूनी आटी मंे जिला स्तरीय समारोह का आयोजन, आंगनबाड़ी केन्द्र बने नौनिहालांे की शिक्षा के केन्द्र।
बाड़मेर, 30 मार्च। राजस्थान सरकार ने महत्वपूर्ण परिवर्तन किया है, आंगनबाड़ी केन्द्र अब आंगनबाड़ी पाठशाला के रूप मंे जाने जाएंगे। आंगनबाड़ी पाठशाला नौनिहालांे के लिए वरदान साबित होगी। जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने गुरूवार को आंगनबाड़ी पाठशाला जूनी आटी मंे प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा कार्यक्रम के तहत आयोजित जिला स्तरीय शिक्षण सामग्री वितरण समारोह के दौरान मुख्य अतिथि के रूप मंे कही।

जिला कलक्टर सुधीर शर्मा ने कहा कि आंगनबाड़ी पाठशालाओं मंे नौनिहालांे को सहज भाषा एवं खेल के जरिए प्रारंभिक शिक्षा से जोड़ने की पहल की गई है। इसके लिए ड्रेस,बस्ते एवं शिक्षण सामग्री उपलब्ध करवाई गई है। उन्हांेने ग्रामीणांे से कहा कि वे छह वर्ष से कम आयु वाले बच्चांे को नियमित रूप से आंगनबाड़ी पाठशाला भेजकर प्रारंभिक शिक्षा से जोड़े। जिला कलक्टर शर्मा ने आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं सहयोगिनी को भी नौनिहालांे की रूचि एवं राज्य सरकार की मंशा के अनुरूप शिक्षण करवाने के निर्देश दिए। इस दौरान अध्यक्षीय उदबोधन मंे जिला प्रमुख श्रीमती प्रियंका मेघवाल ने कहा कि आंगनबाड़ी पाठशाला के जरिए बच्चांे को शिक्षा से जोड़ने के लिए नया कदम उठाया गया है। खेल-खेल के जरिए दुनिया को बदलने की पहल की सराहना करते हुए जिला प्रमुख ने ग्रामीणांे को राजस्थान दिवस की बधाई दी। उन्हांेने कहा कि इस तरह के प्रयास से बच्चांे को आगे बढने की प्रेरणा मिलेगी। उन्हांेने कहा कि मौजूदा समय मंे बाड़मेर जिला हर क्षेत्र मंे प्रगति कर रहा है। उन्हांेने महिलाआंे को नौनिहालांे को शिक्षा से जोड़े रखने का संदेश दिया। उन्हांेने प्रत्येक क्षेत्र मंे महिलाआंे की भागीदारी को लेकर उनका आभार जताया।

इस अवसर पर विशिष्ट अतिथि यूआईटी चैयरमैन डा.प्रियंका चौधरी ने कहा कि सरकार ने आंगनबाड़ी केन्द्रांे को आंगनबाड़ी पाठशाला मंे बदलने संबंधित महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। नाम परिवर्तन के साथ अब इसका उददेश्य भी बदल गया है। उन्हांेने कहा कि आंगनबाड़ी पाठशालाआंे के रूप मंे नई एवं अच्छी शुरूआत हुई है। इससे बच्चांे को प्रारंभिक शिक्षा मिलने के साथ उनमंे स्कूल जाने की प्रवृति पैदा होगी। उन्हांेने उपस्थित जन समुदाय से सरकारी योजनाआंे मंे भागीदारी निभाने का आहवान करते हुए कहा कि विशेषकर महिलाएं अपने बच्चांे को नियमित रूप से टीकाकरण करवाएं। उन्हांेने कहा कि टीकाकरण करवाने से कई बीमारियांे से बचा जा सकता है। जिला स्तरीय समारोह के दौरान जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा, बाड़मेर पंचायत समिति के विकास अधिकारी नवलाराम चौधरी, राजवेस्ट पावर लिमिटेड के सीएसआर हेड विनोद विटठल, आटी ग्राम पंचायत के सरपंच रणजीताराम मेघवाल अतिथि के रूप मंे उपस्थित रहे।

इस दौरान महिला एवं बाल विकास विभाग के उप निदेशक एवं अतिरिक्त मुख्य कार्यकारी अधिकारी डा.गुंजन सोनी ने आंगनबाड़ी पाठशाला एवं प्रारंभिक बाल्यावस्था शिक्षा के बारे मंे विस्तार से जानकारी दी। उन्हांेने कहा कि अब 6 वर्ष तक की आयु के बच्चांे को रचनात्मक गतिविधियांे के जरिए प्रारंभिक शिक्षा दी जाएगी। इसके लिए सभी आंगनबाड़ी केन्द्रांे पर शिक्षण सामग्री उपलब्ध कराई गई है। उन्हांेने अभिभावकांे से अपने बच्चांे को नियमित रूप से आंगनबाड़ी पाठशाला भेजने का अनुरोध किया। इस दौरान जिला कलक्टर सुधीर शर्मा, जिला प्रमुख श्रीमती प्रियंका मेघवाल, यूआईटी चैयरमैन डा.प्रियंका चौधरी, मुख्य कार्यकारी अधिकारी एम.एल.नेहरा समेत अन्य अतिथियांे ने शिक्षण सामग्री किलकारी का विमोचन किया। इसके उपरांत आंगनबाड़ी पाठशाला मंे अतिथियांे ने बच्चांे को शिक्षण सामग्री वितरण की। इससे पहले कार्यक्रम की शुरूआती सरस्वती की तस्वीर पर माल्यार्पण एवं अतिथियांे के स्वागत के साथ हुई। कार्यक्रम का संचालन कार्यक्रम अधिकारी महिला अधिकारिता प्रहलादसिंह राजपुरोहित ने किया। समारोह के दौरान धारा संस्थान के महेश पनपालिया, समाजसेवी मोहनलाल कुर्डिया, महिला एवं बाल विकास अधिकारी नरपतसिंह, विद्यालय के संस्था प्रधान, महिला एवं बाल विकास विभाग के देवदत्त शर्मा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता सुनीता समेत कई गणमान्य नागरिक उपस्थित रहे।

जिला कलक्टर हुए बच्चांे से रूबरूः जूनी आटी मंे आयोजित जिला स्तरीय कार्यक्रम के दौरान जिला कलक्टर सुधीर शर्मा बच्चांे से रूबरू हुए। उन्हांेने सवाई, जीया समेत कई बच्चांे से उनके बारे मंे जानकारी ली। उन्हांेने बच्चांे से हाथ मिलाकर उनको प्रोत्साहित किया। जिला कलक्टर शर्मा ने आंगनबाड़ी पाठशाला मंे आयोजित होने वाली नियमित गतिविधियांे को देखने के साथ उपस्थित जन समूह एवं अतिथियांे को प्रार्थना तन भी सुंदर,मन हो सुंदर करवाई।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top