edvertise

edvertise
barmer



चैहटन नगरी में आचार्यश्री का नगर प्रवेश आज।

आचार्य श्री के आगमन को लेकर तैयारियों जोरों पर।





चैहटन, 4 जनवरी। खरतरगच्छाचार्य जिनपीयूषसागरसूरीश्वर म.सा. आदि ठाणा 5 का पांडवों की तपोभूमि चैहटन नगर प्रवेश गंुरूवार को होगा।

जैन श्रीसंघ चैहटन के अध्यक्ष हीरालाल धारीवाल ने बताया कि खरतरगच्छाचार्य जिनपीयूषसागरसूरीश्वर म.सा. आदि ठाणा 5 का चैहटन नगर प्रवेश 5 जनवरी गुरूवार को प्रातः 9 बजे विरात्रा चैराहा से होगा। प्रवेश शोभायात्रा में बैंड, सिर पर मंगल कलश धारण किए महिला मंडल, बालिका मंडल, जैन ध्वज लिए पाठशाला के बच्चे, पुरूष वर्ग, महिला वर्ग रहेगें।

इन मार्गो से गुजरेगी प्रवेश शोभायात्रा- आचार्य श्री के प्रवेश की शोभायात्रा केलनोर चैराहा से सामैया के साथ प्रारम्भ होकर मुख्य बाजार, गायत्री चैक, जगदम्बा चैक, पुलिस थाना, पिपली चैक, जैन दादावाड़ी, सुन्दर नगर होते हुए शांतिनाथ जैन मन्दिर पहुंचकर धर्मसभा में परिवर्तित होगी जहां पर आचार्य भगवंत एवं स्थानीय वक्ताओं का उद्बोधन होगा। कार्यक्रम के पश्चात् जिनआनंद मंडल द्वारा जैन दादावाड़ी में साधार्मिक वात्सल्य का आयोजन किया गया है।

स्वागत द्वारों एवं होर्डिंगों से सजा नगर- 18 वर्षों की लम्बी अवधि के पश्चात् आचार्य भगवंत के नगर में आगमन की खुशी को देखते हुए मंगल प्रवेश को लेकर तैयारियों जोरों पर है। वहीं आचार्य श्री के चैहटन नगर आगमन को लेकर चैहटन नगर में जैन एवं जैनतर समुदाय में खुशी और उत्साह का माहौल है। गौरतलब है कि लगभग 18 वर्ष पूर्व सन् 1998 में खरतरगच्छाधिपति आचार्य भगवंत जिनमहोदयसागरसूरीश्वर म.सा. का चैहटन नगर में चातुर्मास सम्पन्न हुआ था तथा चातुर्मास के दरम्यान महामंगलकारी उपधान तप की आराधना सम्पन्न हुई थी। जिसके पश्चात् अब 18 वर्षो के लम्बे अन्तराल के बाद उन्हीं के पट्टधर शिष्य व वर्तमान खरतरगच्छ के पट्टधर आचार्य जिनपीयूषसागर सूरीश्वर म.सा. का चैहटन नगर में आगमन हो रहा है।

ये मंडल लगे है शोभायात्रा सफल बनाने में- आचार्य भगवंत के नगर में आगमन को लेकर प्रवेश शोभायात्रा को सफल बनाने के लिए विचक्षण मंडल, जिनशासन विहार सेवा ग्रुप, विचक्षण महिला मंडल, जिनआनंद मंडल, वीतराग संस्कार वाटिका, मित्र मंडल, कुशल हेम बालिका मंडल, कुशल हेम महिला मंडल, कुशल हेम युवा परिषद सहित जैन समाज के अन्य संस्थाएं जोर-शोर से तैयारियों में लगी हुई है। पुरे नगर में आचार्य के छतीस गुणों के अनुसार 36 तोरणद्वार, होर्डिंग, बैनर इत्यादि लगे हुए है। प्रवेश शोभायात्रा में बाड़मेर, सूरत, जोधपुर, बालोतरा, धोरीमन्ना सहित देश के विभिन्न अचंलो से गुरूभक्त शिरकत करेगें।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top