edvertise

edvertise
barmer




पौष शुक्ल पक्ष त्रयोदशी को जसोल धाम पर भरा मेला, मांजीसा को लगाई धोक
जोधपुर, पाली, नागौर, जैसलमेर और आसपास के जिलों से बड़ी संख्या में पहुंचे श्रद्धालु, कई पैदल संघ भी पहुंचे

  जसोल
पौषशुक्ल की त्रयोदशी पर मंगलवार को जसोल धाम माजीसा मंदिर में मेले का आयोजन हुआ। मेले में दूर-दराज से आए पैदल जातरुओं के जत्थे हाथों में ध्वज पताकाएं लिए ढोल-नगाड़ों के साथ नाचते-गाते हुए जसोल धाम पहुंचे। श्रद्धालुओं के मां के जयकारे लगाने से मंदिर परिसर गूंज उठा। मेले में बालोतरा, पचपदरा, सिवाना, सिणधरी, गुड़ामालाणी, चौहटन, शिव, रामसर, बायतु, बाड़मेर, जैसलमेर, जोधपुर, पाली, नागौर, जालोर, सिरोही सांचौर के अलावा गुजरात महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश के भी श्रद्धालु मां के दर्शनार्थ जसोल पहुंचे। श्रद्धालुओं ने घंटों प्रतीक्षा के बाद आई बारी पर मां के दरबार में शीश नवा, कुमकुम, चुंदड़ी प्रसाद चढ़ाकर परिवार में खुशहाली की कामना की। सवेरे से ही मंदिर में दर्शनार्थियों के आवागमन का सिलसिला शुरू हो गया था, जो कि दिन चढ़ने के साथ ही बढ़ता गया।

झूमते-गातेसंघ के साथ पहुंचे श्रद्धालु : त्रयोदशीको माजीसा के दर्शन के लिए बाड़मेर, जोधपुर, नागौर, जालोर, पाली जैसलमेर सहित अन्य जिलों से लंबी दूरी तय कर पैदल जत्थों के रूप में श्रद्धालु मंदिर पहुंचे। डीजे साउंड पर माजीसा के भजनों पर झूमते नाचते श्रद्धालु माजीसा की भक्ति में रंगे नजर आए। मंदिर पहुंचते ही माजीसा की प्रतिमा के समक्ष नतमस्तक होकर शीश नवाया और खुशहाली की कामना की।

मनोकामनापूरी होने पर दिए रातिजोगे : मनोकामनाएंपूर्ण होने पर कई श्रद्धालुओं ने तेरस के अवसर पर मंदिर परिसर में रातिजोगा दिया। सारी रात मंदिर में भजन-कीर्तन की रसधारा बही। त्रयोदशी को ब्रह्ममुहूर्त में मंदिर के दरवाजे खुलते ही बड़ी संख्या में श्रद्धालु उमड़े। मां की मंगल आरती उतार कर, शीश नवा, प्रसाद चढ़ा परिवार में खुशहाली की कामना की। त्रयोदशी को लेकर माता राणी भटियाणी की प्रतिमा को नव वस्त्राभूषण से शृंगारित किया गया।

मांके जयकारों से गूंजा मंदिर :त्रयोदशी के मेले में मंदिर परिसर में श्रद्धालुओं के जयकारों से माहौल गूंज उठा। जयकारों के चलते पूरे दिन मंदिर का माहौल धर्ममय रहा। श्रद्धालुओं ने मंदिर परिसर में स्थित सवाईसिंहजी, लालसिंह बायोसा मंदिर में भी विधि-विधान से पूजा-अर्चना की। दिनभर श्रद्धालुओं की भारी आवाजाही के चलते मंदिर प्रांगण छोटा नजर रहा था। शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी के अवसर पर कई नव-विवाहित जोड़ों ने छेड़ा बंदी बांधकर सुखी दांपत्य जीवन की कामना को लेकर मां के दरबार में जात लगाई। छेड़ा बंदी जात देने वालों के लिए सुरक्षाकर्मियों की ओर से अलग से व्यवस्था की गई।

मंदिरके बाहर सजी दुकानें :मेले के आयोजन को लेकर मंदिर परिसर तथा बस स्टैंड के आसपास के क्षेत्रों के दुकानें सजाई गई। दुकानदारों की ओर से ग्राहकों को अपनी ओर आकर्षित करने के लिए दुकानों को आकर्षक ढंग से सजाया गया। दुकानों से दर्शनार्थियों ने माजीसा के भजनों की सीडी, कैसेट तस्वीर आदि सामग्रियां खरीदी।

वहीं प्रसादी की दुकानों पर दिनभर रौनक रही। मंदिर परिसर में पहुंचे बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने माजीसा का वागा, फूल-माला, नारियल, मखाणा प्रसाद का चढ़ावा किया। हजारों श्रद्धालुओं की ओर से चढ़ाए गए चढ़ावे से मंदिर परिसर में चढ़ावे के ढेर लग गए, जिसे व्यवस्थित करने में तीर्थ ट्रस्ट के पदाधिकारियों के मशक्कत करनी पड़ी।




0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top