edvertise

edvertise
barmer

 जालोर   सरकार रे सागे लागो, नी करो सियासत

जयपुर, 4 अगस्त। ‘‘हमने हमारे जीवन में पानी का ऐसा प्रकोप कभी नहीं देखा। ऐसा भयावह मंजर था कि रोंगटे खडे़ हो गए। एक बार को ऐसा लगा कि सब कुछ तहस-नहस हो जाएगा। आगे की जिंदगी कैसी चलेगी, लेकिन ईश्वर पर भरोसा, प्रशासन की मेहनत और अथक प्रयास साथ ही भामाशाहों का सहयोग। हमें इस संकट की घड़ी से बाहर निकाल लाए। पानी तो अभी भरा है, लेकिन राहत और बचाव कार्य जिस गति से चल रहे हैं, उससे पूरी उम्मीद है कि जल्द ही हमारी खुशियां फिर लौट आएंगी। सरकार के साथ-साथ सब मिलकर पानी में फंसे लोगों के लिए फरिश्ते बनें न कि फालतू की राजनीति करें।‘‘
यह कहना है चितलवाना और सांचैर उपखण्ड के बाढ़ में डूबे उन गांव वालों का जिन्होंने आपदा के हर क्षण का साक्षात्कार किया है। संकट के उस सैलाब के 12 दिन बाद हम फिर उन गांवों में पहुंचे जहां बाढ़ का प्रकोप ज्यादा रहा। गांववासियों से बातचीत कर उनका हाल जाना। बाढ़ के खौफनाक मंजर से उभरते हुए लोगों की दास्तां उन्हीं की जुबानी-
सरकार रो बंदोबस्त घणों हो
चितलवाना पुलिस थाने के पास अपनी बहुओं व पोते-पोतियों के साथ जा रही 60 वर्षीय मोरी मेघवाल ने बताया कि ‘‘इण वरस पाणी घणों आयो पण सरकार री तरफ हूं बंदोबस्त घणों हो, जिणरे कारण हाय तौबा नी मची। पण म्हारो ओ कैणो है कि सरकार रे सागे दूजा लोग भी पाणी में फंस्योड़ा लोगां रे वास्त कोई इंतजाम करे नी कै फालतू री राजनीति करे‘।
मंजर भयानक था, पर प्रशासन ने ली समय पर सुध
सिवाड़ा में चाय की थड़ी पर बैठे चितलवाना के 50 वर्षीय लादूराम विश्नोई का कहना था कि इस क्षेत्रा में पहले भी बारिश और बाढ़ आई, लेकिन इस बार बरसात की तीन दिन की लगातार झड़ी ने हमें हिलाकर रख दिया, जिधर देखो उधर पानी ही पानी था। ईश्वर की मेहरबानी रही कि आकाश साफ हो गया और पानी उतर गया। वहीं जिला प्रशासन और भामाशाहों ने समय पर पहुंचकर हमारी सुध ली। आस-पास के गांवों में पानी अभी भरा है, लेकिन चितलवाना में जनजीवन सामान्य हो गया है। राशन-पानी की कोई कमी नहीं है। उन्होंने आमली रोड पर नाले के निर्माण की आवश्यकता जताई ताकि बारिश में परेशानी नहीं हो।
रास्ते खुले, सगे-सम्बंधी आने लगे हैं हाल जानने
सिवाड़ा मंे ही ई-मित्रा चलाने वाले 36 वर्षीय युवा भगवाना राम ने बताया कि पिछले चार दिनों से इन्टरनेट सेवाएं बन्द थीं, जिसके कारण कोई काम नहीं हुआ, लेकिन अब इन्टरनेट सेवाएं और बिजली आपूर्ति सुचारू हो गई है और रास्ते भी खुल गए हैं। इससे ग्रामीण युवा अपने सगे-सम्बंधियों से हाल-चाल जानने आने लगे हैं। प्रशासन हमारी पूरी मदद कर रहा है।
राशन सामग्री खूब आई
चितलवाना की 35 वर्षीय मरेमो देवी पत्नी भगोजी चैधरी का कहना था कि हमारे खेत ऊंचाई पर होने के कारण बाढ़ के प्रकोप से बच गए, लेकिन आस-पास के खेतों और घरों में पानी भर गया। इनमें से कई लोगों ने अपने मवेशियों सहित हमारे यहां शरण ली। इस दौरान सरकार और दानदाताओं की ओर से राहत सामग्री और राशन आदि के पैकेट खूब आए, लेकिन हमारे पास पहले से ही पर्याप्त भोजन-पानी होने के कारण हमने नहीं लिया ताकि दूसरे जरूरतमंद लोगों को वह राशन सामग्री मिल सके।
भोजण-पाणी री कोई कमी कौनी
चितलवाना गांव के बाहर सड़क और खेतों में भरे पानी से बाहर निकलते हुए 50 वर्षीय भगाजी और 40 वर्षीय अणदाजी ने बताया कि भगवान री मेहरबानी हूं पाणी घणो बरस्यो ने रास्ता रूक्या पण अबार तांई म्हाण लोगां री आवाजाही चालू है, अर प्रशासन अर दानदाताओं रे माध्यम सूं भोजन-पाणी रै पैकेट री कोई कमी कौनी, पण इण क्षेत्रा में पाणी पड्यो रैवेला जिणसू म्हाने कोई तकलीफ कौनी, क्यूंकि इण क्षेत्रा री जमीं माथे नमक री मात्रा घणी वेवारे कारण ओ पाणी पड्यो रैवेला।
 
जालोर में राहत कार्य जारी
शुक्र्रवार को भी विभिन्न गांवों में पहुंचाई राहत एवं खाद्य सामग्री
पानी से घिरे आकोड़िया व हाजीपुर के बाशिंदों को नाव से राहत सामग्री पहुंचाई



जालोर, 4 अगस्त। जालोर जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में शुक्रवार को भी जिला प्रशासन की ओर से राहत एवं बचाव कार्य युद्ध स्तर पर जारी रहे। बाढ़ प्रभावित विभिन्न गांवों में जिला प्रशासन के सहयोग से खाद्य एवं अन्य सामग्री भिजवाई। साथ ही बाढ़ में मृत लोगों के आश्रित परिवारो को सहायता राशि के चैक वितरित किए।
जिला कलेक्टर श्री एल.एन. सोनी ने बताया कि शुक्रवार को चितलवाना से 60 किलोमीटर दूर चारों तरफ पानी से घिरे आकोड़िया व हाजीपुर के बाशिंदों को नाव के माध्यम से राहत सामग्री पहुंचाई गई। इसमें सेना एवं एनडीआरएफ की मदद ली गई। सेड़िया ग्रुप के अनिल कुमार खिलेरी ने बाढ़ प्रभावितों की मदद के लिए भोजन के 300 सौ पैकेट प्रशासन को सौंपे। उपखण्ड अधिकारी मुरारी लाल शर्मा ने सेना के साथ समन्वय कर इस राहत सामग्री को जरूरतमंदों तक पहुंचाया।
इसी प्रकार प्रशासन ने वर्धमान जैन संघ की ओर से प्राप्त खाद्य सामग्री काछेला गांव के बाढ़ प्रभावित लोगों को पहुंचाई। एनडीआरएफ के सहयोग से भवातड़ा, कुकड़िया, दूठवा व रिड़का में जरूरतमंदों को खाद्य सामग्री पहुंचाई गई। मुख्य रास्तों से जुड़े तथा बाढ़ से कम प्रभावित गांवों में गिरदावरों, पटवारियों, ग्राम सचिव, ग्राम पंचायत एवं अन्य जनप्रतिनिधियों-कार्मिकों के साथ चैपहिया वाहनों में भरकर खाद्य सामग्री वितरित की गई।
चितलवाना उपखण्ड अधिकारी श्री मुरारीलाल शर्मा ने बताया कि 31 जुलाई व 1 अगस्त को तीस गांवों में हेलीकाॅप्टर के माध्यम से राहत सामग्री पहुंचाई गई। हालांकि पानी से घिरे कई परिवारों ने पहले से ही महीनेभर की राशन सामग्री स्टाॅक कर रखी है। चितलवाना उपखण्ड क्षेत्रा में राज्य स्तरीय चार मेडिकल टीमों ने विभिन्न गांवों में शिविर लगाकर लोगों का उपचार किया। गुरूवार को परावा, आकोली, कलबियों की ढाणी, खिरोड़ी, हालिवाव एवं मेधावा गांवों में शिविर लगाए गए।
मृतक आश्रितों को सहायता राशि के चैक सौंपे
जिला प्रशासन की ओर से शुक्रवार को बाढ़ के कारण मौत होने पर मृतक आश्रित परिवारों को चार-चार लाख रूपए की सहायता राशि के चैक वितरित किए गए है। रानीवाड़ा उपखण्ड में विधायक श्री नारायण सिंह देवल ने गांव बामनवाड़ा के जयंतीलाल और मावाराम को सहायता राशि के चैक सौंपे। बाढ़ के दौरान जयंतीलाल के पुत्रा पिंटू कुमार तथा मावाराम की पुत्राी तेजल की मौत हो गई थी। इस अवसर पर उपखण्ड अधिकारी रानीवाडा़ श्री हनुमान सिंह राठौड़ तथा तहसीलदार सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा अधिकारी उपस्थित थे।
इसी तरह जालोर उपखण्ड के आकोली में विधायक श्री शंकर सिंह राजपुरोहित ने पीड़ित परिवार के पदमाराम को सहायता राशि का चैक सौंपा। पदमाराम के पुत्रा नैनाराम की बाढ़ के दौरान मौत हो गई थी। इस अवसर पर जिला प्रमुख श्री वन्ने सिंह, उपखण्ड अधिकारी श्री राजेन्द्र सिंह सिसोदिया सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा अधिकारीगण उपस्थित थे।
इसी तरह भीनमाल उपखण्ड के ग्राम दांतीवास में मृतक आश्रित परिवार के बगदाराम भील तथा मोडाराम भील को सहायता राशि के चैक वितरित किए गए। बाढ़ में बगदाराम के पुत्रा निम्बाराम तथा मोडाराम की पुत्राी पूजा की मौत हो गई थी। विधायक श्री पूराराम चैधरी ने पीड़ित परिवारों को चैक सौंपे। इस अवसर पर भीनमाल के उपखण्ड अधिकारी श्री दौलतराम सहित अन्य जनप्रतिनिधि तथा अधिकारी उपस्थित थे।
चितलवाना का 33 केवी जीएसएस शुरू
अतिवृष्टि से बाधित हुए चितलवाना के 33 केवी जीएसएस को शुक्रवार को ठीक कर उससे बिजली आपूर्ति सुचारू कर दी गई। मौके पर मौजूद कनिष्ठ अभियंता श्री मांगीलाल ने बताया कि 26 जुलाई की रात को बरसात के दौरान बिजली गिरने से जीएसएस का ट्रांसफार्मर जल गया था। कार्मिकों ने दूसरे दिन 27 जुलाई को इसे सिवाड़ा जीएसएस से जोड़कर बिजली आपूर्ति चालू कर दी थी। शुक्रवार को जोधपुर से नया ट्रांसफार्मर मंगवाकर इस जीएसएस को पुनः चालू कर दिया गया है। इसी प्रकार हाडे़चा जीएसएस के लिए भी शुक्रवार को नया ट्रांफार्मर पहुंच गया है। इसे भी ठीक करने की प्रक्रिया चालू कर दी है। शीघ्र ही इससे बिजली आपूर्ति सुचारू हो जाएगी।
 
---000---
मंत्राी गोयल शनिवार को जलदाय विभाग के अधिकारियों की बैठक लेंगे
जालोर, 4 अगस्त । राज्य के जन स्वास्थ्य अभियान्त्रिाकी मंत्राी सुरेन्द्र गोयल 5 अगस्त शनिवार को कलेक्टेªट सभागार में जन स्वास्थ्य अभियान्त्रिाकी एवं भू-जल विभाग के समस्त अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे।
जिला कलक्टर एल.एन.सोनी ने बताया कि राज्य के जन स्वास्थ्य अभियान्त्रिाकी एवं भू-जल विभाग के मंत्राी सुरेन्द्र गोयल 5 अगस्त शनिवार को दोपहर 1.30 बजे सिरोही से प्रस्थान कर दोपहर 2.50 बजे सर्किट हाऊस जालोर पहुंचेंगे तथा दोपहर 3 बजे कलेक्टेªट सभागार में जिले के जन स्वास्थ्य अभियान्त्रिाकी एवं भू-जल विभाग के समस्त अधिकारियों एवं जनप्रतिनिधियों के साथ बैठक करेंगे तत्पश्चात् सायं 5 बजे जालोर से पाली के लिए रवाना होंगे।
---000---
विशेष योग्यजन आयुक्त बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे


जालोर, 4 अगस्त। राज्य के विशेष योग्यजन आयुक्त धन्नाराम पुरोहित 6 से 8 अगस्त तक जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा करेंगे तथा विभिन्न राजकीय कार्यक्रमों में भाग लेंगे।
जिला कलक्टर एल.एन.सोनी ने बताया कि राज्य के विशेष योग्यजन आयुक्त (दर्जा राज्य मंत्राी) धन्नाराम पुरोहित 4 अगस्त को दोपहर 3 बजे जयपुर से जालोर के लिए प्रस्थान करेंगे। विशेष योग्यजन आयुक्त 6 से 8 अगस्त तक जिले के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर बाढ़ प्रभावितों से मुलाकात करेंगे तथा अधिकारियों से चर्चा कर समाधान के निर्देश देंगे साथ ही विभिन्न राजकीय कार्यक्रमों में भाग लेंगे। आयुक्त 9 अगस्त को प्रातः 4 बजे जालोर से जयपुर के लिए प्रस्थान करेंगे।
---000---
राजस्व मंत्राी चैधरी शनिवार को सांचैर के दौरे पर

जालोर, 4 अगस्त। राज्य के राजस्व मंत्राी अमराराम चैधरी 5 अगस्त शनिवार को सांचैर में बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करेंगे।
जिला कलक्टर एल.एन.सोनी ने बताया कि राज्य के राजस्व, उपनिवेशन, सैनिक कल्याण एवं पुनर्वास विभाग के राज्य मंत्राी (स्वतंत्रा प्रभार) अमराराम चैधरी 5 अगस्त शनिवार को प्रातः 8 बजे बालोतरा से प्रस्थान कर प्रातः 10 बजे सांचैर पहुंचेंगे जहां वे क्षेत्रा के पूर्व विधायक जीवाराम चैधरी के साथ सांचैर क्षेत्रा के बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों का दौरा करेंगे तथा बिजरोल खेडा ग्राम में आयोजित कार्यक्रम में भाग लेंगे तत्पश्चात् बिजरोल खेड़ा से दोपहर 4 बजे बालोतरा के लिए प्रस्थान करेंगे।
---000---

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top