edvertise

edvertise
barmer



गैगस्टर आनन्द पाल मामला  पुलिस अफसरों पर हमला, हथियार लूटकर भागे उपद्रवी,सावंरदा रेलवे स्टेशन को आग लगाई

नागौर./ सांवराद में गैंगस्टर आनंदपालसिंह की श्रद्धांजलि सभा में शामिल होने पहुंचे युवकों ने बुधवार शाम को जमकर उत्पात मचाया। सभा के दौरान ही हजारों की संख्या में उपद्रवी युवक सांवराद रेलवे स्टेशन पहुंच गए तथा वहां पहुंचकर रेलवे पटरियां उखाड़ दी। इसकी सूचना मिलने पर नागौर एसपी परिस देशमुख, आईपीएस प्रशिक्षु मोनिका पुलिस बल के साथ रेलवे स्टेशन पहुंचे, जहां पहुंचते ही उत्पाती युवकों ने पुलिस अधिकारियों पर हमला कर दिया। एसपी के गनमैन ने बीच-बचाव करने का प्रयास किया, लेकिन युवकों ने गनमैन के साथ गंभीर मारपीट कर दी तथा महिला पुलिस अधिकारी के साथ अभद्रता की।

सूत्रों के अनुसार युवकों ने एसपी के साथ भी धक्का-मुक्की की। इस दौरान उपद्रवी युवक पुलिस पर हावी हो गए तथा गनमैन की एके-47, तीन पिस्तौल, तीन वायरलैस सेट लूटकर भाग गए। स्थिति की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने अपने कदम पीछे कर लिए, पीछे से उपद्रवी युवकों ने एक पुलिस अधिकारी की गाड़ी को जला दिया। देर रात युवकों ने सांवराद के रेलवे स्टेशन को भी आग लगा दी। यह भी जानकारी में आया है कि पुलिस के कुछ जवान लापता हैं, जिन्हें उपद्रवी अपने साथ ले गए।

नागौर में मचाया उत्पात, दो दर्जन से अधिक गिरफ्तार

सांवराद में बुधवार को आयोजित श्रद्धांजलि सभा में भाग लेकर वापस लौटते समय नागौर शहर के विजय वल्लभ चौराहे पर युवकों ने काफी उत्पात मचाया। इसकी जानकारी मिलने पुलिस अधिकारी मय जाब्ता मौके पर पहुंचे तथा युवकों से समझाइश कर रवाना होने के लिए कहा, लेकिन वे नहीं माने। इस पर पुलिस ने करीब दो दर्जन से अधिक युवकों को हिरासत में लिया तथा गाडि़यां जब्त कर ली। उधर, सांवराद में पुलिस जवानों से एके-47 एवं पिस्तौल लूटने की सूचना मिलने पर पुलिस ने जिलेभर में वायरलैस मैसेज करवाकर बाहर जाने वाले हर वाहन की जांच शुरू कर दी।नागौर में युवकों द्वारा उत्पात मचाने तथा पुलिस द्वारा युवकों को हिरासत में लेने की जानकारी मिलने पर एडीएम सीआर झाझडिया, एएसपी राजकुमार चौधरी, एसडीएम परसाराम टाक, कोतवाली थानाधिकारी नंदराम भादू सहित अन्य पुलिस अधिकारी भी मौके पर पहुंच गए। पुलिस देर रात तक डीडवाना व लाडनूं की ओर से आने वाले वाहनों की जांच कर रही थी।

एक घायल की मौत

सांवराद रेलवे स्टेशन पर पुलिस व उपद्रवी युवकों के बीच हुई झड़प में घायल एक युवक की इलाज के लिए जयपुर ले जाते समय रास्ते में मौत हो गई, जबकि दो घायलों को जयपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पुलिस व रेलवे पुलिस के कुल १६ जवान घायल हुए हैं, जिनका डीडवाना में उपचार चल रहा है। जानकारी के अनुसार पुलिस व उत्पाती युवकों की झड़प में घायल लालचंद को डीडवाना के अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां स्थिति गंभीर होने पर उसे जयपुर रेफर किया गया, जयपुर ले जाते समय रास्ते में लालचंद ने दम तोड़ दिया। अन्य घायल महेन्द्रसिंह व विक्रमसिंह को जयपुर के अस्पताल में भर्ती कराया गया है। एक अन्य एक अन्य घायल नंदसिंह का डीडवाना में उपचार चल रहा है। घायल युवकों ने आरोप लगाया कि पुलिस ने उन पर फायरिंग की। उधर, पुलिस अधिकारियों का कहना है कि पुलिस की ओर से फायरिंग नहीं की गई।

ये पुलिसकर्मी हुए घायल

पुलिस पक्ष की ओर से जोधपुर आरपीएफ के मनीष कुमार, डीडवाना जीआरपी के कांस्टेबल वीरेन्द्रसिंह, मेड़ता रोड आरपीएफ निरीक्षक हरिङ्क्षसह, जोधपुर आरपीएफ के कांस्टेबल भगवानाराम, बलवानसिंह, निहालसिंह गुर्जर, हैड कांस्टेबल अजीज, बतराम मीणा, जीआरपी मेड़ता रोड के एसएचओ अनोपसिंह, जोधपुर आरपीएफ के अशोक कुमार सैनी, जयपुर आरएसी के हैड कांस्टेबल सुरेश कुमार, नागौर एसपी के गनमैन महावीर, नागौर पुलिस का कांस्टेबल पुरखाराम, आरएसी जयपुर के हैड कांस्टेबल भंवरलाल, आरपीएफ अजमेर के कांस्टेबल शंकर रावत एवं आरएसी जयपुर के कांस्टेबल जयसिंह घायल हो गए।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top