edvertise

edvertise
barmer



सांसद देवजी पटेल मिले मुख्यमंत्री से

माही परियोजना से किसानों को सिंचाई हेतु पानी उपलब्ध करवाने के लिए प्री फिजेबिलिटी रिपोर्ट सर्वे शीघ्र करवाया जायें - सांसद देवजी पटेल

नर्मदा नहर परियोजना का पानी जालोर एवं सिरोही जिले में उपलब्ध करवाने की रखी मांग

जयपुर। 16 मार्च, 2017 गुरूवार।

जालोर-सिरोही सांसद देवजी पटेल ने गुरूवार को जयपुर में मुख्यमंत्री आवास में मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे से मुलाकात कर जालोर एवं सिरोही में पेयजल हेतु नर्मदा नहर परियोजना का पानी उपलब्ध करवाने एवं किसानों को सिंचाई हेतु माही परियोजना का पानी के लिए प्री फिजेबिलिटी सर्वे करवाने की मांग रखी।

किसानों को सिंचाई हेतु माही परियोजना का पानी उपलब्ध करवाने के लिए प्री फिजेबिलिटी सर्वे शीघ्र करवाया जायें: सांसद पटेल ने मुख्यमंत्री से चर्चा के दौरान बताया कि जालोर, बाड़मेर, सिरोही, पाली जिले पिछड़े जिले की श्रेणी में हैं। इन जिलों में पानी की भयंकर कमी हैं। जालोर जिले का कुछ भाग एवं बाड़मेर जिले का अधिकांश भाग मरूस्थलीय हैं। दोनांे जिलों की अधिकांश जमीन सरफेस एवं ग्राउण्ड वाटर की कमी के कारण बंजर पड़ी हैं। कृषक मानसुन के इंतजार रहते है व अच्छी वर्षा होने पर ही एक फसल (मानसून) ले पाते हैं। अन्यथा अकाल की स्थिति बन जाती हैं। जालोर जिले की औरत वर्षा 459 एम.एम हैं। जो राज्य के अन्य विकसित जिलों से बहुत कम हैं। जालोर, बाड़मेर, सिरोही जिले में पेयजल एवं सिंचाई हेतु पानी की गंभीर समस्या होने से दैनीक उपयोग में पेयजल एवं मवेशियों हेतु भी न्यूनतम आपूर्ति नहीं हो पा रहा हैं। अत्याधिक भू-जल दोहन के कारण इन जिलों में जल स्तर काफी नीचे चला जाने की वजह से जालोर, सिरोही, बाड़मेर जिलों को केन्द्रीय भू जल प्राधिकरण द्वारा डार्क जोन की श्रेणी में घोषित किया जा चुका हैं। ऐसी विषम परिस्थितियों में एक मात्र माही बांध/नदी का पानी ही इन जालोर, बाड़मेर जिले की पेयजल एवं सिंचाई के पानी की समस्या का स्थाई समाधान हैं। जबकि वर्तमान में राजस्थान के हक का माही बांध का अधिशेष पानी गुजरात राज्य उपयोग कर रहा हैं। माही बांध/नदी का अधिशेष (सरप्लस) पानी की उपलब्धता एवं इसे अभावग्रस्त क्षेत्रों में अपवर्तन/स्थानान्तरित करने के परिप्रेक्ष्य तथ्य प्रमाणित किये हैं। जिसके अनुसार माही बांध/नदी कछार से अधिशेष जल गुरूत्वाकर्षण द्वारा सामान्य प्रवाह से जालोर, सिरोही, बाड़मेर के अभवग्रस्त क्षेत्रों में स्थानान्तरित किया जा सकता हैं। योजना के क्रियान्वयन में तकनीकी दृष्टि से काई अवरोध नहीं हैं। माही परियोजना के संबंध में मंत्री अध्यक्षता में प्रदेश स्तर पर दिनांक 25.02.2015 को कमेटी का गठन भी किया गया हैं। इस कमेटी में क्षेत्र के स्थानीय जनप्रतिनिधियों को सम्मिलित किया जायें ताकि क्षेत्र से संबंधित अपने सुझाव दे सके एवं कमेटी की नियमित बैठकें आयोजित कर चर्चा कर प्रस्ताव लिये जायें। उन्होंने जालोर, बाड़मेर सिरोही जिलों में पयेजल एवं सिंचाई की समस्या को मध्यनजर रखते हुए इनके स्थाई समाधान हेतु माही बांध/नदी का पानी उपलब्ध करवाने हेतु प्री फिजेबिलिटी सर्वे शीघ्र करवाया जायें।




।। 02 ।।

नर्मदा परियोजना का नीर पेयजल हेतु जालोर एवं सिरोही जिले में उपलब्ध करवाया जायें: सांसद पटेल ने मुख्यमंत्री राजे से मुलाकात के दौरान जालोर एवं सिरोही जिले में नर्मदा नहर परियोजना का नीर उपलब्ध करवाने की मांग रखते हुए कहा कि जालोर, सिरोही जिले में पेयजल सबसे बड़ी समस्या हैं। क्षेत्र में गिरते भू-जल स्तर एवं फ्लोराईड युक्त पानी क्षेत्र के लोगों के लिए एक भयंकर समस्या हैं। जालोर जिले में पेयजल व्यवस्था हेतु नर्मदा नहर परियोजना पर एफ.आर, ई.आर, डी.आर प्रोजेक्ट एवं कलस्टर योजनाओं के कार्य वर्तमान में प्रगतिरत हैं। लेकिन लम्बा समय गुजर जाने के बाद भी कार्य पूर्ण नहीं किया गया हैं। अतः उक्त परियोजनाओं अतिशीघ्र पूर्ण करवाकर पेयजल उपलब्ध करवाया जायें। सिरोही जिले में नर्मदा नहर परियोजना का पानी उपलब्ध करवाने के लिए योजना बनाई जायें ताकि लोगों को पेयजल समस्या से निजात मिल सकें।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दिये निर्देष: चर्चा के दौरान मुख्यमंत्री वसुन्धरा राजे ने विभाग के मुख्य सचिव को दूरभाष पर निर्देशित करते हुए किसानों को सिंचाई हेतु माही परियोजना का पानी उपलब्ध करवाने के लिए प्री फिजेबिलिटी सर्वे शीघ्र करवाने की बात कही।

विभागीय अधिकारियों के साथ लेंगे बैठक: सांसद देवजी पटेल के नेतृत्व में स्थानीय जिले के जनप्रतिनिधि माही परियोजना से किसानों को सिंचाई हेतु पानी उपलब्ध करवाने के लिए प्री फिजेबिलिटी सर्वे के संबंध में विभागीय अधिकारियों के साथ बैठक कर चर्चा करेंगे।

यह जनप्रतिनिधि भी रहे मौजूद: सांसद देवजी पटेल ने मुख्यमंत्री से मुलाकात के दौरान रानीवाड़ा विधायक नारायणसिंह देवल, भीनमाल विधायक पूराराम चैधरी, आहोर विधायक शंकरसिंह राजपुरोहित, जालोर विधायक अमृता मेघवाल, पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष अमीचंद जैन मौजूद थे।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top