edvertise

edvertise
barmer




जैसलमेर में बालिका बचाओ-बालिका पढ़ाओ के संबंध में वृहद विधिक जागरूकता षिविर का आयोजन
न्यायाधिपति श्री व्यास एवं श्री माथुर ने आम जन को बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का दिया संदेष

सृष्टि का आधा भाग बचेगा एवं षिक्षित होगा तभी समाज का उत्थान संभव- न्यायाधिपति श्री व्यास

महिलाओं एवं बालिकाओ के नाम रहा विधिक जागरूकता षिविर

जैसलमेर, 29 मार्च। राजस्थान उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति के मार्गदर्षन में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के तत्वावधान में जिला प्रषासन के सहयोग से बुधवार को जैसलमेर जिला मुख्यालय पर शहीद पूनमसिंह स्टेडियम में ‘‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’’ के संबंध में वृहद विधिक जागरूकता षिविर का आयोजन अध्यक्ष राजस्थान उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति एवं न्यायाधिपति श्री गोपाल कृष्ण व्यास के मुख्य आतिथ्य एवं निरीक्षण न्यायाधिपति श्री विनीत कुमार माथुर के विषिष्ठ आतिथ्य में आयोजित हुआ। समारोह में जिला एवं सत्र न्यायाधीष श्री मदनलाल भाटी, जिला कलेक्टर श्री मातादीन शर्मा, जिला पुलिस अधीक्षक मंचासीन अतिथि के रूप में उपस्थित थे।

न्यायाधिपति श्री व्यास ने वृहद विधिक जागरूकता षिविर के महिला एवं अन्य संभागियो को संबोधित करते हुए कहा कि सृष्टि का आधा भाग बचेगा एवं पढ़ेगा तभी समाज का संर्वागीण विकास संभव है। उन्होंने कहा कि इस सीमांत जिले में वृहद विधिक जागरूकता षिविर का मुख्य उद्देष्य बालिकाओ को बचाने एवं उनको पढ़ाने के संबंध में संदेष देना है। उन्होंने कहा कि जिले में बालिका लिंगानुपात प्रदेष के अन्य जिलों से कम है वहीं यहां की धारण रही है कि लोग कुछ गांवों में बेटियों को जन्मते ही मार दिया जाता है। उन्होंने कहा कि यह समाज के लिए कंलक एवं अभिषाप से कम नहीं है इसलिए उन्होंने सभी संभागियों को संकल्प दिलाया कि जिसमें विषेष रूप से महिलाओ से कहा कि वे बच्चियों के जन्म को बढ़ावा देंगे एवं बेटी मारने की कहीं घटना होती है तो उसकी सूचना तत्काल न्याय पालिका, जिला प्रषासन एवं पुलिस को दे ताकि इस प्रकार के जघन्य अपराध को रोका जा सकें।

न्यायाधिपति श्री व्यास ने संदेष दिया कि हमें आमजन में यह धारण पैदा करनी है कि वे बेटी को भी बच्चे के जन्म की तरह उत्सव के रूप में मनाना है वहीं यह सीख देनी है कि आज के युग में बेटियां किसी भी स्तर पर बेटों से कम नहीं है। उन्होंने कहा कि इस षिविर की उपादेयता तभी सिद्ध होगी जब आने वाले समय में बेटियों का लिंगानुपात बढ़ेगा। उन्होंने कन्या भ्रुण हत्या एवं बाल विवाह रोकथाम जैसे अपराध एवं कुरीति को समाज से जड़ मूल से नष्ट करने के लिए विषेष प्रयास करने का संदेष दिया। उन्होंने कहा कि हमारे देष में प्राचीन समय से ही नारी को शक्ति का रूप माना जाता है उसी परम्परा को हमे अक्षुण्य बनाए रखना है। उन्होंने कहा कि इस पुनीत मुहिम में जन प्रतिनिधियों, महिलाओ, मीडिया प्रतिनिधियों की भी महत्ती भूमिका है एवं वे भी इस पुनीत कार्य में बढ़चढ़कर सहयोग देकर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ अभियान में सफलता प्रदान करावें। उन्होंने अक्षय तृतीय पर बाल विवाह किसी भी सूरत में न हो इसके लिए जिला प्रषासन, न्याय पालिका एवं पुलिस प्रषासन को सजग रहने के निर्देष दिए। उन्होंने कहा कि कन्या दान सबसे बड़ा दान है इसलिए यह पुण्य तभी मिलेगा जब हर घर में बेटी जन्म लेगी एवं उसका पालन पोषण कर उसको षिक्षित करके उसका विवाह अपने हाथों से करेंगे।

न्यायाधिपति ने महिलाओं एवं बेटियों से आह्वान किया कि वे बाल विवाह रोकथाम एवं कन्या भु्रण हत्या के संबंध में खुलकर आगे आए एवं इसको समाज से पूर्ण रूप से समाप्त कराने में अपनी भूमिका अदा करें। उन्होंने अपने उद्बोधन के दौरान ओसियां तहसील के ग्राम खाबड़ा रामनगर की दो बालिकाएं मूमल व गोमती बेनीवाल जो क्रमषः 15 व 13 वर्ष की थी जिनका बाल विवाह हो रहा था उन्होंने वाट्सअप पर मेसेज देने पर न्यायाधिपति श्री व्यास ने तुरन्त कार्यवाही करते हुए इन दो बालिकाओं का बाल विवाह रूकवाया की जानकारी दी एवं अन्य बालिकाओं को संदेष दिया कि 18 वर्ष से कम आयु में उनकी शादी हो तो वे भी तत्काल ही इस प्रकार की सूचना दें ताकि समय रहते इस प्रकार के बाल विवाहों को रोका जा सकें।

न्यायाधिपति श्री माथुर ने कहा कि इस जागरूकता अभियान की सफलता की प्रथम कड़ी तो यही है कि इसमें बहुत अच्छी संख्या में महिलाएं एवं बालिकाएं उपस्थित हुई हैं। उन्होंने कहा कि जैसलमेर जिले के साथ बालिका हत्या का जो कंलक लगा है उनको हम सबको मिलकर मिटाना है एवं देष में ऐसा उदाहरण करना है कि आने वाले समय में यहां पर पुरूष एवं महिला का लिंगानुपात बराबर रहे। उन्होंने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम का सघन प्रचार-प्रसार करने, बेटियों के संबंध में सामाजिक विचारधारा में बदलाव लाने की सीख दी। उन्होंने कहा कि हम आज के दिन के संकल्प ले कि बेटा-बेटी को समान समझेंगे एवं उनको उच्च षिक्षा अर्जित करवाकर समाज की मुख्य धारा से जोडेंगे। उन्होंने अधिवक्ताओं को भी इस मुहिम में आहुति देने का संदेष दिया एवं तन-मन से जुड़ने की सीख दी।

जिला कलेक्टर मातादीन शर्मा ने कहा कि आज का दिन इस जिले के लिए हर्ष का दिवस है कि न्यायाधिपति स्वयं बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के लिए इतना बड़ा कार्यक्रम रखवाया है। उन्होंने कहा कि जिले में एक हजार पुरूषों के विरूद्ध 852 महिलाएं है जो अन्य जिलों की तुलना में कम है एवं समाज के लिए चिंता का विषय है। उन्होंने कहा कि समाज के संर्वागीण विकास के लिए पुरूष एवं महिला का बराबर होना निंतात आवष्यक है एवं उन्होंने विष्वास दिलाया कि जिले में चल रहे बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ कार्यक्रम को सुचारू रूप से चलाकर बेटियों के लिंगानुपात में वृद्धि लाएंगे। उन्होंने महिलाओं से आह्वान किया कि वे अपनी बहुओं को पुत्रवती भव के स्थान पर पुत्रीवती भव का आषीर्वाद प्रदान कर इस मुहिम में अपनी आहुति दें एवं बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ की अलख जगावें।

जिला एवं सेषन न्यायाधीष श्री मदनलाल भाटी ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि इस विधिक जागरूकता षिविर का मुख्य उद्देष्य न्यायाधिपतियों के माध्यम से जिले में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ का संदेष देना है। उन्होंने संभागियों को बेटी बचाने, बाल विवाह एवं कन्या भ्रुण हत्या नहीं करने का संकल्प लेने का आह्वान किया।

इस दौरान इस समारोह में जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल, नगरपालिका पोकरण के अध्यक्ष आनन्दीलाल गुचिया, उपसभापति नगरपरिषद जैसलमेर रमेष जीनगर, पंचायत समिति जैसलमेर के प्रधान अमरदीन फकीर, मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणसिंह चारण, अध्यक्ष जिला उपभोक्ता संरक्षण मंच श्री रामचरण मीना, मुख्य न्यायिक मजिस्टेªट पूर्णिमा गौड़, पूर्णकालिक सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण डाॅ महेन्द्र कुमार गोयल, अतिरिक्त मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पोकरण महेष कुमार पूनिया, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक जयनारायण मीना, उपखण्ड अधिकारी रणसिंह के साथ ही जिला अधिकारीगण, मीडिया प्रतिनिधि, अधिवक्तागण, अच्छी संख्या में प्रबुध नागरिक एवं महिलाएं उपस्थित थी।

समारोह के अंत में पूर्णकालिक सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, जैसलमेर डाॅ गोयल ने सभी अतिथियों का हार्दिक आभार व्यक्त किया। समारोह के प्रारम्भ में न्यायाधिपति श्री व्यास एवं माथुर का जिला एवं सेषन न्यायाधीष श्री भाटी, जिला कलेक्टर श्री शर्मा, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट पूर्णिमा गौड़, पूर्णकालिक सचिव डाॅ. गोयल, बार एसोसिएषन जैसलमेर के अध्यक्ष विमलेष कुमार पुरोहित, सचिव गिरधरसिंह भाटी ने किया। कार्यक्रम का संचालन व्याख्याता बराईदीन सांवरा ने किया।

------------------

न्यायाधिपति श्री माथुर एवं व्यास ने मोबाईल वैन, बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के ऊंटों को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया
जैसलमेर 29 मार्च। राजस्थान उच्च न्यायालय के न्यायाधिपति श्री गोपालकृष्ण व्यास एवं श्री विनीत माथुर ने जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की मोबाईल वैन को देवड़ा में बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के संदेष के लिए हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। सीमा सुरक्षा बल के ऊंटों पर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के संदेष लगे बैनर ऊंट रैली को भी हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। वहीं बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ के संदेष के दो बड़े गुब्बारे आकाष में उड़ाए।

न्यायाधिपति व्यास एवं माथुर के साथ ही विधिक जागरूकता षिविर के मुख्य समारोह के दौरान राजस्थान उच्च न्यायालय विधिक सेवा समिति एवं जिला विधिक सेवा प्राधिकरण जैसलमेर के रंगीन पोस्टर का भी विमोचन किया।

न्यायाधिपति श्री व्यास एवं श्री माथुर ने इस दौरान श्रम कल्याण विभाग की जन कल्याणकारी योजना के तहत जैसलमेर ढिब्बा पाड़ा के श्रमिक जिसकी सामान्य मृत्यु हुई है, उसके लिए उसकी विधवा पत्नी श्रीमती सीमा तथा श्रमिक कमला देवी जिसकी भी सामान्य मृत्यु हुई उसके पुत्र सुमेरसिंह को 2-2 लाख रुपये की सहायता राषि के चैक प्रदान किए वहीं शुभ शक्ति योजना के तहत श्रमिक आम्बाराम की पुत्री प्रीति देवपाल तथा कैलाष भाटी की पुत्री मनीषा भाटी की शादी के लिए 55-55 हजार रुपये की सहायता राषि के चैक प्रदान किए। इसके साथ ही सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के द्वारा उपलब्ध निःषक्त सुश्री पप्पु कंवर व उत्तमसिंह को ट्राई साइकिल तथा श्रीमती जमना को व्हील चैयर प्रदान की। सहायक निदेषक हिम्मतसिंह कविया एवं श्रम कल्याण अधिकारी भवानीप्रताप चारण ने इस योजना के बारे में अवगत कराया।

इससे पूर्व जिला एवं सेषन न्यायाधीष श्री मदनलाल भाटी ने बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ बालिका जागरूकता रैली को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया।

--------------

राजस्थान दिवस समारोह-2017

भजन संध्या का भव्य आयोजन, बही भक्ति रस की धारा

रंगोली एवं मेहन्दी प्रतियोगिता में झलका उत्साह

जैसलमेर 29 मार्च। जिला प्रषासन के निर्देषों की पालना में राजस्थान दिवस समारोह, 2017 के कार्यक्रमों की कड़ी में मंगलवार, 28 मार्च को नाद स्वरम संगीत संस्थान के तत्वावधान में मेहन्दी एवं रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया जिसमें महिलाओं एव बालिकाओं ने भाग लेकर अच्छा उत्साह दिखाया। प्रतियोगिता के संयोजक श्रीमती शोभा हर्ष ने बताया कि श्रीमती कौमुदी लोढ़ा अध्यक्षा सीमा सुरक्षा बल जैसलमेर नाॅर्थ की अध्यक्षता एवं श्रीमती अल्पना चैबे, श्रीमती रोषन नेगी सदस्य बावा के आतिथ्य में अखे प्रोल के अंदर कनिष्ठ एवं वरिष्ठ वर्ग में मेहन्दी एवं रंगोली प्रतियोगिता आयोजित की गई। मेहन्दी प्रतियोगिता कनिष्ठ वर्ग में मुस्कान भाटिया प्रथम एवं नन्दिना भाटिया द्वितीय तथा वरिष्ठ वर्ग में दिव्या भाटिया एवं अक्षिता पुरोहित प्रथम, निर्मला सैन द्वितीय एवं अंकिता व्यास तृतीय स्थान पर रही।

इसी प्रकार रंगोली प्रतियोगिता के कनिष्ठ वर्ग में मानसी पुरोहित प्रथम, कृतिका व्यास द्वितीय एवं यषस्वी तृतीय स्थान पर रही वहीं वरिष्ठ वर्ग में मीनाक्षी गोपा एवं नीता व्यास प्रथम, अक्षिता पुरोहित एवं षिवानी धीरण द्वितीय तथा यषा एवं दिव्या पुरोहित तृतीय स्थान पर रही।

मंगलवार को सांय दुर्ग स्थित अखे प्रोल के अंदर रामदेव मंदिर में नाद स्वरम संगीत संस्थान के तत्वावधान में भव्य भजन संध्या का आयोजन अतिरिक्त जिला कलेक्टर के.एल. स्वामी की अध्यक्षता में किया गया। इस दौरान पर्यटन अधिकारी खेमेन्द्रसिंह जाम, सचिव जैसलमेर विकास समिति चन्द्र प्रकाष व्यास, पार्षद श्रीमती ईष्वरी भाटिया के साथ ही अच्छी संख्या में रसिकगण उपस्थित थे।

भजन संध्या में अनिल पुरोहित ने दुर्गा वंदना से इसकी शुरूआत की वहीं आकाषवाही कलाकार एवं मांड गायिका श्रीमती शोभा हर्ष ने माताजी के बखान का भजन पेष कर दर्षको को मोहित किया वहीं लियाकत अली ने वृंदावन का किषन कन्हैया, मनोज बिस्सा ने ‘‘बाजे रे मुरलियां बाजे’’, सुरेष भार्गव आसरा इस जहां का, प्रार्थना बिस्सा ने मेवाड़ना श्रीनाथजी भजनों को प्रस्तुत कर भक्ति रस को बिखेरा। इस अवसर पर बाल युवा कलाकार नेहा गोपा, वसुंधरा गोपा एवं अनिरूद्ध बिस्सा ने भी भजन पेष कर अपनी प्रतिभा का परिचय दिया। संस्था के सचिव जयप्रकाष हर्ष के कुषल निर्देषन में आयोजित भजन संध्या महेष गोयल ने हारमोनियम, हेमन्त हर्ष ने तबला, लियाकत अली ने ढ़ोलक, श्रीमती ईष्वरी भाटिया ने खंजरी, रोहित जैन ने खड़ताल पर संगत का साथ दिया।

अतिरिक्त जिला कलेक्टर स्वामी ने इस अवसर पर मेहन्दी एवं रंगोली प्रतियोगिता के विजेताओं को पुरस्कार प्रदान किए।

----------000----------

ग्राम पंचायत कोटडी में रात्रि चैपाल का आयोजन शुक्रवार को
जैसलमेर, 29 मार्च। सम पंचायत समिति के ग्राम पंचायत कोटडी में रात्रि चैपाल का आयोजन 31 मार्च, शुक्रवार को रखा गया है। जिला कलक्टर मातादीन शर्मा रात्रि चैपाल में ग्रामीणों की समस्याएं सुनेगें।

अतिरिक्त जिला कलक्टर के.एल.स्वामी ने कोटडी पंचायत के समस्त ग्रामीणजनों से आग्रह किया कि वे रात्रि चैपाल में अधिकाधिक संख्या में पहुंचकर अपनी समस्याओं को रखें ताकि मौके पर ही जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा उसका निराकरण किया जा सकें। उन्होंनें जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे रात्रि चैपाल में अनिवार्य रूप से समय पर उपस्थित होेवें।

----000----

शुक्रवार को 2 पंचायतों में

पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जन कल्याण पंचायत षिविर

जैसलमेर, 29 मार्च। जिले की 2 ग्रामपंचायत मुख्यालयों पर शुक्रवार को ’’ पण्डित दीनदयाल उपाध्याय जन कल्याणकारी पंचायत षिविरों ’’ का आयोजन रखा गया है।

मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद नारायणसिंह चारण ने यह जानकारी देते हुए बताया कि 31 मार्च ,षुक्रवार को पंचायत समिति सम की ग्राम पंचायत नरसिंगों की ढाणी व कोटडी में पंचायत षिविर रखा गया है। उन्होंने षिविर में सभी संबंधित विभागों के अधिकारियों से निर्देष दिए कि वे नियत की गई षिविर तिथि को यथा समय षिविर कार्यक्रमों में अपडेड सूचनाओं सहित पहुंचना सुनिष्चित करावें। इन ग्राम पंचायतों क्षेत्र के ग्रामीणों से आग्रह किया गया हैं कि वे अधिकाधिक संख्या में षिविर स्थलों पर पहुंच कर अपनी समस्याओं का निराकरण करावें।

---000----



0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top