BNT

BNT


जिफ २०१३ का शुभारंभ किया हेमा मालिनी ने 

जयपुर, ३० जनवरी. जयपुर को अंतर्राष्ट्रीय स्तर एक नयी ख्याति दिलाने वाले पांचवें जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टीवल का आज शाम शहर के गोलछा सिनेमा हॉल में शुभारंभ हुआ. सुप्रसिद्व सिने अभिनेत्री हेमा मालिनी ने दीप प्रज्ज्वलित कर इस पांच दिवसीय समारोह का आगाज किया. इस अवसर पर जिफ की ओर से प्रेम चोपड़ा , हेमा मालिनी एवं ऑस्कर विजेता निर्देशक मार्क बाषित द्वारा अपने दौर की मशहूर अभिनेत्री शर्मिला टेगौर को लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड प्रदान किया गया. शर्मिला टेगौर ने इस अवसर पर कहा कि मैं तहेदिल से जयपुर और जयपुरवासियों का शुक्रिया अदा करती हूँ कि उन्होंने मुझे लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के लिए यहाँ आमंत्रित किया. गुलाबी नगर ने अपनी संस्कृति और मेहमाननवाजी के लिए देश ही नहीं , विदेशों में भी खास पहचान कायम की है. मैं भी आप सबके बीच यहाँ आकर काफी अभिभूत हूँ. वैसे भी जयपुर सहित पूरे राजस्थान का सिनेमा से गहरा नाता रहा है. यहाँ के किले , महल, और धोरे हमेशा से बड़े परदे की शान रहे हैं. मेरी तरफ से आप सभी को इस आयोजन के लिए ढेरों शुभकामनाएं.सिनेमा को नयी पहचान देने के उद्देश्य से लगाया गया आपका यह पौधा जल्द ही वटवृक्ष का रूप ले ले , साथ ही मैं इस मौके पर देश और विदेशों से आये युवा फिल्म मेकर्स को बढ़ाई देना चाहती हूँ कि वो मुख्यधारा के सिनेमा से इतर अपनी पहचान कायम करने में लगे हैं. हेमा मालिनी ने जिफ में मुख्य अतिथि के रूप में बुलाये जाने पर आभार व्यक्त किया और फेस्टीवल की सफलता के लिए शुभकामनायें दी. 

जिफ के निदेशक हनुरोज़ ने बताया कि यह गर्व की नहीं पर खुशी की बात अवश्य है कि एक थियेटर से शुरू हुआ जिफ आज पांचवें साल में आठ विभिन्न स्थलों पर ग्यारह स्क्रीन तक पहुँच गया है और इसके फिल्म बाज़ार की गिनती दुनिया के दूसरे बड़े फिल्म समारोहों के साथ होने लगी है. इस बार हमें ९० देशों की चौदह सौ से भी अधिक फ़िल्में मिली थी जिनमें से २१७ फिल्मों का चयन किया गया है. एक और गर्व करने की बात यह है कि जिफ के इस समारोह में जो फ़िल्में दिखाई जा रही है उनमें से १८० फिल्मों के निर्माता-निर्देशक अथवा स्टारकास्ट पांच दिनों में यहाँ अपनी उपस्थिति देने जा रहे हैं. सेमिनार और वर्कशॉप के लिए देश के दिग्गज फिल्म विशेषज्ञ जयप्रकाश चौकसे, कोमल नाहटा, अरुण दत्त, बी बी नागपाल आपके बीच मौजूद हैं.

इस अवसर पर प्रेम चोपड़ा, अरुण दत्त व जयप्रकाश चौकसे सहित जिफ की ज्यूरी के सभी चौदह सदस्यों का भी स्वागत किया गया.

पांचवें इंटर नेशनल फिल्म समारोह की ओपनिंग फिल्म के रूप में इंग्लेंड निवासी संगीता दत्ता की लाइफ गोज ओन को दिखया गया. ओम पुरी व शर्मीला टैगोर अभिनित इस फिल्म में सोहा अली व गिरीश कर्नाड भी हैं एवं इसके गीत जावेद अख्तर ने लिखे हैं. शेक्सपियर के मशहूर नाटक किंग लियर से अभिप्रेरित इस कहानी के केन्द्र में एक आधुनिक भारतीय बंगाली चिकित्सक का परिवार है जो लन्दन में रहता है. डॉ संजय की पत्नी मंजू का अचानक निधन हो जाता है. संजय अपनी दो बेटियों को आधुनिक परिवेश में पालने में अनेक चुनौतियों से जूझता है खासकर अपनी छोटी बेटी रिया जोकि एक मुस्लिम लड़के से प्रेम करती है. संजय को अपना बचपन और बंगाल विभाजन के दौरान हुए हिंदू-मुस्लिम फसाद का दर्द याद आ जाता है. इसके साथ ही एक पांच मिनिट की शॉर्ट फिल्म जन गण मन भी प्रदर्शित की गई जिसमें राष्ट्रीय गीत के प्रति सम्मान की भावना को दिखाया गया है.





0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

 
Top