बाड़मेर। पुलिस छवनी में बदला शहर , इंटरनेट सेवाएं बंद आमजन परेशान



बाड़मेर। एससी-एसटी एक्ट के तहत तत्काल गिरफ्तारी पर सुप्रीम कोर्ट की रोक के विरोध में सोमवार को जिले भर में दलित संगठनों से जुड़े लोग सड़कों पर उतरे। देशव्यापी बंद के आह्वान को देखते हुए लगभग सभी जगह सुबह से ही बंद था। इसके बावजूद बंद के दौरान जमकर उपद्रव, हिंसा व आगजनी हुई। बंद समर्थकों ने डंडे के बल पर जबरन दुकानें, बाजार व ऑफिसों को बंद करवाया। जबरन दुकानें बंद कराने के दौरान हिंसक झड़प हो गई देखते ही देखते स्थिति लाठी भाटा जंग में तब्दील हो गई । उपद्रव करने वाले कई लोगो को पुलिस ने अपनी हिरासत में लिया , इस दौरान असामाजिक तत्वों ने पुलिस थाना कोतवाली पर हमला बोल दिया और पुलिसकर्मियों पर पथराव शुरू किया। जिसके बाद पुलिस ने लाठीचार्ज व आंसू गैस का उपयोग कर उन्हें खदेड़ा। बिगड़ते माहौल को देखते हुए जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने बाड़मेर जिले में मंगलवार सांय 6 बजे तक धारा 144 लगाने के आदेश जारी किए। जिले में कानून एवं शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए इंटरनेट सेवाओ पर अग्रिम आदेशों तक रोक लगा दी है। इसके तहत 2 जी, 3 जी, 4 जी, डाटा इंटरनेट सर्विस, बल्क एसएमएस, एमएमएस, व्हाटसअप, फेसबुक, टिव्टर एवं अन्य इंटरनेट से चलने वाली सोशियल मीडिया सेवाएं बाधित रहेगी। वही बाड़मेर बंद के दौरान हुए उपद्रव की घटना के दूसरे दिन पूरा शहर पुलिस छावनी में तब्दील नजर आया। शहर में चप्पे-चप्पे पर पुलिस जाब्ता मौके तैनात है।

बाड़मेर पुलिस के लिए इमेज परिणाम
इंटरनेट सेवाएं बंद आमजन परेशान


किसी प्रकार की अफवाहें न फैले व जिला की शांति भंग न हो इसके लिए प्रशासन की ओर से एहतिआत के तौर पर बंद की गई इंटरनेट के चलते लोग खासे परेशान नजर आ रहे हैं। वाट्सएप व फेसबुक न चलने से बेशक किसी प्रकार की अफवाहें नहीं फैल रही है। लेकिन आमजन काफी परेशान नजर आ रहा था। हर कोई इंटरनेट कब शुरू होगा इसी बात को ही पूछते फिर रहे हैं। लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है।


इंटरनेट सेवाएं बंद आमजन परेशान के लिए इमेज परिणाम

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top