बाड़मेर अब वेणासर नाड़ी का ह्योग कायाकल्प।।ग्रुप के सुझाव पर आयुक्त ने सहमति जताई।*

*बाड़मेर शहर के चारो और स्थित पारंपरिक पेयजल स्रोतों के उद्धार के लिए दबंग आयुक्त डॉ गुंजन सोनी ने कमर कस ली है।कारेली नाड़ी का उद्धार करने के बाद आज ग्रुप फ़ॉर पीपल द्वारा उन्हें एक और आस्था का केंद्र किंतु वर्तमान में खुले शौच की जगह में तब्दील हुई वेणासर नाड़ी की जानकारी दी।नाड़ी की वर्तमान स्थति से अवगत करवाया।।जिस पर आयुक्त डॉ गुंजन सोनी ने सकारात्मक रुख अपनाते हुए इसका निरीक्षण कर इसे मूरत रूप देने की हामी भरी।आयुक्त ने कहा कि जनता के हितार्थ इस वेणासर नाड़ी को भी कार्य योजना में शामिल कर इसका पुराण स्वरूप लौटाया जाएगा।।वेनासर तालाब कभी आधे बाड़मेर की प्यास बुझाते था।मगर वक़्त के थपेड़ों ने इसे भी कचरा पात्र में बदल लिया।।पारंपरिक पेयजल स्रोतों के प्रति बेरुखी और लापरवाही के साथ साथ आमजन की गैर जिम्मीदरी के चलते यह ऐतिहासिक तालाब भी खुले शौच के केंद्र बन गया।।आज इस तालाब को लेकर आयुक्त डॉ सोनी से व्यापक चर्चा हुई।एक उम्मीद की किरण जगी।आयुक्त अगर इस तालाब का भी पुराण वैभव लोटा दे तो बाड़मेर ही नही राजस्थान भर का यह अनूठा रचनात्मक कार्य ह्योग ही साथ ही उनका नाम इतिहास के स्वर्णिम पन्नो पे दर्ज ह्योग।।*

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top