राजस्थान राजनीती तो गजेंद्र सिंह शेखवत होंगे भाजपा के नए चेहरे,मानवेन्द्र को बड़ी जिम्मेदारी*


*गुजरात चुनाव के तुरंत बाद हमने बाड़मेर न्यूज़ ट्रैक में राजस्थान में भाजपा के नई चौसर का लिखा था जिसमे पश्चिमि राजस्थान को राजस्थान की और केंद्र में मजबूत प्रतिनिधित्व की बात कही थी।।जो बात उस वक़्त लिखी थी वो पार्टी की रणनीति का ही हिस्सा थी। अब चूंकि उप चुनावो में पार्टी की करारी हार के बाद चेहरे बदलने की कवायद शुरू हो गई।राजस्थान की बागडौर चुनावो को देखते मोदी टीम अपने हाथों में ले रही है।संगठन मंत्री चन्द्र शेखर इसकी अगुवाई करेंगे।पार्टी का एजेंडे में राजपूत राणा राजपूत समाज को पार्टी लाइन में लाना प्राथमिकता रखी है।।पार्टी हाई कमान तक यह बात पहुंचाई जा चुकी है कि राजपूत समाज के साथ साथ आमजन ,कर्मचारी, और पार्टी नेता वसुंधरा राजे से नाराज है।वसुंधरा राजे इन्हें स्वीकार्य नही है।उप चुनावो की हार से यह साबित हो गया।।मंथन शुरू हो गया।।जोधपुर सांसद गजेंद्र सिंह शेखवत जो मोदी और संघ के नजदीक है।।उनकी पब्लिक डीलिंग को पार्टी ने बेहतर मॉनय है।।पार्टी की प्राथमिकता शेखवत को अगले चुनावो के लिए प्रमुख चेहरे के रूप में उतारना है ।उनके लिए जैसलमेर जिले की पोकरण सीट को चिन्हित किया गया है।।राज्य में शेखवत तो केंद्र में मजबूत प्रतिनिधित्व के लिए सर्वाधिक जनाधार वाले चेहरे के रूप में पूर्व वित्त मंत्री जसवंत सिंह के पुत्र पूर्व सांसद और विधायक मानवेन्द्र सिंह को राजस्थान की सुरक्षित सीट से चुनाव लड़ाने की रणनीति पे विचार हुआ।।पार्टी जसवंत सिंह परिवार के साथ राजपूतो की वापसी के साथ पुराने कार्यकर्ताओ की वापसी चाहती है।।इसीलिए मानवेन्द्र सिंह को खास तवज्जो दी जाएगी।।मानवेन्द्र सिंह की हाल की बाड़मेर दौरे की मीटिंगों की रिपोर्ट ऊपर तक पहुंची है।।परटी का मैंणा है मानवेन्द्र सिंह की लोकप्रियता आम मतदाताओं में कायम है।उनकी अनुशासन्ता ,ईमानदारी और सादगी मतदाताओं को प्रभावित करती है।।बाड़मेर जैसलमेर में पार्टी नये चेहरों पे मंथन करेगी।।वर्तमान विधायको पे भाजपा भरोसा नही कर रही।।इसके लिए पार्टी में प्रदेश अध्यक्ष के साथ जिला स्तर पर आमूल चूल परिवर्तन ह्योग।।मुख्यमंत्री चुनावो तक वसुंधरा राजे को ही रखा जाएगा।मगर संगठन में पूर्ण बदलाव ह्योग।।अर्जुन मेघवाल,सतीश पुनिया,राजेन्द्र राठौड़,के साथ साथ भाजपा के दमदार जाट नेताओं को भी संगठन में प्रमुखता दी जाएगी। घनश्याम तिवाड़ी,किरोड़ीलाल मीना,ओम् बिड़ला,प्रतापमल सिंघवी ,सहित पुराने दमदार चेहरों की वापसी के प्रयास भी होंगे।।बहरहाल भाजपा को बूथ स्तर पर बदलाव के दौर से गुजरेंगे।नकारा नेताओ पे गाज गिरनी तय है।।*

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top