राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती मनन चतुर्वेदी

11 से 13 फरवरी तक तीन दिवसीय जैसलमेर यात्रा पर



जैसलमेर, 07 फरवरी। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती मनन चतुर्वेदी 11 से 13 फरवरी तक तीन दिवसीय दौरे पर जैसलमेर और पोकरण रहेगी।

अतिरिक्त जिला कलक्टर के.एल.स्वामी ने बताया कि संषोधित यात्रा कार्यक्रम के अनुसार राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की अध्यक्ष श्रीमती चतुर्वेदी 11 फरवरी को रात्रि जैसलमेर पहुंचेगी एवं रात्रि विश्राम स्थानीय सर्किट में हाउस में करेगी। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार श्रीमती चतुर्वेदी ’’ भारत माला यात्रा ’’ कार्यक्रम के अन्तर्गत ’’ एक कदम बचपन की ओर ’’ अभियान के तहत 12 फरवरी को प्रातः 8ः30 बजेः जैसलमेर से भारत-पाक सीमाक्षेत्र के गांव म्याजलार , करड़ा भुण ,खारा ,बिचिया ,बाबुवाली ,जेनियो ,षाहगढ़ ,घोटारु लोंगेवाला ,रणाऊ और तनोट आदि का भ्रमण कर बाल अधिकारों की जानकारी लेगी। वे इसी दिन सोमवार को अपरान्ह 4ः00 बजेः कलेक्ट्रेट सभागार में जिला स्तरीय अधिकारियों और जनप्रतिनिधियों के साथ बाल अधिकारों पर बिन्दुवार समीक्षा करेगी एवं सायं 6 बजेः कलेक्ट्रेट सभागार में प्रेस काॅन्फ्रेंस लेगी।

अध्यक्ष श्रीमती चतुर्वेदी 13 फरवरी को प्रातः 8ः30 बजेः जैसलमेर से रवाना होकर तहसील पोकरण के भारत-पाक सीमा स्थित गांव ताला ,बाबला ,भारेवाला ,आकलवाला ,बिल्ली ,हरियार आदि गांवों का भ्रमण कर बाल अघिधकारों की जानकारी लेगी वहीं आंगनवाड़ी केन्द्रों व विद्यालयों का निरीक्षण भी करेगी। वे मंगलवार को सायंकाल पोकरण से बीकानेर के लिए प्रस्थान करेगी।

---000--



राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग जयपुर की अध्यक्ष (राज्यमंत्री का दर्जा )
श्रीमती मनन चतुर्वेदी सोमवार को बाल अधिकारों के बारे में लेगी बैठक


जैसलमेर, 07 फरवरी। राजस्थान राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग जयपुर की अध्यक्ष (राज्यमंत्री का दर्जा )

श्रीमती मनन चतुर्वेदी की अध्यक्षता में रविवार से मंगलवार को तीन दिवसीय जैसलमेर में भारत माला यात्रा कार्यक्रम के दौरान सोमवार 12 फरवरी को सायं 4ः00 बजेः कलेक्ट्रेट सभागार में जिले के जनप्रतिनिधियों एवं जिला स्तरीय अधिकारी के साथ बाल अधिकारों पर समीक्षा बैठक का आयोजन रखा गया है। बैठक में बाल अधिकारों के बारे में विस्तार से चर्चा की जाएगी।

यह जानकारी सहायक निदेषक, बाल अधिकारिता एवं जिला बाल संरक्षण इकाई जैसलमेर हिम्मतसिंह कविया ने दी। उन्होंने जिले के जनप्रतिनिधियों एवं संबंधित विभागीय अधिकारियों से विषेष आग्रह किया है कि वे इस महत्वपूर्ण बैठक के अवसर पर अपने-अपने विभाग से संबंधित अपडेट वांछित सूचना के साथ नियत समय पर उपस्थित होना सुनिष्चित करावें।

--000--

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का शुभारम्भ कार्यक्रम आयोजित,

 बच्चोंको एलबेण्डाजोल गोली खिलाकर किया राष्ट्रीय
कृमि मुक्ति दिवस का किया विधिवत शुभारम्भ


जैसलमेर 7 फरवरी, मरुस्थलीय जैसलमेर जिले के बच्चों को कृमि संक्रमण से बचाने के लिए राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ बुधवार को राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय, दुर्ग नं. 1 में जिला प्रमुख जैसलमेर श्रीमती अंजना मेधवाल द्वारा किया गया। आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित मुख्य अतिथि जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल ने आॅगनवाडी केन्द्र वार्ड नम्बर 6 चैनपुरा की बालिका को कृमि संक्रमण से मुक्ति के लिए एलबेण्डाजोल गोली खिलाकर कार्यक्रम का विधिवत शुभारम्भ किया । आयोजित कार्यक्रम में राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय, दुर्ग नं. 1 व आॅगनवाडी केन्द्र वार्ड नम्बर 6 चैनपुरा के उपस्थित बच्चों को कृमि संक्रमण से मुक्ति के लिए एलबेण्डाजोल गोली खिलाई गई।

जिला प्रमुख ने बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कृमि संक्रमण से बच्चों के शरीर व दिमाग का सम्पूर्ण विकास नही हो पाता है, कुपोषण व खून की कमी होती है व हमेषा थकावट रहती है। डिवार्मिग की दवाई लेने से कृमि रोग से मुक्ति हो जायेगी। उन्होने चिकित्सा विभाग, षिक्षा विभाग व महिला एवं बाल विकास विभाग के अधिकारियों को कृमि संक्रमण की दवाई से सभी विद्यालयों एवं आंगनवाडी केन्द्रो पर बच्चों को आवष्यक रूप से खिलाकर कर लाभान्वित करने की बात कही । उन्होंने ने बच्चों को कृमि संक्रमण से मुक्ति के लिए बच्चों को एलबेण्डाजोल गोली लेकर अभियान में सहयोग देने व अपने आस पास के बच्चों को कृमि संक्रमण से मुक्ति के बारे में जानकारी प्रदान करने की बात कही ।

डाॅ.एन.आर.नायक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा अतिथियों का स्वागत किया गया । डाॅ. आर.पी.गर्ग, जिला प्रजनन एवं षिषु स्वास्थ्य अधिकारी ने कार्मकम में उपस्थित विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए बताया कि 8 फरवरी 2018 गुरूवार को जिले मे राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के अवसर पर अन्तर्गत एक वर्ष से 19 वर्ष तक के बच्चो एवं किषोरो को स्कूलों व आंगनवाडी केन्द्रो के माध्यम से एलबेण्डाजोल गोली खिलाई जायेगी ।

उन्होने बताया कि कुमि नियंत्रण की दवाई को कोई साईडईफेक्ट नही है। ऐसे लक्षित बच्चे जो 8 फरवरी 2018 को बीमार होने, अनुपस्थित रहने अथवा अन्य किसी कारण से उक्त दवा से वंचित रह जाऐंगे उन्हे कृमि नियंत्रण औषधी (ऐलबेण्डाजोल) दिनांक 15 फरवरी 2018 को मोप-अप दिवस पर दी जावेगी।

कार्यक्रम का मंच संचालन उमेष आचार्य द्वारा किया गया । आचार्य ने बच्चों को सम्बोधित करते हुए कहा कि कृमि संक्रमण से बच्चों के शरीर व दिमाग का सम्पूर्ण विकास नही हो पाता है, कुपोषण व खून की कमी होती है व हमेषा थकावट रहती है। डिवार्मिग की दवाई लेने से कृमि संक्रमण से मुक्ति हो जायेगी। आचार्य ने बच्चों को नाखून साफ रखने , स्वच्छ शौचालय का प्रयोग करने, खाने से पहले व शौच जाने के बाद साबुन से हाथ धोने, साफ व शुद्ध पानी पीने के लिए डंडी वाले लोटे का प्रयोग करने के व कृमि संक्रमण से बचने कंे प्रमुख तरीके के बारे में भी जानकारी दी ।

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस के शुभारम्भ कार्यक्रम के अवसर पर डाॅ. बी.एल.बुनकर, भैरू प्रकाष नागर, उम्म्ेद सिंह भाटी, बसंत छंगाणी, सुखदेव सिंह भाटी , कान्ता आचार्य , आॅगनवाडी कार्यकर्ता सुधा बल्लाणी, नर्सिंग ट्यूटर शांतिलाल शर्मा, आषीष खण्डेलवाल व चिकित्सा विभाग के कर्मचारीगण उपस्थित थे।

-----00000----

फो

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top