edvertise

edvertise
barmer

साड़ी के नीचे से ऐसे ज्वैलरी चोरी करती थी ये लैंडीज गैंग, पकड़ में आई तो बताई ये सच्चाई


सवाईमाधोपुर।पुलिस ने बजरिया स्थित सुधा ज्वैलर्स की दुकान से 18 लाख रुपए की ज्वैलरी चोरी का खुलासा किया है। पुलिस ने चोरी की वारदात में लिप्त तीन महिलाओं को भी गिरफ्तार किया है। साथ ही चोरी का माल भी बरामद किया है। पुलिस अन्य आरोपियों की तलाश कर रही है। ये है पूरा मामला...

साड़ी के नीचे से ऐसे ज्वैलरी चोरी करती थी ये लैंडीज गैंग, पकड़ में आई तो बताई ये सच्चाई


- बजरिया स्थित सुधा ज्वैलर्स पर 4 अगस्त दोपहर बाद चार-पांच महिलाओं और बच्चियों ने ज्वैलर्स की दुकान से नजर बचाकर करीब पांच सौ-छह सौ ग्राम सोने के आभूषण से भरे डिब्बे जिनकी कीमत करीब 17 से 18 लाख रुपए थी को चुराकर ले गई।

- इसका पता दुकान मालिक मटूल जैन और दुकान पर काम करने वाले लोगों को दूसरे दिन लगा।

- इस सम्बन्ध में ज्वैलर्स ने मानटाउन थाने में 5 अगस्त को मामला दर्ज कराया। इस पर पुलिस ने ज्वैलर्स की दुकान पर पहुंचकर सीसीटीवी कैमरे के फुटेज लेकर संदिग्ध स्थानों की जानकारी के लिए पुलिस अधिकारियों के साथ विचार विमर्श किया।

- ज्वैलर्स की दुकान में लाखों की चोरी के आभूषण चोरी प्रकरण को लेकर पुलिस अधीक्षक मामन सिंह ने बताया कि कोटा शहर में विभिन्न क्षेत्रों में स्थानीय पुलिस के दबिश देने पर सुल्तानपुर थाना क्षेत्र के गांव डूंगरजा के एक परिवार और उनके रिश्तेदार महिलाओं का पता चला।

- पुलिस अधीक्षक ने बताया कि ज्वैलर्स की दुकान में लाखों की चोरी का खुलासा करने के लिए गठित टीम ने ज्वैलरी चोरी की आरोपी महिला हेमलता बागड़ी और उर्मिला देवी बागड़ी को सुल्तानपुर जिला कोटा से पकड़ा। वहीं राजक्या बागड़ी को अंता जिला बारां से गिरफ्तार किया।

एेसे करती थी चोरी

- पुलिस अधीक्षक के अनुसार आरोपी महिलाएं मोग्या जाति की है। मोग्या जाति की 8-10 महिलाएं एक साथ किसी धार्मिक स्थल पर यात्रा के नाम पर जाती है और वापसी के दौरान भीड़भाड़ वाले बाजार में एक साथ 5-6 महिलाएं दुकान में घुसकर खरीदारी का बहाना करती है।

- महिलाएं एक हजार, पांच सौ रुपए की खरीदारी कर साड़ी, ज्वैलरी, श्रृंगार के सामान व बेशकीमती सामान दुकानदार की नजर बचाकर गायब करती है।

- निगरानी के लिए एक दो बच्चियां व महिला 50-100 मीटर की दूरी पर खड़ी कर देती है। कार्य पूर्ण होने पर दुकान से निकलकर तुरंत चुराया हुआ सामान बाहर खड़ी महिलाओं को देकर साहूकारी के साथ आगे-पीछे चलती रहती है।

- घटना के बाद एक-दो घंटे में जगह बदलकर अपने-अपने स्थानों पर रातों रात चली जाती है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top