edvertise

edvertise
barmer



गाजियाबाद।एनकाउंटर का LIVE वीडियो आया सामने, पुलिस का झूठ हुआ बेनकाब, देखें कैसे होता है पर्दे के पीछे का 'खेल'


उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के आने के बाद सभी ने सोचा था कि अब प्रदेश में सुशासन की सरकार आएगी। बढ़े हुए अपराधों पर लगाम लगेगी, लेकिन हुआ कुछ उसके विपरीत ही। खासतौर पर एनसीआर के अंदर क्राइम का ग्राफ लगातार बढ़ता गया।

अगर गाजियाबाद की बात करें तो गाजियाबाद में हत्या, लूट, छिनैती जैसी वारदात मानो आम हो चली थी। ऐसे में गाजियाबाद पुलिस को अपनी छवि सुधारने के लिए कुछ ऐसा करना था, जिससे पुलिस को वाहवाही मिले। देर रात कमला नेहरू नगर में हुआ एनकांउटर एक तरह से प्रीप्‍लान्‍ड सा नज़र आया। इसलिए खड़े हो रहे पुलिस एनकाउंटर पर सवाल

वीडियो में जिस जगह को आप देख रहे हैं कि गाजियाबाद के कविनगर थाना क्षेत्र के कमला नेहरू नगर का इलाका, जहां पर पुलिस चेकिंग कर रही है लेकिन इस चेकिंग को कवर करने के लिए पहले से ही वहां पर कैमरे मौजूद हैं। जिस बाइक पर बदमाश को आना था, उसकी भी जानकारी पुलिस को पहले से ही थी यानि की तस्वीर में आप देखेंगे बाइक पर सवार दो बदमाश पुलिस के सामने से ही निकल कर जाते हैं लेकिन उस दौरान पुलिस उन्हे नहीं रोकती हैं।




जैसे ही कुछ दूरी पर बदमाश जाते हैं पुलिस द्वारा हवाई फायरिंग की जाती है और बदमाश की बाइक दूर जा कर गिर जाती है, जबकि किसी को भी कोई गोली नहीं लगती।




बाइक के गिरने के बाद पुलिस दौड़ी-दौड़ी बदमाशों का पीछा करती नजर आती है जैसे ही पुलिस बदमाशों के पास पहुंचती है तो पीछे से एक आवाज आती है। एक फायर कीजिए यानी की डिमांड होती है कि हवाई फायरिंग पुलिस द्वारा की जाए।




अब यह देखिए दो पुलिस वाले बड़े ही आराम से बदमाश को पकड़ लेते हैं और जिस बदमाश को पकड़ते हैं उसके हाथ में कोई हथियार नहीं है जबकि पुलिस द्वारा बताया गया कि 7 से 8 राउंड फायरिंग पुलिस पर की गई और उस फायरिंग में एक भी पुलिस वाला घायल नहीं हुआ।




जिस बदमाश को पुलिस पकड़ती है उसने मुंह पर रुमाल बांधा हुआ था। अब आप खुद सोचिए जो बदमाश पुलिस पर फायरिंग कर रहा है क्या वह मुंह पर रुमाल बांधकर आया होगा। पुलिस द्वारा बताया गया कि यह बदमाश 25000 का इनामी है।




सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस बदमाश को पुलिस ने तीन से चार दिन पहले ही गिरफ्तार कर लिया था। जब एक बदमाश गिरफ्तार कर लिया जाता है। उसके बाद गाजियाबाद के एसपी सिटी आकाश तोमर खुद मौके पर पहुंचते हैं और दूसरे बदमाश की तलाशी के लिए जंगल की तरफ जाते हैं लेकिन दूसरा बदमाश बड़े ही आराम से फरार हो जाता है।


https://youtu.be/4ITFcu50Bc8
जिस बदमाश को गाजियाबाद पुलिस ने पकड़ा ना तो उसको कोई चोट आई और ना ही उसे कोई गोली लगी। बावजूद उसके पुलिस से बचने के लिए वह भागता नहीं है बल्कि वहीं पर छुप जाता है।


गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि पकड़े गए बदमाश के पास से एक पिस्टल बरामद हुई है जबकि जब पुलिस उसकी तलाशी लेती है तो उसके पास से किसी तरह की कोई भी बरामदगी तस्वीरों में नजर नहीं आती। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, जो दूसरा बदमाश बाइक पर बताया जा रहा था वह खुद पुलिस का आदमी था, जो बाइक चला रहा था।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top