edvertise

edvertise
barmer


सिवाणा। बालिका शिक्षा पर देश का भविष्य निर्भर - गरिमा राजपुरोहित



सिवाणा। बालिका शिक्षा के प्रति जागरूकता को लेकर सिवाना प्रधान गरिमा राजपुरोहित द्वारा बालिका साइकिल रैली का आयोजन मंगलवार की रोज किया गया। कस्बे के राजकीय उच्च माध्यमिक बालिका विद्यालय से शुरू इस साइकिल रैली में सैकड़ो बच्चियों के दल को सिवाना पँचायत समिति के विकास अधिकारी भोमसिंह ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। बालिका साइकिल रैली में बालिका विद्यालयं के सैकड़ो छात्राओं ने हिस्सा लिया। रैली विद्यालय परिसर से शुरू होकर गांधी चौक, अम्बेडकर सर्किल, मुख्य बाजार से स्टेशन रोड होते हुए विद्यालय परिसर पहुची। बालिका साइकिल रैली को संबोधित करते हुए सिवाना प्रधान गरिमा राजपुरोहित ने कहा कि स्त्रियों का परिवार, समाज व राष्ट्र निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान है। बालिकाओ पर भी किसी भी देश का भविष्य निर्भर करता है। क्योकि बालिकाए आगे चलकर माँ बनती है और माँ किसी भी परिवार की केन्द्रीय इकाई होती है। यदि माँ को शिक्षा प्राप्त नहीं है और वह बचपन से ही कुपोषण व अज्ञानता की शिकार है, तो वह एक स्वस्थ शिक्षित परिवार व उन्नत समाज को जन्म देने में विफल रहेगी। समाज मे बालिका के लिए शिक्षा नितांत आवश्यक है। बालिका शिक्षा का हमारे देश में अत्यन्त महत्व है। आज भी हमारे देश में लड़के और लड़कियों में भेदभाव किया जाता है। ग्रामीण क्षेत्रों मे तो लड़कियों की स्थिति सोचनीय हो जाती है। ग्रामीण परिवेश में लोग शिक्षा के महत्व से परिचित नहीं हो पाते हैं। उनकी दृष्टि में पुरूषों को शिक्षा की जरूरत होती है क्योंकि वे नौकरी करने अथवा काम करने बाहर जाते हैं, जबकि लड़कियां तो घर में रहती हैं और शादी के बाद घर के काम-काज में ही उनका ज्यादातर समय बीत जाता है।इस अवसर पर सिवाना विकास अधिकारी भोमसिंह ने कहा कि आज बालिका शिक्षा को राष्ट्रीय आवश्यकता समझकर जोर दिया जा रहा है। परिणामत: बालिकाओ की स्थिति में सुधार हुआ है। समय तेजी से बदल रहा है। समय के साथ स्त्री जाती ने भी करवट ली है। आज बालिकाये, बालकों से किसी क्षेत्र में कम नहीं है, वे आज इस प्रतियोगी युग में तेजी से आगे बढ़ रही है। आज विचार किया जाए तो बालिकाएँ, बालकों से हर क्षेत्र में आगे न रखे हों। इस अवसर पर राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका गायत्री लाडला ने कहा कि इक्कीसवीं सदी के प्रवेशद्वार पर बैठा मानव भविष्य की संभावनाओ अर्थात बेटियों व बालिकाओं के प्रति अपना असहिष्णु व निष्ठुर होता जा रहा है, इससे निपटने के लिए स्वेच्छिक संगठनों को इस मोर्चे को प्राथमिकता देनी होगी और जड़ सामाजिक रवैये पर पूरी शक्ति के साथ हमला करना होगा। आयोजन में नोडल प्रधान लक्ष्मी नारायण सोनी,राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय की प्रधानाध्यापिका गायत्री लाडला,मॉडल स्कूल के अध्यापक चेन सिंह ,राजेन्द्र कुमार का सहयोग रहा।




जगह जगह हुआ स्वागत
बालिका शिक्षा की नेक मुहिम को लेकर आयोजित साइकिल रैली को लेकर सिवाना के लोगो मे उत्साह नजर आया। महिला प्रधान की अगुवाई में बालिकाओ की साइकिल रैली को जगह जगह लोगो ने पुष्प वर्षा कर स्वागत किया। कस्बे के गांधी चौक, अम्बेडकर सर्किल, मुख्य बाजार से स्टेशन रोड पर लोगो ने फूल बरसा कर रैली का स्वागत और अभिनन्दन किया गया। कई जगहों पर लोगो ने पुष्पगुच्छ भेंट कर प्रधान गरिमा राजपुरोहित की इस पहल की प्रंशसा की।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top