edvertise

edvertise
barmer

आनंदपाल के गांव में हुई श्रद्धांजलि सभा, रास्ता रोकने वालों को पुलिस ने खदेड़ा
आनंदपाल के गांव में हुई श्रद्धांजलि सभा, रास्ता रोकने वालों को पुलिस ने खदेड़ा

सांवराद। गैंगस्टर आनंदपालसिंह के गांव सांवराद में बुधवार को हजारों लोग पहुंचे। सांवराद में हो रही श्रद्धांजलि सभा में राजस्थान व आस-पास के राज्यों से रावणा राजपूत व राजपूत समाज के लोगों का आना दोपहर तक जारी रहा। वहां करीब पांच हजार वाहन पहुंच गए थे। पुलिस किसी भी वाहन को बिना तलाशी गांव में घुसने नहीं दिया। वहीं कुछ लोगों ने टायर जला कर रास्ता जाम किया तथा पथराव किया तो पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ उन्हें खदेड़ा। जानिए और इस बारे में ...




- नागौर में धारा 144 के बावजूद सांवराद में करीब 60 हजार लोग जुटे। शाम तक करीब 20 हजार लोग लौट चुके थे। कुछ लोगों ने टायर जलाकर रास्ता जाम करने की कोशिश की तो पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़ उन्हें खदेड़ दिया।

- नागौर में इंटरनेट सुविधाएं 12 जुलाई तक बंद हैं। जिले में 16 नाकों पर वाहनों की जांच होती रही। पूरे जिले में जगह-जगह नाकाबंदी जारी रही। सभी वाहनों की तलाशी तथा हर गतिविधि की वीडियोग्राफी की जाती रही।

- रावणा राजपूत और राजपूत समाज के संयुक्त तत्वावधान में बनी संयुक्त संघर्ष समिति की ओर से गांव में श्रद्धांजलि सभा की गई। उधर, समाज के लोग गांव में ही धरने पर बैठे रहे।आनंदपाल के एनकाउंटर के 18वें दिन भी उसके शव का अंतिम संस्कार नहीं हो पाया। परिजन सात मांगों पर फैसला होने तक अंत्येष्टि नहीं करने पर अड़े हैं।

ड्राेन कैमरों से रखी नजर

- सांवराद में सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त रहे। पुलिस सांवराद में कई ड्रोन कैमरों से नजर रखी। हर व्यक्ति व वाहन वालों से पूछताछ के बाद ही सांवराद में एंट्री दी गई। सभी गतिविधियों की वीडियोग्राफी की गई।

- कानून व्यवस्था बिगड़ने से बचाने के लिए 6 एएसपी, 14 डीएसपी, नागौर जिले के सभी थानों के थानाधिकारी, जिले के बाहर से 21 थानाधिकारी तैनात रहे। आरएसी, एसटीएफ और क्यूआरटी के 2500 जवान अन्य जिलों से भी अतिरिक्त जाब्ता सांवराद, डीडवाना लाडनूं क्षेत्र में लगाया गया है। सादा वर्दी में भी पुलिसकर्मी तैनात किए गए।

- वहीं डाक्टरों की भी टीम भी तैनात रही।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top