edvertise

edvertise
barmer



अजमेर प्रारंभिक पंचायत प्रसार अधिकारियों को दिए अधिकार
प्रारंभिक पंचायत प्रसार शिक्षा अधिकारी विद्यालय गुणवत्ता हेतु करेंगे प्रभावी मोनिटरिंग
अजमेर, 19 जुलाई। शिक्षा राज्यमंत्राी श्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि राज्य की ग्राम पंचायतों में लगाए गए पंचायत प्रारंभिक प्रसार शिक्षा अधिकारियों (पीईओ) को ग्राम पंचायत स्थित राजकीय प्रारंभिक विद्यालयों के सभी शिक्षकों एवं अन्य समेकित मानदेय पर कार्यरत शैक्षिक कार्मिकों के आकस्मिक अवकाश स्वीकृति के अधिकार दिए गए है। इसके साथ ही वे उस प्राथमिक विद्यालय के संस्था प्रधानों (द्वितीय श्रेणी अध्यापक) के भी आकस्मिक अवकाश स्वीकृत करेंगे। उन्होने बताया कि पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों के सभी शिक्षकों के वार्षिक कार्य मूल्यांकन के वे प्रतिवेदक अधिकारी होंगे। वे उस प्राथमिक विद्यालय के संस्था प्रधान (वरिष्ठ अध्यापकों) के वार्षिक कार्य मूल्यांकन के भी प्रतिवेदक अधिकारी होंगे।

शिक्षा राज्यमंत्राी ने प्रदेश की सभी 9 हजार 894 ग्राम पंचायतों मे लगाये गए पदेन पंचायत प्रारंभिक प्रसार शिक्षा अधिकारियांे को निर्देश दिये है कि वे पंचायत के उत्कृष्ट विद्यालय का माह में कम से कम एक बार एवं शेष राजकीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों का दो माह में कम से कम एक बार आवश्यक रूप से अवलोकन करे। इस दौरान वे विद्यालय कक्षागत शैक्षिक स्तर एवं गुणवत्ता की भी प्रभावी मोनिटरिंग करें। उन्होने कहा है कि पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारी ग्राम पंचायतों के विद्यालयों को गुणात्मक दृष्टि से सृदृढ करने के लिए अपने कत्र्तव्य को प्रभावी रूप में अंजाम देें।

श्री देवनानी ने पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को पंचायत स्थित विद्यालयों की मोनिटरिंग का प्रतिवेदन शाला दर्पण पर नियमित अपलोड़ करने के भी निर्देश दिए है। उन्होने पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों को ग्राम पंचायतों से प्रभावी समन्वय रखने तथा संबंधित पंचायत की मासिक बैठक में अपने अधीन संचालित सभी राजकीय प्राथमिक एवं उच्च प्राथमिक विद्यालयों की शिक्षण व्यवस्था एवं अन्य गतिविधियांे की प्रगति के संबंध में अवगत कराने की भी हिदायत दी है। साथ ही उन्होने विद्यालय प्रबंधन समितियों की नियमित बैठके आयोजित करवाने, प्रबंधन समिति के अध्यक्ष, सदस्यों एवं अभिभावकों से प्राप्त शिकायतों को पत्रिका में दर्ज कर उनका समयबद्ध निस्तारण करने के भी निर्देश दिए है।



शिक्षा राज्य मंत्राी ने जिला शिक्षा अधिकारियों के साथ की विडियो काॅन्फ्रेन्स

‘अक्षय पेटिकाओं’ के जरिए विद्या के लिए दान हेतु आम जन को करें प्रेरित

विद्यालयों की चार दीवारी और खेल मैदान निर्माण के प्रस्ताव शीघ्र भेजने के निर्देश


अजमेर, 19 जुलाई। शिक्षा राज्य मंत्राी श्री वासुदेव देवनानी ने कहा है कि प्रदेश के सभी विद्यालयों में आगामी 31 जुलाई तक ‘अक्षय पेटिकाएं’ रखे जाने का कार्य पूर्ण कर लिया जाए। उन्होनंे कहा कि ‘अक्षय पेटिकाएं’ इसीलिए विद्यालयों में रखी जा रही है कि स्थानीय जन विद्या दान के लिए प्रेरित हो सके। उन्होंने जिला शिक्षा अधिकारियों से अपने अपने क्षेत्रा के दानदाताओं से वैयक्तिक संपर्क कर बच्चों की बेहतर शिक्षा और विद्यालय विकास के लिए ‘अक्षय पेटिकाओं’ में सहयोग लेने पर जोर दिया है। उन्होंने अभिभावक-शिक्षक बैठकों में भी भी इस संबंध में प्रेरित किए जाने पर जोर दिया।

श्री देवनानी बुधवार को शासन सचिवालय के समिति कक्ष में राज्य के जिला शिक्षा अधिकारियों के साथ हुई विडियो काॅन्फ्रेन्स में संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जिला शिक्षा अधिकारी यह सुनिश्चित करे कि प्रदेश के सभी जिलों में कहीं भी 6 से 14 आयु वर्ग का कोई भी बच्चा स्कूल जाने से वंचित नहीं रहे। शत-प्रतिशत नामांकन के साथ ही उन्होंने जिलेवार विद्यालयों में आधारभुत सुविधाओं के विकास, निर्माण कार्यो आदि के बारे में भी जानकारी ली।

उन्होंने राज्य के जिला शिक्षा अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि ऐसे विद्यालय जहां चार दीवारी नहीं है, उनके संबंध में आगामी तीन दिनों के अंदर प्रस्ताव तैयार कर भिजवाए। ताकि मनरेगा के तहत पंचायती राज विभाग से इस संबंध में स्वीकृति प्राप्त कर जल्द से जल्द वहां कार्य प्रारंभ हो सके। उन्होंने मनरेगा के तहत विद्यालयों में बनने वाले खेल मैदान कार्यो के प्रस्ताव भी आवश्यकतानुसार भिजवाने के निर्देश दिए।

उन्होंने जिलेवार विद्यालयों में नामांकन वृद्धि की प्रगति समीक्षा भी की तथा कहा कि 31 जुलाई तक सभी जिला शिक्षा अधिकारी आवश्यक रूप से नामांकन वृद्धि की जानकारी शाला दर्पण और शाला दर्शन पोर्टल पर अपलोड कर दे। उन्होंने कहा कि सितम्बर माह में विद्यालयों में कक्षा, 3, 5 एवं 8 में अध्ययनरत विद्यार्थियों की भारत सरकार द्वारा मूल्यांकन परीक्षा होनी है, इस संबंध में विद्यालयों में सुव्यवस्थित तैयारी विद्यार्थियों की कराई जाए ताकि मूल्यांकन परीक्षा में राजस्थान का देशभर में बेहतर परीक्षा परिणाम रहे।

शिक्षा राज्य मंत्राी ने आंगनबाड़ी केन्द्रों का विद्यालयों के साथ समन्वय किए जाने के बारे में भी शिक्षा अधिकारियों से जानकारी ली तथा कहा कि इस संबंध में सभी स्तरों पर कार्य किया जाए। साथ ही उन्होंने पंचायत प्रारंभिक शिक्षा अधिकारियों द्वारा विद्यालयों की प्रभावी मोनिटरिंग किए जाने, विद्यालयों में कम्प्यूटर शिक्षा की प्रगति, सभी सैकण्डरी और सीनियर सैकण्डरी विद्यालयों में आईसीटी लैब की स्थापना किए जाने के संबंध में भी निर्देश दिए।

श्री देवनानी ने कहा कि प्रदेश में आदर्श एवं उत्कृष्ट विद्यालयों की स्थापना इसीलिए की गई है कि ग्राम पंचायतों में शिक्षा का प्रभावी रूप में प्रसार हो सके। प्रयास यह भी किया जाना चाहिए कि राज्य के सभी विद्यालय आदर्श एवं उत्कृष्ट हों।

बैठक में शिक्षा विभाग के शासन सचिव श्री नरेशपाल गंगवार ने विद्यालयों के विकास से संबंधित गतिविधियों की प्रगति के बारे में जिलेवार जानकारी ली। शिक्षा विभाग के विशिष्ट शासन सचिव श्री असलम मेहर, सर्व शिक्षा आयुक्त श्री जोगाराम, रमसा की राज्य परियोजना निदेशक आनंदी सहित बड़ी संख्या में विडिया काॅन्फ्रेन्स में अधिकारियों ने जिलेवार शिक्षा अधिकारियों से संवाद किया।




एससीएसटी के व्यक्तियों की समस्याओं का प्राथमिकता से समाधान करें - श्री खोलिया

राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष ने की जनसुनवाई


अजमेर, 19 जुलाई। राजस्थान अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष श्री वीकेश खोलिया ने सभी अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे अनुसूचित जाति, जनजाति के लोगों के प्रति मानवीय दृष्टिकोण अपनाते हुए उनकी समस्याओं का प्राथमिकता से निराकरण करे।

श्री खोलिया बुधवार को ब्यावर में नगर परिषद सभागार में आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में लोगों की समस्याएं सुन रहे थे। उन्होंने कहा कि अनुसूचित जाति का व्यक्ति किसी भी अधिकारी के पास अपनी समस्या लेकर आता है तो उसका यथोचित समाधान किया जाना चाहिए। जनसुनवाई के दौरान कुल 51 से अधिक प्रकरण प्राप्त हुए जिनकी आयोग उपाध्यक्ष ने जनसुनवाई करते हुए मौके पर ही अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। अधिकांश मामले का मौके पर ही निस्तारण कर दिया गया।

इस मौके पर ब्यावर के उपखण्ड अधिकारी श्री पीयूष सामरिया, जिला रसद अधिकारी श्री दीप्ति शर्मा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के उप निदेशक श्री संजय सावलानी, विकास अधिकारी जवाजा श्री शिवदान सिंह सहित जल संसाधन, शिक्षा, श्रम, महिला एवं बाल विकास, जलदाय विभाग, विद्युत विभाग, पुलिस विभाग, राजस्व विभाग, चिकित्सा विभाग सहित समस्त अधिकारीगण उपस्थित थे।


डाक बंगला में हुआ स्वागत
अजमेर, 19 जुलाई। जनसुनवाई से पूर्व अनुसूचित जाति आयोग के उपाध्यक्ष का ब्यावर डाक बंगला पहुंचने पर सामाजिक संगठनों, प्रशासनिक अधिकारियों, जनप्रतिनिधयों एवं गणमान्य नागरिकों ने भव्य स्वागत किया।


बीएलओ/पर्यवेक्षकों का प्रशिक्षण 20 को
अजमेर, 19 जुलाई। निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रा अजमेर उत्तर में आयोजित किए जा रहे वृहद मतदाता पंजीकरण अभियान के तहत बीएलओ/पर्यवेक्षकों का प्रशिक्षण कार्यक्रम 20 जुलाई को प्रातः 11 बजे सूचना केन्द्र सभागार में आयोजित किया जाएगा।

अतिरिक्त जिला कलक्टर शहर श्री अरविंद कुमार सेंगवा ने बताया कि प्रशिक्षण में अनुपस्थित रहने वाले कार्मिकों के विरूद्ध लोक प्रतिनिधित्व अधिनियम एवं राज्य सेवा नियमों के तहत कार्यवाही की जाएगी।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top