गंभीर लापरवाही पर बाड़मेर बीसीएमएचओ को चार्जशीट, सेड़वा में रिश्वत लेने वाले ऑपरेटर को हटाने के निर्देश

गंभीर लापरवाही पर बाड़मेर बीसीएमएचओ को चार्जशीट, सेड़वा में रिश्वत लेने वाले ऑपरेटर को हटाने के निर्देश 
4.30 घंटे चली जनसुनवाई में पहली बार सर्वाधिक 200 प्रकरण दर्ज, 50 % शिकायतें राजस्व विभाग की 
 बाड़मेर
तहसीलपंचायत समिति स्तर के अफसरों की लापरवाही का नतीजा है कि कलेक्टर की जिला स्तरीय सुनवाई में फरियादियों की फेहरिस्त लगातार बढ़ रही है। गुरुवार को कलेक्ट्री के अटल सेवा केंद्र में हुई जनसुनवाई में सर्वाधिक 200 परिवाद दर्ज हुए। स्वास्थ्य सेवाओं में गंभीर अनियमितताओं का मामला प्रकाश में आने पर कलेक्टर ने बाड़मेर बीसीएमएचओ को चार्जशीट के आदेश दिए। सुनवाई में पंचायत समिति सेड़वा के कंप्यूटर ऑपरेटरों की ओर से काम की एवज में रिश्वत लेने का मामला सामने आया। इस पर कलेक्टर ने वीडियो कांफ्रेंस से सेड़वा बीडीओ को इस मामले की जांच कर तीन दिन में ऑपरेटर को हटाने के निर्देश दिए। ग्राम सेवा सहकारी समितियों के माध्यम से ऋण वितरण में गड़बड़ियों की शिकायतों को लेकर सीसीबी को संबंधित व्यवस्थापकों के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने को कहा गया। सुबह 10.30 बजे शुरू हुई सुनवाई शाम 4 बजे तक जारी रही। इस दौरान अधिकांश प्रकरण अतिक्रमण,पानी,बिजली, सड़क से जुड़े शामिल थे।
कलेक्ट्री स्थित अटल सेवा केंद्र में सुबह 10.30 बजे कलेक्टर शिवप्रसाद मदान नकाते ने सुनवाई शुरू की। सुबह से सेवा केंद्र में फरियादियों के पहुंचने का सिलसिला शुरू हो गया। दोपहर तक अटल सेवा केंद्र में सैकड़ों लोग पहुंच गए। परिवेदनाओं की सुनवाई में अधिकांश मामले राजस्व पंचायतीराज विभाग से जुड़े होने पर कलेक्टर ने वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से अफसरों को जमकर फटकार लगाई। अफसरों को कहा कि ये लोग तहसील पंचायत समिति स्तर की शिकायतों का निस्तारण नहीं होने पर जिला मुख्यालय पहुंच रहे हैं। इस तरह के मामलों को गंभीरता से लेंवे। इस दौरान बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन, एसपी डॉ.गगनदीप सिंगला,जिला परिषद सीईओ एम.एल.नेहरा, एडीएम ओ.पी.बिश्नोई,भूमि अवाप्ति अधिकारी अशोक सांगवान आदि मौजूद थे।
आमजन की परिवेदनाएं लिखने के निर्देश | जनसुनवाई में आने वाले ग्रामीणों को अगली बार होने वाली जन सुनवाई के दौरान जिला प्रशासन की ओर से अटल सेवा केन्द्र में उनकी परिवेदनाएं लिखने की भी व्यवस्था की जाएगी। कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने आगामी जन सुनवाई के दौरान इसकी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश एडीएम ओ.पी.बिश्नोई को दिए है।
सुनवाई में 50 फीसदी शिकायतें तो सिर्फ राजस्व विभाग की | कलेक्टरकी सुनवाई में 50 फीसदी मामले राजस्व विभाग से जुड़े हैं। जमीन की पैमाइश,सरकारी जमीन पर अतिक्रमण की शिकायतें दर्ज की गई। तहसीलदार स्तर की शिकायतों का निस्तारण नहीं होने से फरियादी बार-बार सुनवाई में पहुंच रहे हैं। इस मामले को कलेक्टर ने गंभीरता से लेते हुए वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से राजस्व अधिकारियों को फटकार लगाते हुए त्वरित निस्तारण के निर्देश दिए। सेड़वा में गोचर भूमि से अतिक्रमण,पचपदरा में सीमा ज्ञान, बलाई गांव में गोचर भूमि से अतिक्रमण हटाने की शिकायतें दर्ज की गई।
बाड़मेर.जनसुनवाई में समस्याएं सुनते कलेक्टर। 

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top