edvertise

edvertise
barmer

जैसलमेर, मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन सप्ताह में भू में केलाई नाडी पर उत्साह के साथ हुआ श्रमदान
प्रभारी सचिव, जिला कलक्टर, जिला प्रमुख ने नाडी पर किया श्रमदान
जिला अधिकारियों एवं महिलाओं ने दिखाई श्रमदान में भारी उत्साह



जैसलमेर, 06 जून। मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान ग्रामीण (द्वितीय चरण) में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन सप्ताह समारोह की शुरूआत ग्राम पंचायत भू के केलाई नाडी पर श्रमदान से की गई। जिले के प्रभारी सचिव एवं शासन सचिव आपदा प्रबंधन हेमन्त गेरा, जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना, जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल के नेतृत्व में केलाई नाडी में जिलाधिकारियों के साथ ही ग्रामीणों ने अपने हाथों से श्रमदान कर नाडी की खुदाई की। इस श्रमदान में महिलाओं मे भारी उत्साह दिखाई दिया। देखते ही देखते केलाई नाडी पर ग्रामीणों का अपार समूह उमड पडा एवं स्वैच्छा से श्रमदान कर यह संदेष दिया कि वर्षाती जल संरक्षण में सभी की सहभागिता जरूरी है। लगभग दो घण्टे चले इस श्रमदान में नाडी की अच्छी खुदाई की एवं खोदी गई मिट्टी को ट्रैक्टरों में डालकर पाल पर डाली गई।
मुख्यमंत्री जल संरक्षण सप्ताह के श्रमदान के साथ उत्साह से शुरूआत की जिसमें मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणसिंह चारण, उपखण्ड अधिकारी कैलाष चन्द्र शर्मा, तहसीलदार वीरेन्द्रसिंह भाटी, विकास अधिकारी धनदान देथा, सरपंच भू श्रीमती हनीफों बानू, नगर विकास के सचिव बी.एल.रमण, अधीक्षण अभियंता जलदाय जे.पी.जोरवाल, अधीक्षण अभियंता वाटरषेड गंगासिंह राठौड, पूर्व सरपंच फूसेखां सहित जिलाधिकारी एवं अच्छी संख्या में पुरूष व महिलाओं ने श्रमदान किया।
सभा का हुआ आयोजन, जल संरक्षण का दिया संदेष
केलाई नाडी पर श्रमदान के बाद आयोजित हुई सभा को संबोधित करते हुए प्रभारी सचिव हेमन्त गेरा ने कहा कि मुख्यमंत्री महोदया के ड्रीम प्रोजेक्ट मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के प्रथम चरण में जल संरक्षण के क्षेत्र में मिली भारी सफलता की हर स्तर पर तारीफ हुई है। इस अभियान के प्रथम चरण की सफलता को ध्यान में रखते हुए द्वितीय चरण को संचालित किया जा रहा है वहीं शहरी क्षेत्र में भी मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान को संचालन हुआ जिसमें वाटर हार्वेस्टिंग के कार्यो पर विषेष ध्यान दिया गया। उन्होंनंे ग्रामीणों को कहा कि इस अभियान की सफलता का परिचायक इस श्रमदान में झलक रही है जिसमें सभी ग्रामीण इच्छा से जल संरक्षण के कार्यो में जुड रहें है। उन्होंनें प्रत्येक माह एकादषी एवं अमावस्या पर नाडी एवं तालाबों में श्रमदान कर इस पावन अभियान में सहयोग देने का संदेष दिया। उन्होंनें कहा कि जब वर्षात से यह नाडी खुदाई के बाद जल के भराव से भरी जाएगी तो वह पानी उनके व पषुधन के पीने के काम आएगा। उन्होनंे श्रमदान अभियान में महिलाओं की अच्छी भागीदारी पर तारीफ भी की एवं जल संरक्षण के लिए सदैव पे्ररित रहने की बात कही।
उन्होंनें कहा कि राज्य सरकार ग्रामीणजन को राहत देने के लिए राजस्व लोक अभियान-न्याय आपके द्वार षिविर, पण्डित दीनदयाल उपाध्याय पट्टा वितरण षिविर चलाकर उनके कार्यो को ग्राम पंचायत स्तर पर ही निस्तारित कर रही है इसलिए ग्रामीणों को भरपूर लाभ उठाना चाहिए। उन्होंनें कहा कि राज्य सरकार 1 जून से विषेष योग्यजनों के लिए चिन्ह्किरण षिविर का आयोजन भी शुरू कर दिया है जिसमें 21 प्रकार केटेगरी के विषेष योग्यजनों का पंजीयन होगा। उन्होंनें जिला कलक्टर से कहा कि वे इस अभियान के दौरान पंचायत की आबादी के तीन प्रतिषत निषक्त का पंजीयन हो उसी अनुरूप कार्य करावें एवं इसके लिए ग्राम सेवक, एएनएम एवं आंगनवाडी कार्यक्रर्ता का प्रषिक्षण प्रदान करावें।
जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना ने मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन सप्ताह की शुरूआत श्रमदान में केलाई नाडी पर ग्रामीणों ने उत्साह दिखाई उसकी तारीफ की। उन्होंनें ग्रामीणों को कहा कि महानरेगा में 100 दिवस रोजगार प्राप्त करें। उन्होंनें विकास अधिकारी व ग्राम सेवक को निर्देष दिये कि वे फार्म नम्बर 6 भरकर ईच्छुक लोगों को रोजगार पर लगावें। उन्होंनें 1 जून से प्रारम्भ किय विषेष योग्यजन निःषक्त चिन्ह्किरण में ग्राम में जो भी निःषक्त हो उसका पंजीयन अटल सेवा केन्द्र पर जाकर करावें।
जिला प्रमुख श्रीमती अंजना मेघवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री जल संरक्षण अभियान की तारीफ की एवं कहा कि इससे वर्षाती जल संग्रहण एवं संरक्षण में बढावा मिला है। उन्होंनें श्रमदान कार्य में महिलाओ की अच्छी भागीदारी की तारीफ की एवं माह में एक दिन तालाब, नाडी में श्रमदान करने की सीख दी। उन्होंनंे बालिका षिक्षा पर विषेष ध्यान देने की बात कही।
पूर्व सरंपच फूसे खां ने भू में पेयजल विभाग का नलकूप खुदवाने व विद्युत वोल्टेज में सुधार लाने की बात कही। मुख्य कार्यकारी अधिकारी नारायणसिंह चारण ने मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन के द्वितीय चरण में चयनित गांवों में जल स्वावलंबन सप्ताह के दौरान की जाने वाली गतिविधियांे पर प्रकाष डाला एवं कहा कि पहले दिन श्रमदान के साथ ही जागरूकता सभा एवं जागरूकता चेतना रैली का आयोजन किया जा रहा है। कार्यक्रम का संचालन विकास अधिकारी धनदान देथा ने किया। इस दौरान प्रभारी सचिव के साथ ही अन्य अतिथियों ने बच्चों को बिस्किट एवं टाॅफी वितरित की।
सामुहिक चेतना रैली का हुआ आयोजन, दिखाई हरी झण्डी
इस अवसर पर केलाई नाडी से महिलाओं, छात्र-छात्राओं एवं युवाओं की जल संरक्षण के लिए सामुहिक चेतना रैली का आयोजन किया गया। इस चेतना रैली को प्रभारी सचिव हेमन्त गेरा, जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना, जिला प्रमुख अंजना मेघवाल ने हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। यह रैली केलाई नाडी से होती हुई भू गांव में गई रैली के संभागियों ने जल संरक्षण के नारे लगाते हुए ग्रामीणों को वर्षाती जल संरक्षण एवं संग्रहण का संदेष भी दिया।
------000-----
प्रभारी सचिव ने मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान में हुए टांका निर्माण कार्य का किया निरीक्षणजैसलमेर, 06 जून। जिले के प्रभारी सचिव हेमन्त गेरा व जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना ने भू ग्राम पंचायत में मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के द्वितीय चरण में कब्रिस्तान में नव निर्मित सामुदायिक टांका निर्माण कार्य का निरीक्षण किया एवं उसकी गुणवता को देखी। उन्होंनें वर्षात में आने वाले पानी के लिए बनाई गई आगोर व्यवस्था को भी देखा। इस टांके पर हैण्डपंप की भी सुविधा लगी हुई थी जिससे लोग आसानी से पानी निकाल सकते है।
प्रभारी सचिव ने विकास अधिकारी पंचायत समिति जैसलमेर से मुख्यमंत्री जल स्वावलंबन अभियान के अन्तर्गत हुए कार्यो की जानकारी ली। विकास अधिकारी धनदान देथा ने बताया कि इस टांके के निर्माण पर 1 लाख 50 हजार रूपये की राषि खर्च की गई है।
-----000-----
प्रभारी सचिव गेरा एवं जिला कलक्टर मीना ने सम राजस्व केम्प का औचक निरीक्षण कियाग्रामीणों के राजस्व संबंधी प्रकरण अधिक से अधिक मौके पर निस्तारण के दिए निर्देष
ग्रामीणों की सुनी परिवेदनाएं
जैसलमेर, 06 जून। जिले के प्रभारी सचिव एवं शासन सचिव आपदा प्रबंधन हेमन्त गेरा, जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना ने मंगलवार को ग्राम पंचायत सम में आयोजित राजस्व लोक अदालत-न्याय आपके द्वार षिविर का औचक निरीक्षण किया एवं वहां विभिन्न विभागों द्वारा किए जा रहे कार्यो का अवलोकन किया। उन्होंनें इस दौरान ग्रामीणों की परिवेदनाएं सुनी एवं उनसे क्षेत्र के पेयजल, विद्युत आपूर्ति के साथ ही अन्य व्यवस्थाओं की जानकारी ली।
प्रभारी सचिव गेरा ने राजस्व अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे इन षिविरों में बकाया राजस्व के प्रकरण के साथ ही आपसी सहमति से बंटवारें, फोतेदगी म्यूटेषन, नाम शुद्विकरण, सार्वजनिक रास्तों के प्रकरणों को अधिकाधिक निस्तारण कर लोगों को राहत पंहुचावें तभी इन षिविरों की सही उपादेयता साबित होगी। उन्होंनें ग्रामीणों से कहा कि 15 विभागो द्वारा षिविरों में कार्य किया जा रहा है उसका वे पूरा लाभ उठावें। उन्होंनें षिविरों के दौरान अधिकारियों द्वारा राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं की जो जानकारी दी जाती है उसकी पूरी सीख लें एवं पात्र लोगों को योजनाओं से लाभान्वित करावें।
जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीना ने षिविर में राजस्व एवं उप निवेषन विभाग से संबंधित किए जाने वाले कार्यो की जानकारी दी एवं उप निवेषन तहसीलदार को निर्देष दिए कि खातेदारी का एक भी प्रकरण बकाया नहीं रहें। उन्होंनें कहा कि एक जून से विषेष योग्यजन चिन्ह्किरण का कार्य चालू हो गया है जो 24 सितम्बर तक चलेगा, जिसमें 21 प्रकार की केटेगरी के विषेष योग्यजनों का चिन्ह्किरण किया जाएगा। उन्होंने ग्रामीणों से कहा कि उनके क्षेत्र में इस केटेगरी के जितने भी विषेष योग्यजन हो उनका अटल सेवा केन्द्र में ग्राम सेवक के पास अनिवार्य रूप से पंजीयन करावें ताकि बाद में उनको प्रमाण पत्र जारी करने के साथ ही अन्य योजनाओं से लाभान्वित किया जा सकें।
महानरेगा में मिलेगा रोजगार
जिला कलक्टर मीना ने सम पंचायत में महानरेगा के जाॅब कार्ड की जानकारी ली तो बताया कि पंचायत में 2327 जाॅब कार्ड धारी है लेकिन महानरेगा कार्यो पर कम लोग रोजगार पर लगे हुए है। उन्होंनें ग्रामीणों से रोजगार पर लगने की बात पूछी तो बताया कि वे रोजगार करना चाहते है। जिला कलक्टर ने इसको गंभीरता से लिया एवं मौके पर ही विकास अधिकारी व ग्राम सेवक को निर्देष दिए कि वे आज ही इच्छुक लोगों के फार्म नम्बर 6 भरकर उनको 15 दिवस में रोजगार पर लगवा दें। उन्होंनें ग्रामीणों द्वारा पषु षिविर खोलने की मांग पर बताया कि राज्य सरकार से इस संबंध मंे शीघ्र ही स्वीकृति मिलते हर षिविर चालू कर दिए जायेगें। उन्होंनें भीलों की ढाणी के वासिंदांे की मांग पर सहायक अभियंता जलदाय को निर्देष दिए कि वे ढाणी में नई जीएलआर के प्रस्ताव लेकर स्वीकृति करावें। उन्होंनें पषु चिकित्सा अधिकारी को मौके पर ही पषु पालकों को मिनरल मिक्सचर वितरण करने के निर्देष दिए। उन्होंनंे 2 किसानों को पासबुक भी प्रदान की।
उपखण्ड अधिकारी कैलाष चन्द शर्मा ने षिविर के दौरान राजस्व संबंधी होने वाले कार्यो की जानकारी दी। विकास अधिकारी सुखराम विष्नोई ने ग्रामीण विकास एवं पंचायतीराज विभाग द्वारा किए जाने वाले कार्यो एवं योजनाओं, सहायक निदेषक हिम्मतसिंह कविया ने सामाजिक न्याय विभाग की योजनाओं की जानकारी दी। षिविर में तहसीलदार वीरेन्द्रसिंह भाटी, नायायब तहसीलदार भागीरथसिंह चारण के साथ ही विभागीय अधिकारी उपस्थित थें एवं अपने विभाग से संबंधित कार्य संपादित कर रहें थें। षिविर में अच्छी संख्या में ग्रामीण जन उपस्थित हुए एवं प्रभारी सचिव तथा जिला कलक्टर को अपनी व्यक्तिगत समस्याओं के साथ ही आबादी भूमि बढानें, डीएनपी क्षेत्र में आ रही समस्याओं से संबंधित प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किए।
-----000-----

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top