edvertise

edvertise
barmer

जैसलमेर सुरक्षा  खतरे में  किस योजना को लेकर जम्मु कश्मीर से पोकरण आए थे दो युवक आप भी जानिए
Danger to jaisalmer safety- किस योजना को लेकर जम्मु कश्मीर से पोकरण आए थे दो युवक आप भी जानिए

पोकरण. जम्मु कश्मीर से आए दो युवको के पोकरण में चंदा वसूली का मामला सामने आने के बाद सुरक्षा एजेंसियां सतर्क हो गई और ऐजेसी के जिम्मेदारों ने चंदा वसूली कर रहे दो युवको को सुरक्षा पकड़ लिया। इस दौरान एजेसियों ने युवकों से तीन घंटे की पूछताछ की और उनके दस्तावेजों की पड़ताल के बाद उन्हें जैसलमेर जिले में चंदा वसूली नहीं करने के लिए पाबंद किया। रिपोर्ट के अनुसार रमजान माह में चंदा वसूल करने आए जम्मु कश्मीर के दो युवकों को सोमवार को सुरक्षा एजेंसियों ने दस्तयाब कर उनसे तीन घंटे तक पूछताछ की तथा उनके दस्तावेजों की जांच पड़ताल करने के बाद उन्हें यहां से रवाना कर दिया। सूत्रों के अनुसार सोमवार को सुबह दो मुस्लिम युवक संदिग्ध रूप से निजी बस स्टैण्ड पर घूमते पाए गए।सूचना मिलने पर सीआईडी एसबी की टीम बस स्टैण्ड पहुंची व दोनों युवकों को पूछताछ के लिए ब्यूरो कार्यालय लेकर आई।यहां सुरक्षा एजेंसियों सीआईडी एसबी, आईबी, एमआई व पुलिस के अधिकारियों ने उनसे तीन घंटे तक गहन पूछताछ की। उन्होंने उन दोनों युवकों के आधार कार्ड व अन्य पहचान संबंधी दस्तावेजों की जांच की तथा संतुष्ट होने के बाद उन्हें रिहा कर दिया।

तीन घंटे तक एजेंसियों ने की पूछताछ

सीआईडी एसबी के निरीक्षक अजीमखां ने बताया कि सोमवार को दो संदिग्ध युवकों की जानकारी मिलने पर जयनारायण व्यास सर्किल, केन्द्रीय बसस्टैण्ड, निजी बस स्टैण्ड पर उनकी तलाश की गई।दिन में 11 बजे बाद दो अनजान युवक निजी बस स्टैण्ड पर मिले। जिन्हें पूछताछ के लिए ब्यूरो कार्यालय लाया गया।उन्होंने बताया कि युवकों ने अपना नाम मोहम्मद रफीक (30) पुत्र मोहम्मद आलम व खालिद अहमद (19) पुत्र खादम हुसैन निवासी हाडी तहसील सुरंगकोट जिला पुंछ कश्मीर बताया। उनसे पहचान संबंधी दस्तावेज व यहां आने का कारण पूछा, तो उन्होंने अपने आधार कार्ड दिखाए। उन्होंने बताया कि वे रमजान के महिने में चंदा लेने के लिए कश्मीर से यहां आए है। उन्होंने बताया कि पहले उनके पिता, ताऊ, चाचा आते थे, लेकिन वे बुजुर्ग हो जाने के कारण अब आ जा नहीं सकते।ऐसे में उन्होंने पोकरण क्षेत्र के बारे में बताया, तो वे चंदा वसूलने के लिए यहां आ गए। उन्होंने चंदे की रसीद बुकें भी दिखाई।आज वे चाचा व लाठी गांव में चंदा वसूली के लिए जा रहे थे। निरीक्षक अजीमखां ने बताया कि दोनों युवकों के आधार कार्ड की जयपुर स्थित आईटी सैल से जांच करवाई गई, तो दोनों सही पाए गए। उन्होंने बताया कि सुरक्षा एजेंसी एमआई की ओर से उन्हें पूछताछ की गई तथा स्थानीय पुलिस थाने में पर्चा बी भरवाया गया।जिसे जम्मु कश्मीर भेजकर उनका प्रमाणीकरण करवाया जाएगा। उन्होंने बताया कि पूछताछ के बाद दोनों युवकों को जैसलमेर व पोकरण क्षेत्र में किसी गांव में नहीं जाने व चंदा वसूल नहीं करने के लिए पाबंद कर रिहा किया गया।जिस पर दोनों युवक यहां से बीकानेर के लिए रवाना हुए।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top