सऊदी अरब में साढ़े तीन लाख रुपए में बेच दी गर्इ भारतीय महिला, सुषमा स्वराज ने की वापस देश लौटने में मदद


जांलधर। नौकरी का झांसा देकर एजेंटों द्वारा सऊदी अरब में बेची गई पंजाब की बुजुर्ग महिला भारतीय दूतावास के प्रयासों से आज जालंधर पहुंच गईं। जालंधर में नूरमहल के गांव अजतानी की 50 वर्षीय बुजुर्ग सुखवंत कौर को एक महिला एजेंट ने सऊदी अरब के एक मुस्लिम परिवार को साढ़े तीन लाख रुपए में बेच दिया था। बुजुर्ग महिला से एजेंट ने झूठा वादा किया था कि उसे वहां नौकरी और 22 हजार रुपए महीना वेतन मिलेगा, लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ। महिला से खाना बनाने और साफ सफाई का काम करवाया जाता था।

सऊदी अरब में साढ़े तीन लाख रुपए में बेच दी गर्इ भारतीय महिला, सुषमा स्वराज ने की वापस देश लौटने में मदद

भारतीय दूतावास की मदद से महिला को वापिस जालंधर लाया गया है। सुखवंत ने आज जालंधर पहुंचने पर पत्रकारों से बातचीत करते हुए बताया कि वह गांव लांबड़ा की रहने वाली महिला एजेंट पूजा की मीठी बातों में फंस गई थीं। उसने बताया कि एजेंट ने एक लाख रुपए लेने के बाद उसे सऊदी अरब भेज दिया था। पहले उसे दिल्ली ले जाया गया, उसके बाद महिला एजेंट के साथी दिल्ली एजेंट सकीर खान नामक व्यक्ति ने उसे सऊदी अरब की फ्लाईट में बैठाया था।


सऊदी अरब में पहुंचने के बाद उसे कार में बिठाकर एक घर में ले जाया गया जहां पर उससे घरेलू कामकाज जैसे खाना बनाना और साफ-सफाई का काम करवाया गया। सुखवंत ने बताया कि उसे घर से बाहर तक जाने की इजाजत नहीं थी। कई बार परिवार के लोग उसकी पिटाई भी करते थे। कुछ दिनों बाद पता चला कि उसे साढे तीन लाख रुपए में सऊदी अरब के एक परिवार को बेचा गया था। मासिक वेतन तो दूर खाने को खाना तक नहीं देते थे। बचा हुआ खाना खाकर ही वहां रहना पड़ता था।


महिला ने कहा कि वह लगातार तीन महीने वहां घर में काम करती रही। बाद में छाती में इंफेक्शन होने की वजह से उसे अस्पताल में दाखिल करवाया गया। अस्पताल में केरल निवासी एक भारतीय नर्स मिली जिसने उसे उसके परिवार के सदस्यों से फोन पर बात करवाई। सुखवंत ने अपने साथ हुए जुल्म के बारे में परिवारिक सदस्यों को बताया। इसके बाद परिवारिक सदस्यों ने गांव अजतानी के सरंपच जगदीश सिंह से मुलाकात की और केन्द्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को इस मामले की जानकारी ट्वीट कर दी।


इसके बाद सऊदी अरब में भारतीय दूतावास के लोग महिला को अस्पताल में जाकर मिले। फिर उसे भारत वापिस भेजने का इंतजाम किया गया। सुखवंत ने बताया कि वह सउदी अरब से मुंबई, फिर फ्लाईट से अमृतसर पहुंचने के बाद सड़क मार्ग से जालंधर वापिस आई है। जालंधर पहुंचने पर महिला को भाजपा के पूर्व मंत्री मनोरंजन कालिया के घर लाया गया, यहां उसने मीडिया के समक्ष सारी बात बताई।

सुखवंत ने बताया कि घर की गरीबी की वजह से उसने इस उम्र में भी विदेश जाकर काम करने का मन बनाया था, लेकिन अब कभी भी विदेश जाने का नाम तक नहीं लेगी। वह अपने परिवारिक सदस्यों के साथ यहीं पर रहेगी। महिला के तीन बच्चे हैं। बड़ी बेटी रणजीत कौर की नकोदर में शादी हुई हैं। छोटा बेटा अरविंद सिंह टैक्सी चलाने का काम करता है और सबसे छोटा बेटा नरवैल सिंह कुवैत गया हुआ हैं। महिला का पति कुलवंत सिंह मजदूरी का काम करता है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top