edvertise

edvertise
barmer



बाड़मेर, जिला कलक्टर की प्रभावी मोनेटरिंग,गड़बड़झाले की खुलेगी पोल

-विभागीय सूचनाआंे का होगा सत्यापन, आमजन को राहत की पहल


बाड़मेर, 22 मई। जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने बाड़मेर जिले मंे विभागीय गतिविधियांे एवं आमजन को राहत पहुंचाने की दिशा में किए गए कार्याें के सत्यापन की अनूठी पहल की है। इसकी बदौलत जिला कलक्टर तक वास्तविक सूचना पहुंचेगी, वहीं आमजन को भी वास्तविक तौर पर राहत मिल सकेगी।

जिला कलक्टर शिवप्रसाद मदन नकाते ने रात्रि चौपाल के दौरान प्रस्तुत की जाने वाली परिवेदनाआंे की जिला मुख्यालय पर प्रत्येक सोमवार को आयोजित होने वाली बैठक के दौरान समीक्षा करने की शुरूआत की है। अब तक समीपस्थ ग्राम पंचायत मंे रात्रि चौपाल के दौरान की गई कार्रवाई से अवगत कराया जाता था। जिला कलक्टर नकाते ने जिला स्तरीय अधिकारियांे को स्पष्ट निर्देश दिए है कि कोई भी अधिकारी बिना तैयारी के साथ बैठक मंे नहीं आएगा। साथ ही विभागीय प्रमुख आवश्यक रूप से बैठक मंे उपस्थित होगा। जिला कलक्टर ने विभागीय अधिकारियांे को वास्तविक स्थिति से अवगत कराने के निर्देश दिए है। उन्हांेने टैंकरांे के जरिए पेयजल परिवहन एवं दीनदयाल विद्युतीकरण योजना के तहत होने वाले सर्वें का भी विस्तृत कार्यक्रम तैयार कर इसकी उपलब्धता आमजन तक सुनिश्चित करने की पहल की है। जिला कलक्टर बैठकांे मंे दिए गए निर्देशांे की पालना हो रही है अथवा नहीं, आमजन को राहत मिली अथवा नहीं, इसकी स्वयं अपने स्तर पर मोनेटरिंग कर रहे है। इसके तहत जलदाय विभाग के अधिकारियांे को एक सप्ताह मंे काटे गए अवैध कनेक्शन, साफ किए गए जलाशयांे का मय दिनांक पूर्ण विवरण मांगा गया है। ताकि धरातल पर कार्य हुआ अथवा नहीं, वस्तुस्थिति स्पष्ट हो सके। उन्हांेने साप्ताहिक समीक्षा बैठक के दौरान भी जलदाय विभाग के अधीक्षण अभियंता को दस जलाशयांे का निरीक्षण करके रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए कि उनकी सफाई हुई अथवा नहीं। इसी तरह खुड़ासा के जलाशय की सफाई संबंधित रिपोर्ट विकास अधिकारी को मंगवाने के निर्देश दिए गए।

जिला कलक्टर ने पिछले एक सप्ताह के दौरान ऐसे हैडपंपांे की सूची भी उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए है जिनकी मरम्मत की गई है। इसका संबंधित उपखंड एवं विकास अधिकारी के जरिए सत्यापन कराया जाएगा। जिला कलक्टर टैंकरांे के जरिए पेयजल परिवहन को लेकर भी बेहद गंभीर रवैया अपना रहे है। उन्हांेने स्पष्ट निर्देश दिए है कि संबंधित स्थान पर जलापूर्ति होनी चाहिए। उन्हांेने टैंकरांे मंे लगे जीपीएस के खराब होने, निकालने का मामला सामने आने पर भी प्रभावी कार्रवाई करने के निर्देश दिए है। साथ ही संबंधित ठेकेदार पर जलापूर्ति नहीं करने पर जुर्माना लगाया जाएगा। जिला कलक्टर ने टैंकरांे की मोनेटरिंग के लिए उपखंड स्तर पर कमेटी भी गठित की है जो जीपीएस की स्थिति एवं जलापूर्ति वाले स्थान का मिलान किया जाएगा। जिला कलक्टर नकाते सोशियल मीडिया पर मिलने वाली परिवेदनाआंे का भी प्राथमिकता से निस्तारण करवा रहे है। वहीं उनके पास आने वाली प्रत्येक फरियाद को संपर्क पोर्टल पर अपलोड किया जा रहा है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top