edvertise

edvertise
barmer



राजस्थान वित्त निगम द्वारा जैसलमेर में

विषेष औद्योगिक षिविर का आयोजन गुरूवार को

जैसलमेर, 17 मई। राजस्थान वित निगम की जोधपुर द्वितीय शाखा की ओर से जिला उद्योग केन्द्र, जैसलमेर में गुरुवार, 18 मई को प्रातः 10 बजे से 5 बजे तक एक विषेष औद्योगिक प्रोत्साहन षिविर का आयोजन रखा गया है। शाखा प्रबन्धक एच.आर.नवल ने बताया कि षिविर में निगम के अधिकारियों सहित जिला उद्योग केन्द्र तथा रीको के अधिकारी भी सम्मिलित होंगे ।

इस षिविर में जैसलमेर जिले में उद्योग, होटल तथा गेस्ट हाउस स्कीम में प्रोजेक्ट, तथा सरल योजना व गुड बोरोवर योजना में ऋण सुविधा की जानकारी के अलावा युवा उद्यमिता प्रोत्साहन योजना में ऋण योजना की जानकारी प्रदान की जाएगी तथा ऋण पत्रावलियाॅं तैयार कर स्वीकार की जाएगी । युवा उद्यमिता प्रोत्साहन योजना में ब्याज में 6 प्रतिषत की छूट नियमानुसार प्रदान की जाती है ।

-----000-----

ग्रामपंचायत दव में गुरूवार को तथा ग्राम पंचायत काठोडी में

रात्रि चैपाल का आयोजन शुक्रवार को

जैसलमेर, 17 मई। जिले की ग्रामपंचायत दव में रात्रि चैपाल का आयोजन 18 मई, गुरूवार को तथा ग्राम पंचायत काठोडी में रात्रि चैपाल का आयोजन 19 मई, शुक्रवार को रखा गया है। जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीणा रात्रि चैपाल में ग्रामीणों की समस्याएं सुनेगें।

अतिरिक्त जिला कलक्टर के.एल.स्वामी ने दव व काठोडी पंचायत के समस्त ग्रामीणजनों से विषेष आग्रह किया कि वे रात्रि चैपाल में अधिकाधिक संख्या में पहुंचकर अपनी समस्याओं को रखें ताकि मौके पर ही जिला स्तरीय अधिकारियों द्वारा उसका निराकरण किया जा सकें। उन्होंनें जिला स्तरीय अधिकारियों को निर्देष दिए कि वे रात्रि चैपाल में अनिवार्य रूप से समय पर उपस्थित होेवें।

-----000-----

जिला टास्क फोर्स टीकाकरण कार्यक्रम की समीक्षा बैठक 19 मई को
जैसलमेर, 17 मई। जिले में नियमित टीकाकरण कार्यक्रम की समीक्षा एवं कवरेज में अपेक्षित सुधार के लिए जिला टास्क फोर्स टीकाकरण कार्यक्रम की बैठक जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीणा की अध्यक्षता में 19 मई, शुक्रवार को प्रातः 11 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में रखी गई है। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ.एन.आर.नायक ने यह जानकारी दी।

-----000-----

पूर्णकालिक सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण डाॅ. गोयल ने

बाल विवाह रूकवाने के सम्बन्ध में थानाधिकारी लाठी को तुरन्त कार्यवाही कर

बाल विवाह रूकवाने के दिए निर्देश


जैसलमेर 17 मई। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण कार्यालय में पूर्णकालिक सचिव डाॅ. महेन्द्र कुमार गोयल के समक्ष प्रार्थी मिश्री खां पुत्र जुसब खां निवासी ग्राम झाबरा ग्राम पंचायत चांधन ने एक प्रार्थना पत्र पेश कर जाहिर किया कि झाबरा गांव निवासी मारू खां पुत्र हसण खां कि पुत्री रोशनाई जिसकी आयु 11 वर्ष है उसकी गरीबी का फायदा उठाकर वली मोहम्मद मोहम्मद पुत्र पीराणे खां आयु 26 वर्ष के साथ कल 18 मई, 2017 को बाल विवाह कर रहा है। डाॅ. गोयल ने इस पर तुरन्त संज्ञान लेते हुए थानाधिकारी पुलिस थाना लाठी को इस सम्बन्ध में तुरन्त जांच करने तथा बाल विवाह रूकवाने एवं दोषी व्यक्तियों को नाबालिग के बालिग होने तक विवाह नहीं करने सम्बन्धी शपथ पत्र लेकर पाबन्द करने के निर्देश दिए। उन्होने थानाधिकारी को उनके द्वारा की गई कार्यवाही से सांय 5 बजे तक अवगत कराने के भी निर्देश दिए।

डाॅ. गोयल ने अभी कुछ समय पूर्व एक अन्य मामले में बाल विवाह रूकवाने के लिए थानाधिकारी मोहनगढ़ को पाबन्द किया था।




-----000-----

सत्तो निवासी हुकमसिंह के लिए वरदान साबित हुआ

सत्तो का राजस्व लोक अदालत-न्याय आपके षिविर

वर्षो बाद हुकमसिंह के पिता का नाम राजस्व रिकार्ड में सही हुआ


जैसलमेर, 17 मई। राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे राजस्व लोक अदालत अभियान-न्याय आपके द्वार षिविर मरूस्थलीय जैसलमेर जिले के लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो रहें है। इन षिविरों के माध्यम से जहां बंटवारों के प्रकरणों का निस्तारण हो रहा है वहीं वर्षो बाद राजस्व रिकार्ड में दर्ज गलत नामों का शुद्विकरण किया जाकर सही नाम राजस्व रिकार्ड में दर्ज हो रहें है। इन षिविरों का जिला कलक्टर कैलाष चन्द मीणा भी अवलोकन कर लोगांे के लिए किए जा रहें राजस्व प्रकरणों के निस्तारण की माॅनेटरिंग की जा रही है।

उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत सत्तो में आयोजित हुआ राजस्व लोक अदालत-न्याय आपके द्वार षिविर सत्तो निवासी हुकमसिंह व उनके भाईयों के लिए बहुत ही लाभदायी रहा है। हुकमसिंह के पिता तगसिंह जिसका राजस्व रिकाॅर्ड में वर्षो से नगसिंह पुत्र नाथूसिंह दर्ज हो गया था एवं यह नाम कई वर्षो से चल रहा था। 6 वर्ष पूर्व हुकमसिंह के पिता तगसिंह का देहांत हो गया था। उसके बाद हुकमसिंह ने अपना व अपने भाईयों का नाम फोतेदगी म्यूटेषन के रूप में राजस्व रिकाॅर्ड दर्ज करने के संबंध में पटवारी एवं तहसीलदार के समक्ष प्रार्थना पत्र प्रस्तुत किए लेकिन राजस्व रिकाॅर्ड में तगसिंह का नाम नगसिंह होने के कारण उसका म्यूटेषन नहीं खुल पाया एवं तगसिंह के तीनों पुत्र हुकमसिंह, ईष्वरसिंह, कल्याणसिंह इससे काफी परेषान थे।

हुकमसिंह एवं उनके भाईयों ने ग्राम पंचायत सत्तो में आयोजित हुए राजस्व लोक अदालत षिविर में इस संबंध में प्रार्थना पत्र उपखंड अधिकारी फतेहगढ रणसिंह के समक्ष प्रस्तुत किया। रणसिंह ने परिवादियों की समस्या को सवेंदनषीलता के साथ सुनी एवं मौके पर ही तहसीलदार, भू अभिलेख निरीक्षक व पटवारी से धारा 88 के तहत आवेदन पत्र प्रस्तुत करवाया गया। उपखंड अधिकारी ने तगसिंह के नाम के बारे में सरपंच ग्राम पंचायत सत्तो एवं अन्य ग्रामीणों से जानकारी ली तो सभी ने बताया कि तगसिंह का नाम राजस्व रिकाॅर्ड में नगसिंह के रूप में हो गया था जो वास्तव में गलत हुआ एवं अब उसका सहीं नाम तगसिंह होना चाहिए एवं फोतेदगी म्यूटेषन के रूप में तगसिंह के पुत्रों के नाम नामान्तरकरण में खुलना चाहिए।

उपखंड अधिकारी रणसिंह ने स्व. तगसिंह के भाई दुर्गसिंह एवं तीनों पुत्रों के बयान दर्ज किए हाथों-हाथ ही षिविर में ही नगसिंह की जगह तगसिंह का नाम शुद्विकरण के आदेष जारी किए गए। तगसिंह का नाम राजस्व रिकाॅर्ड में होने से मौके पर ही फोतेदगी म्यूटेषन के रूप में तगसिंह के पुत्र हुकमसिंह, ईष्वरसिंह, कल्याणसिंह के नाम राजस्व रिकाॅर्ड दर्ज किया गया। इस प्रकार वर्षो से पिता का गलत नाम सही दर्ज होने से हुकमसिंह एवं उनके भाईयों को अपनी पैतृक भूमि का असली मालिकाना हक मिला एवं उन्होंनें इस अभियान की अपने मुक्त कठों से सराहना की एवं कहा कि राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहा यह अभियान वास्तव में कई गरीब लोगों के लिए उपयोगी साबित हो रहा है। इस प्रकार हुकमसिंह एवं उनके भाईयों के लिए तो न्याय आपके द्वार षिविर वरदान साबित हुआ एवं 6 वर्षो बाद उनकी पिता की मृत्यु के उपरांत उनके नाम की भूमि राजस्व रिकाॅर्ड में दर्ज हुआ।

-----000-----

5 वर्ष से राजस्व न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण का राजस्व केम्प में हुआ निस्तारण

देदाराम को मिला न्याय, मिला पैतृक भूमि का असली हक

जैसलमेर, 17 मई। राज्य सरकार द्वारा चलाए जा रहे राजस्व लोक अदालत अभियान-न्याय आपके द्वार षिविर मरूस्थलीय जैसलमेर जिले के लिए बहुत ही उपयोगी साबित हो रहें है। उल्लेखनीय है कि ग्राम पंचायत केलावा के ग्राम थाट निवासी देदाराम पुत्र पुरखाराम जाति मेघवाल के लिए तो राजस्व लोक अदालत-न्याय आपके द्वार षिविर वरदान ही साबित हुआ है एवं उसे 5 वर्ष से राजस्व न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण का 1 ही दिवस में न्याय आपके द्वार षिविर में राहत मिली।

थाट निवासी देदाराम ने ग्राम पंचायत केलावा में आयोजित षिविर के दौरान उपखंड अधिकारी पोकरण मूलसिंह राजावत के समक्ष निवेदन किया कि न्यायालय उपखंड अधिकारी पोकरण में वर्ष 2012 से उसका प्रकरण विचाराधीन है एवं उसमे अभी तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है। उपखंड अधिकारी ने इस प्रकरण को गंभीरता से लिया एवं षिविर के दौरान इस प्रकरण को लिया तथा इस संबंध में मजमा-ए-आम में इसके बारे में पूरी तथ्यों की जांच तहसीलदार पोकरण नारायणगिरी से हाथोंहाथ करवाई गई तो ज्ञात हुआ कि पुरखाराम के पुत्र देदाराम की जगह खेमाराम के नाम से नामान्तरकरण खुल गया । इसकी जानकारी ली तो ग्रामीणों ने बताया कि पुरखाराम के खेमाराम नाम का कोई पुत्र नहीं है बल्कि उसके पुत्र का डेडाराम उर्फ देदाराम ही है। सम्पूर्ण तथ्यांे की जांच होने पर उपखंड अधिकारी ने प्रार्थी के प्रकरण में तत्काल निर्णय पारित कर प्रार्थी का सही एवं वास्तविक नाम डेडाराम उर्फ देदाराम के नाम से अंकन कराने के निर्देष प्रदान किए। इस प्रकार प्रार्थी देदाराम को 5 वर्ष से लम्बित प्रकरण का एक ही दिवस में राजस्व लोक अदालत-न्याय आपके द्वार षिविर में मिल गया। निर्णय पारित होते ही देदाराम के आखों में खुषी के आंसू छलक उठे एवं उसने अन्तर मन से राज्य सरकार के इस अभियान की सराहना की एवं कहा कि इस प्रकार कितने गरीब लोगों को ऐसे षिविरों से राहत मिलती है।

इस प्रकार देदाराम को उसकी पैतृक भूमि का असली मालिकाना हक मिल गया एवं अब वह उस भूमि पर आसानी से ऋण एवं केसीसी का फायदा भी ले सकेगा। उन्होंनें इस न्याय के लिए पूरे प्रषासन की भी तारिफ की कि उन्होंनंे गरीब को न्याय प्रदान किया है।



-----000-----



0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top