बीकानेर/श्रीडूंगरगढ़।खेत में दम्पती ने उठाया वह कदम की उड़ गए सबके होश, तैरते मिले चार शव
खेत में दम्पती ने उठाया वह कदम की उड़ गए सबके होश, तैरते मिले चार शव
श्रीडूंगरगढ़ तहसील के धनेरु गांव में सोमवार शाम को एक पूरे परिवार ने खेत में बनी पानी की डिग्गी में कूदकर आत्महत्या कर ली। घटना की सूचना मिलने पर श्रीडूंगरगढ़ पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने शवों को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र की मोर्चरी में रखवाया है।

सीआई विष्णुदत्त बिश्नोई ने बताया कि चूरू जिले के बीदासर निवासी 30 वर्षीय महेन्द्र पुत्र मोहनलाल यादव पिछले कई सालों से श्रीडूंगरगढ़ के धनेरू गांव में खेती करता था। यहां उसका स्वयं का खेत था। सोमवार शाम को वह छह बजे तक गांव में घुम रहा था।

शाम को सात बजे इसने खेत में बनी पानी की डिग्गी में अपनी पत्नी व दो बच्चों सहित कूदकर आत्महत्या कर ली। खेत में बनी ढाणी में कुछ ही दूरी पर पानी की डिग्गी है।

शाम को जब गांव वालों ने ढाणी में कोई हलचल व रोशनी नहीं देखी तो वहां पहुंचे। ढाणी में पहुंचे तो वहां कोई नहीं मिला। अनहोनि की आशंका के डिग्गी के पास गए तो ग्रामीणों के होश उड़ गए।

ग्रामीणों ने घटना की सूचना तुरंत श्रीडूंगरगढ़ पुलिस को दी। सीआई बिश्नोई ने बताया कि महेन्द्र सहित उसकी पत्नी निरमा (25), पुत्री दर्शमा (4) और दो वर्षीय पुत्र (बाबूलाल) के शव डिग्गी में तैरते मिले।
चारों के शव को ग्रामीणों की मदद से बाहर निकाल कर श्रीडूंगरगढ़ अस्पताल की मोर्चरी में रखवाए गए हैं, जहां मंगलवार को पोस्टमार्टम कराया जाएगा। महेन्द्र के परिजनों को घटना की सूचना दे दी गई है। महेन्द्र ने परिवार सहित आत्महत्या क्यों की यह कारण स्पष्ट नहीं हुआ है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top