बाड़मेर जलदाय विभाग प्राथमिकता से अवैध कनेक्शन हटाएंःनकाते
बाड़मेर ,13 मई। जलदाय विभाग पेयजल पाइप लाइनांे से अवैध कनेक्शनांे को प्राथमिकता से हटाएं। ताकि अंतिम छोर स्थित ढ़ाणियांे एवं गांवांे मंे जलापूर्ति सुनिश्चित हो सके। इसमंे किसी तरह की कौताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। जिला कलक्टर सदाशिव मदन नकाते ने गडरारोड़ मंे आयोजित रात्रि चौपाल के दौरान यह बात कही।

जिला कलक्टर नकाते ने कहा कि राज्य सरकार की जन कल्याणकारी योजनाआंे से आमजन को रूबरू कराने के साथ अधिकाधिक लोगांे को इससे लाभांवित करवाने का प्रयास किया जाए। जिला कलक्टर ने कहा कि आमजन की समस्याआंे का प्राथमिकता से निस्तारण किया जाए। उन्हांेने कहा कि कुछ समस्याएं स्थानीय स्तर पर आसानी से निस्तारित की जा सकती है, लेकिन इसके लिए विभागीय अधिकारियांे को प्रयास करने होंगे। जिला कलक्टर के समक्ष ग्रामीणांे ने बिजली,पानी एवं आधारभूत सुविधाआंे से जुड़ी समस्याएं रखी। इसमंे से कई समस्याआंे का मौके पर समाधान किया गया। वहीं अन्य समस्याआंे का समाधान कर आगामी दिनांे मंे समीपवर्ती ग्राम पंचायत मंे आयोजित होने वाली रात्रि चौपाल के दौरान कार्यवाही से अवगत कराने के निर्देश दिए गए। इससे पूर्व बांडासर मंे आयोजित जन सुनवाई के दौरान जिला कलक्टर सदाशिव मदन नकाते ने आमजन की समस्याएं सुनी। इस दौरान विभिन्न विभागीय अधिकारी उपस्थित रहे।

सड़क सुरक्षा अभियान का प्रथम चरण पूर्ण, द्वितीय चरण 19 मई से

बाड़मेर ,13 मई। सार्वजनिक निर्माण विभाग, विश्व बैंक एवं महिला मंडल बाड़मेर आगोर की ओर से चलाए जा रहे सड़क सुरक्षा अभियान के प्रथम चरण के तहत 60 ग्राम पंचायतों में करीब 8260 लोगों तक सड़क सुरक्षा का संदेश पहुंचाया गया। साथ ही 704 सड़क स्वयंसेवकों का चयन किया गया। कार्यक्रम का द्वितीय चरण 19 मई से शिव पंचायत समिति मंे प्रारंभ होगा।

महिला मंडल बाड़मेर आगोर की सचिव सराना अख्तर ने बताया कि बाड़मेर, चौहटन, रामसर एवं गडरा रोड़ पंचायत समितियों में सड़क सुरक्षा अभियान चलाया गया। इसके तहत प्रत्येक ग्राम पंचायत में संस्थान की टीमों ने सड़क सुरक्षा से संबंधित विभिन्न आयामों पर लोगों को जागरूक करने की दिशा में विभिन्न माध्यमों का प्रयोग कर आम जन को जोड़ने, शिक्षित करने एवं जागरूक करने की दिशा में महती भूमिका निभाई। जागरूकता टीमों ने प्रत्येक पंचायत समिति में पैदल एवं वाहन रैली, प्रचार-प्रसार के जरिए सूचना सम्प्रेषण किया। उनके मुताबिक ग्राम पंचायत स्तर पर अधिक से अधिक संख्या में इससे लाभान्वित हो, इसके लिए डोर टू डोर सम्पर्क किया गया। साथ ही नुक्कड नाटक के माध्यम से आम जन को आकर्षित करते हुए उनसे जुडाव बनाया गया। उल्लेखनीय है कि 17 मई को 17 अप्रैल को सड़क सुरक्षा अभियान की विधिवत शुरूआत पुलिस अधीक्षक, अतिरिक्त जिला कलेक्टर एवं अधीक्षण अभियन्ता ने हरी झण्डी दिखा कर की थी। इस अभियान के तहत वर्तमान में प्रत्यक्ष रूप से 60 ग्राम पंचायतों में 8260 लोगों तक सड़क सुरक्षा अभियान की अलख जगाई, लोगों को जागरूक करने के लिए विभिन्न प्रकार की संवेदनशील फिल्मों का प्रदर्शन किया, जिसकी आम जनता ने सराहना की। संस्था निदेशक आदिल भाई ने बताया कि इस दौरान संस्थान ने अभी 704 सड़क स्वयंसेवकों का चयन किया है एवं उन्हे सड़क से संबंधित विभिन्न आयामों से जागरूक किया है। सड़क से संबंधित किन-किन बातों का ध्यान रखना है, सड़क दुर्घटना होने पर सड़क स्वयंसेवक किस प्रकार एक घायल व्यक्ति की मदद करेंगें एवं उन्हे जीवनदान देने में अहम भूमिका निभाएंगे, इस बारे मंे विस्तृत रूप से प्रशिक्षित किया गया। टीम लीडर निर्मला, फहीम खां, दशरथ सिंह जाट, मनदीप, जगाराम, ईषराम एवं उनकी अन्य टीमों के सदस्य कमला भील, भूराराम, गिरधारी लाल, चन्द्रवीर सिंह, मदीना, भुट्टा खां, अन्जू, चन्दा, महबूब रियाज, सिद्धार्थ, दमाराम, कमला चौधरी, बबीता, गजेन्द्र, ज्योतिसिंह, संजीव सैनी, कंचन आदि ने इस अभियान के दौरान सराहनीय कार्य किया।

मुख्यमंत्री राजश्री योजना

भामाशाह कार्ड विवरण पीसीटीएस सॉफ्टवेयर पर ऑनलाइन दर्ज करना अनिवार्य

बाड़मेर, 13 मई। मुख्यमंत्री राजश्री योजना के अंतर्गत देय प्रथम परिलाभ के लिए लाभार्थी के भामाशाह कार्ड विवरण को पीसीटीएस सॉफ्टवेयर पर ऑनलाइन दर्ज करने के पश्चात ही ओजस सॉफ्टवेयर के माध्यम से ऑनलाइन भुगतान स्थानान्तरित किया जा सकेगा। जिले में आगामी 15 मई के बाद इस व्यवस्था के अनुरूप ही भुगतान होगा।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी हेमराज सोनी ने बताया कि समस्त ब्लॉक मुख्य चिकित्सा अधिकारियों को निर्देश दिए गए है कि ए.एन.सी (प्रसव पूर्व जांच) के दौरान ही गर्भवती महिला से भामाशाह कार्ड विवरण लेकर संस्थागत प्रसव के लिये महिला के संस्थान पर भर्ती रहने के दौरान ही उसका भामाशाह कार्ड विवरण पीसीटीएस सॉफ्टवेयर पर अपडेट है अथवा नही इसकी पुष्टि करें। भामाशाह कार्ड विवरण अपडेट नहीं होने पर प्रत्येक केस में लाभार्थी से भामाशाह कार्ड प्राप्त कर पीसीटीएस सॉफ्टवेयर पर इन्द्राज सुनिश्चित करे।

उल्लेखनीय है कि राजस्थान सरकार ने राज्य में लिंगानुपात संतुलन करने तथा बालिकाओं का जीवन स्तर सुधारने के लिए मुख्यमंत्री राजश्री योजना के अंतर्गत सरकारी अस्पताल तथा अधित निजी अस्पतालों में प्रसव के दौरान बच्ची का जन्म होने पर 2500 रुपए तथा बालिका के प्रथम वर्षगांठ पर पूर्ण टीकाकरण कराने पर 2500 रुपये तथा राजकीय विद्यालय में प्रथम कक्षा में प्रवेश लेने पर 4000 रुपए तथा राजकीय विद्यालय में कक्षा 6 व कक्षा 10 में प्रवेश करने पर क्रमशः 5 हजार, 11 हजार रूपए तथा 12 वीं कक्षा उतीर्ण करने पर 25 हजार रूपए की राशि का भुगतान किया जाता है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top