edvertise

edvertise
barmer



अजमेर पहाड़ी पर बनेगी सड़क, जनता को मिलेगी राहत

शिक्षा राज्यमंत्राी ने किया ऋषि घाटी से ऊपर सड़क निर्माण कार्य का शुभारम्भ


अजमेर, 19 अप्रेल। ऋषि घाटी से ऊपर बाबूगढ़ पहाड़ी की तरफ सालों से पक्की सड़क का इंतजार कर रहे लोगों को अब राहत मिलेगी। इस मार्ग पर विधायक कोष से नयी सड़क बनायी जाएगी। क्षेत्रा के सैकड़ों लोगों ने शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी का आभार व्यक्त किया है।

शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने आज शाम ऋषि घाटी से ऊपर सड़क निर्माण कार्य का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि अजमेर उत्तर विधानस्भा क्षेत्रा में करोड़ों रूपए की सड़के बनायी गई है। प्रत्येक वार्ड में सड़कों का जाल बिछाया जा रहा है। राज्य सरकार शहर में सुविधाएं उपलब्घ कराने के लिए पूरी तरह संकल्पबद्ध होकर कार्य कर रही है। शहर एवं आसपास के गांवों में विकास कार्यों के लिए करोड़ों रूपए स्वीकृत किए गए है।

उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत शहर को विकसित करने का कार्य शुरू कर दिया गया है। आनासागर झील के चारों तरफ पाथवे बनाया जा रहा है। सर्किट हाउस और बजरंगगढ़ के नीचे पहाड़ी पर झरना बनाया जाएगा। यह झरना झील के चारों तरफ से देखा जा सकेगा। इसी तरह सुभाष उद्यान का भी कायाकल्प किया जा रहा है। योजना के तहत विभिन्न वार्डों में भी विकास कार्य कराए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि अजमेर ऐतिहासिक काल से ही देश का प्रमुख केन्द्र रहा है। अब अजमेर का प्राचीन गौरव एक बार पुनः स्थापित हो रहा है। वाराणसी के बाद अजमेर ऐसा शहर है जहां स्मार्ट सिटी, हैरिटेज सिटी, हृदय, अमृत एवं सिटी आॅइकान जैसी सभी प्रमुख योजनाएं एक साथ लागू की गई है। इस अवसर पर अध्यक्ष श्री अरविंद यादव, पार्षद श्री रमेश सोनी, सीताराम शर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।




बाल विवाह की रोकथाम के लिए महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री ने की प्रदेष के सभी जिला कलेक्टरों और अधिकारियों से वीडियो काॅन्फे्रसिंग
जयपुर/अजमेर 19 अप्रेल। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्राी श्री अनिता भदेल ने बुधवार को बाल विवाह की रोकथाम के लिए राज्य के सभी जिला कलक्टर, पुलिस अधीक्षक, मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जिला परिषद, उपनिदेशक, महिला एवं बाल विकास विभाग, कार्यक्रम अधिकारी महिला अधिकारिता, उपखण्ड अधिकारी, उप पुलिस अधीक्षक, बाल विकास परियोजना अधिकारियों के साथ विडियो कान्फ्रेन्स कर तैयारियों का जायजा लिया।

श्रीमती अनिता भदेल ने बाल विवाह की गहनता को ध्यान में रखते हुए क्रमवार जिलों के कलक्टरों, पुलिस अधीक्षकों एवं अन्य अधिकारियों से चर्चा कर निर्देश दिए। जिला प्रशासन से बाल विवाह रोकथाम हेतु की जा रही तैयारियों की जानकारी ली गई एवं उनको बाल विवाह रोकथाम के लिए प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश प्रदान किए गए। उन्होंने कहा कि जिला प्रशासन को अपना सूचना तंत्रा मजबूत किए जाने की आवश्यकता है एवं ग्राम पंचायत स्तर पर विभिन्न कार्मिकों एवं कार्यकर्ताओं को पाबन्द किया जावे कि वे उनके क्षेत्रा में आयोजित विवाहों में भाग लेकर यह सुनिश्चित करें कि बाल विवाह सम्पन्न ना हों।

श्रीमती भदेल ने कहा कि बाल विवाह की सूचनाओं पर कार्यवाही के साथ ही स्वतः संज्ञान लेते हुए भी बाल विवाह रोकथाम की कार्यवाही की जाए एवं आवश्यकता पडने पर एफ.आई.आर भी दर्ज करवाई जाए। कान्फ्रेन्स के दौरान विभिन्न जिलों के अधिकारियों द्वारा बाल विवाह रोकथाम के लिए किए जा रहे नवाचारों की भी जानकारी दी गई।

सचिव श्री कुलदीप रांका ने बताया कि कि प्रदेश में अक्षय तृतीया एवं पीपल पूर्णिमा जैसे अवसरों पर बाल विवाह की अधिक संभावना रहती है। ये पर्व इस वर्ष क्रमशः 28 अप्रेल और 10 मई को हैं। इन अवसरों पर बाल विवाह ना हो इसके लिए सघन प्रचार-प्रसार अभियान किया जाए। ग्राम पंचायत स्तर पर विभिन्न कार्मिकों यथा पटवारी, ग्राम सेवक, आंगनबाडी कार्यकर्ता, साथिन, सहयोगिनी, बीट-कान्सटेबल आदि द्वारा यह ध्यान रखा जाए कि उन क्षेत्रों में बाल विवाह सम्पन्न ना हों।

उन्होंने कहा कि यदि बाल विवाह से संबंधित कोई भी सूचना प्राप्त हो तो संबंधित बाल विवाह प्रतिषेध अधिकारी को तुरन्त सूचना दी जावे। बाल विवाह रोकथाम हेतु जिला एवं ब्लाॅक स्तर पर कन्ट्रोल रूम स्थापित किए जाएं। उन्होंने कहा कि बाल विवाह की सूचना चाइल्ड हैल्पलाइन नम्बर -1098 पर भी दी जा सकती है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top