बाड़मेर.बंदी के गुप्तांग काटने के मामले में जोधपुर जेल सुप्रीडेंट पहुंचे बाड़मेर, जेलर की हुई नियुक्ति


जिला कारागृह में दहेज हत्या मामले के एक बंदी ने रविवार को जेल परिसर के बने शौचालय में ब्लेड से अपना गुप्तांग काट लिया। इससे वह लहूलुहान होकर गिर गया। प्रहरियों ने उसे देखा तो जेल में अफरा-तफरी मच गई। आनन-फानन में जेल प्रशासन ने इसकी सूचना मेडिकल टीम को दी। गंभीर घाव होने से उसे 108 एम्बुलेंस से राजकीय जिला अस्पताल पहुंचाया। यहां प्राथमिक उपचार बाद एक निजी अस्पताल में ऑपरेशन किया गया। इसके बाद चिकित्सालय प्रबंधन ने दावा किया कि अब मरीज ठीक है। इस मामले में जेल सुपरीडेंट जोधपुर विक्रमसिंह भी जेल का दौरा करने पहुंचे। बाड़मेर में रिक्त जेलर के पद पर भी तत्काल राजूराम की नियुक्ति की गई है। वे सोमवार को पदभार ग्रहण करेंगे।

रविवार को जेल में बंदियों को सेविंग के लिए ब्लेड दी जाती है। यह ब्लेड निर्धारित समय पर गिनकर वापस ले ली जाती है। बंदी हुसैनखां (40) पुत्र बच्चू खां निवासी राहलिया गडरारोड को भी ब्लेड दी गई। कुछ समय बाद ही खुले बाथरूम से उसके चिल्लाने की आवाज आई। अन्य बंदी चिल्लाने लगे। जेल में मचे हड़कंप पर जेल प्रहरी वहां पहुंचे। स्थिति देखते ही सब के पसीने छूट गए। बंदी ने अपना गुप्तांग काट लिया था और जमीन पर पड़ा छटपटा रहा था। तुरंत 108 एम्बुलेंस बुला घायल को राजकीय अस्पताल पहुंचाया गया। यहां चिकित्सकों ने अत्यधिक रक्तस्त्राव को देखते हुए पहले खून चढ़ाया तथा गंभीर हालत को देखते हुए जोधपुर रेफर करने की बात कही। इस बीच एक निजी चिकित्सालय के चिकित्सक ने दावा किया कि वे इसका ऑपरेशन कर देंगे। अत्यधिक रक्त बहाव को लेकर अस्पताल प्रबंधन ने जिला कलक्टर की सलाह पर निजी अस्पताल भेज दिया। इसके बाद बंदी की हालत ठीक बताई जा रही है। इसकी सूचना मिलने पर कोतवाली पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने आरोपित के खिलाफ आत्महत्या के प्रयास का मामला दर्ज कर जांच शुरू की।

पहले दिन बहन से मिला था

दहेज प्रताडऩा और हत्या के मामले में बंदी हुसैन की शनिवार को अदालत में पेशी थी। इस दौरान परिजन के साथ बहन से भी मुलाकात हुई थी। पारीवारिक मामलों में हुई चर्चा के दौरान वह मानसिक रूप से तनाव में था। इस कारण इस घटना को अंजाम दिया।

पत्नी की हत्या का आरोपित

बंदी हुसैन का निकाह करीब एक साल पहले मती से हुआ था। शादी के दो माह बाद ही 4 अगस्त को टांके में गिरने से उसकी पत्नी की मृत्यु हो गई थी। इसके बाद पीहर पक्ष ने दहेज हत्या का मामला दर्ज करवाया था। पुलिस ने इस मामले में चालान किया। 8 अगस्त 2016 से वह जेल में है।

हैड कांस्टेबल के भरोसे जेल, अब जेलर नियुक्त

बाड़मेर जेल में जेलर का तबादला होने के बाद हैड कांस्टेबल उदयसिंह को चार्ज दिया हुआ है। जेलर नहीं होने से यहां 135 बंदियों पर निगरानी रखना मुश्किल हो रहा है और स्टाफ की भी कमी है। इसको लेकर जेल प्रबंधन की ओर से ध्यान नहीं दिया जा रहा है। रविवार की घटना के बाद तत्काल यहां जेलर की नियुक्ति की गई है। जेलर राजूराम सोमवार को पदभार ग्रहण करेंगे।

जेल सुपरीडेंट ने किया निरीक्षण

घटना के बाद जेल सुपरीडेंट जोधपुर विक्रमसिंह बाड़मेर पहुंचे। उन्होंने जेल का निरीक्षण कर घटना की जानकारी ली। इसके बाद अस्पताल पहुंचकर बंदी से मुलाकात की। उससे समझाइश की और घटना के कारणों की भी जानकारी ली। सुपरीडेंट ने जिला कलक्टर सुधीर कुमार शर्मा को सारे घटनाक्रम की जानकारी दी।

सुरक्षा को लेकर यह सवाल

जेल में हुई इस घटना के बाद जेल की सुरक्षा को लेकर भी सवाल खड़े हुए हैं। निगरानी की व्यवस्था नहीं होने से बंदी को अवसर मिल गया। 135 बंदियों की जेल को हैड कांस्टेबल के भरोसे चल रही थी।

काउंसलिंग में कहा मैं मरना चाहता हूं

उपखण्ड अधिकारी चेतन त्रिपाठी और जेल सुपरीडेंट विक्रमसिंह ने हुसैन से काउंसलिंग की। उसने बताया कि वह काफी तनाव में है। उसकी जीने की इच्छा खत्म हो गई है, एेसे में वह मरना चाहता है। इस पर दोनों ने काउंसलिंग की और इस तरह की घटना दोबारा नहीं करने की बात समझाई।

बाड़मेर जेल की घटनाएं

बाड़मेर जेल में मोबाइल बरामद होने, बंदी से मिलने आए परिजन के नशें काटने और बंदियों के आपस में उलझने के मामले हो चुके हैं। यहां पदरिक्तता के कारण अकसर परेशानी रहती है।

यूं चला घटनाक्रम

समय : 8:00 बजे : उपलब्ध करवाई ब्लेड।

समय : 11:00 बजे : बंदी ने काट दिया गुप्तांग

समय : 11:05 बजे : जेल में हड़कम्प

समय : 01:00 बजे : पुलिस ने किया घटनास्थल का मौका मुआवना

समय : 06:00 बजे : जोधपुर जेल अधीक्षक पहुंचे जेल

समय : 06.30 बजे : अस्पताल पहुंच लिए बंदी के बयान

कोई कोताही नहीं, तनाव में था बंदी

इस मामले में कोई कोताही नहीं रही है। ब्लेड हर रविवार को उपलब्ध करवाई जाती है। निर्धारित समय पर लौटाने से पहले ही यह घटना कारित कर दी। बंदी तनाव में था इसलिए एेसा किया। उसका उपचार किया गया, अब ठीक है। जेलर सोमवार को ज्वाइन करेंगे।- विक्रमसिंह, सुपरीडेंट जोधपुर जेल

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top