edvertise

edvertise
barmer

जहाजपुर/ अमरगढ़।ट्रेलर पलटने से दो राहगीर की मौत, सिपाही को पीटा, थानेदार से धक्का-मुक्की
त्रिवेणी-जहाजपुर मार्ग पर खजूरी के निकट मंगलवार सुबह गेहूं की बोरियों से भरा ट्रेलर मोड पर अनियंत्रित होकर पलटने से दो राहगीर उसके नीचे दबने से मौत हो गई। हादसा इतना हृदय विदरक था कि दोनों शव शत-विक्षित हो गए। उनको गठरी में बांधकर ले जाना पड़ा।

देशभर में बारह लाख से अधिक परिवार सौर ऊर्जा से अपने घर रोशन कर रहे हैं। सौर ऊर्जा को बढ़ावा देने के लिए क्या किया जा सकता है? हमें बताएं..

गुस्साए ग्रामीणों ने मुआवजे की मांग पर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। समझाइश के लिए जहाजपुर थाने से आए सिपाही की ग्रामीणों ने पिटाई कर दी तथा थानेदार (उपनिरीक्षक) को बाड़ में धक्का दे दिया। इससे माहौल तनावपूर्ण हो गया। उग्र हुए ग्रामीणों ने निकट ही खेत की बाड़ में आग भी लगा दी। तीन घण्टे प्रदर्शन के बाद मौके पर पहुंचे जहाजपुर विधायक धीरज गुर्जर और उपखण्ड अधिकारी द्वारा मुआवजे की घोषणा के बाद ग्रामीण शव ले जाने पर राजी हुए। शक्करगढ़ थाना पुलिस ने टे्रलर जब्त कर दुर्घटना का मामला दर्ज कर लिया।


पुलिस के अनुसार चित्तौडग़ढ़ से गेहूं की बोरियां भरकर ट्रेलर देवली की ओर जा रहा था। खजूरी-आमल्दा के निकट मोड पर टे्रलर अनियंत्रित होकर पलट गया। इस दौरान वहां से गुजर रहे मानपुरा निवासी नारायणसिंह व आमल्दा निवासी गोपाल गुर्जर टे्रलर के नीचे आ गए। इससे दोनों की दबने से मौत हो गई। हादसे के बाद चालक वाहन से कूदकर भाग गया।
दोनों खजूरी स्थित बैंक में लेनदेन के लिए पैदल जा रहे थे। दुर्घटना के बाद बड़ी संख्या में ग्रामीण वहां जमा हो गए और मुआवजे की मांग पर प्रदर्शन करना शुरू कर दिया। सूचना पर शक्करगढ़ थानाप्रभारी गिरवरसिंह वहां पहुंचे। समझाइश के प्रयास किए गए, लेकिन ग्रामीण अधिकारियों को मौके पर बुलाने पर अड़े रहे।

सुध नहीं लेने से बिफरे, जाम लगाया

एक तरफ भीषण गर्मी तो दूसरी ओर दो घण्टे तक सुध नहीं लेने से ग्रामीण बिफर गए। ग्रामीणों ने जाम लगा दिया। इससे दोनों और वाहनों की कतार लग गई। माहौल गरमाता देखकर जहाजपुर थानाप्रभारी नेमीचंद चौधरी जाप्ते के साथ वहां पहुंचे। थाने के सिपाही हरिराम मीणा ने वहां पहुंचते ही खदेडऩा शुरू किया तो ग्रामीण आग बबुला हो गए। सिपाही हरिराम को पकड़ लिया और निकट ही खेत की बाड़ में ले जाकर उसकी पिटाई कर दी। बचाव में आए उपनिरीक्षक गुमानसिंह को भी बाड़ में धक्का दे दिया। बमुश्किल सिपाही को ग्रामीणों के चंगुल से निकाल कर रवाना किया गया।


इस दरम्यान जहाजपुर विधायक गुर्जर, उपखण्ड अधिकारी करतारसिंह, पुलिस उपाधीक्षक रामेश्वर प्रतिहार भी वहां पहुंचे। करीब पौन घण्टे चली समझाइश के बाद विधायक की ओर से 10-10 हजार तथा सरकार की ओर से 50-50 हजार की आर्थिक सहायता देने की घोषणा के बाद ग्रामीणों ने जाम खोल दिया तथा शव ले गए। पुलिस ने क्रेन मंगवा कर ट्रेलर सीधा कर जब्त कर लिया।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top