कृष्ण ने महिलाओं को पहली बार वार करना सिखाया, गोविंददेवजी मंदिर में लट्‌ठमार होली

कृष्ण ने महिलाओं को पहली बार वार करना सिखाया, गोविंददेवजी मंदिर में लट्‌ठमार होली
जयपुर.फागोत्सव चरम पर आ गया है। फाग-राग के साथ मंगलवार को गोपियों ने गोविंददेवजी मंदिर में जमकर लट्‌ठमार होली खेली। सताने वाले ग्वाले बचाव में लगे रहे। पिटते रहे। गोपियां जीत गईं। न अपना माखन-घी लुटने दिया। न अपना उपहास सहन किया।

लट्‌ठमार होली यानी महिलाओं को अधिकार का अवसर, जो उन्हें श्रीकृष्ण ने द्वापर में ही दे दिया था। गोपियां दूध-दही, माखन-घी बनाती, जिसे कंस के दास छीन लेते। कृष्ण इनसे खिलवाड़ करते, उकसाते और अंतत: लड़ना भी सिखाते। गुजरात के भागवतविद् मेहुल कुमार भट्‌ट के मुताबिक- श्रीकृष्ण ने बालसुलह लीलाओं से ही समाज को मजबूत बनाया था।

दो दिन उल्लास के

आराध्य श्रीराधा-गोविंद देवजी मंदिर में बुधवार व गुरुवार को पुष्प फागोत्सव मनाया जाएगा। दोपहर 1 से शाम 5 बजे तक कोलकाता के बाल व्यास श्रीकांत शर्मा भजनामृत वर्षा करेंगे। इस दौरान दोपहर 3 से शाम 5 बजे तक ठाकुरजी के विशष झांकी दर्शन होंगे। मंगलवार को कालबेलिया नृत्य को विश्व में ख्याति दिलाने वाली पदमश्री गुलाबो के लोक नृत्य से लोगों से खूब सराहना पाई।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top