edvertise

edvertise
barmer

प्रेमी के साथ मिलकर बहू ने की थी ससुर की हत्या, आधी जली मिली थी लाश

To hide extra marital affairs woman killed her father in law
भीलवाड़ा। अवैध संबंधों में बाधा बन रहे ससुर को ऐसी मौत मिलेगी उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा होगा। होली से ठीक पहले ससुर गंगाराम (60) के मौत की गुत्थी पुलिस ने सुलझा दी। जब मारने वालों का चेहरा और वजह सामने आए तो सभी चौंक गए। क्या है मामला...




- धूलखेड़ा के पास मेजा बांध की नहर के नजदीक तीन दिन पहले गंगाराम गुर्जर की हत्या का राज मांडल थाना पुलिस ने खोल दिया है।

- यह हत्या किसी और ने नहीं बल्कि घर की बहू ने उसके प्रेमी के साथ मिलकर की।

- हत्या के आरोप में पुलिस ने मृतक की बहू और उसके प्रेमी को गिरफ्तार किया है।

- आरोपी बहू कमली का पति और गंगाराम का बेटामांगीलाल गुर्जर इंदौर में काम करता है। वह 5-6 माह में एक बार गांव आता है।

- पति की गैरमौजूदगी में कमली किशनपुरा गांव के नारायण गुर्जर से मिली।

- वे बार-बार मिलने लगे और एक-दूसरे के इतने नजदीक आ गए कि दोनों में प्यार हो गया।

- इस दौरान करीब 2 साल तक दोनों के बीच हर तरह के संबंध बनते रहे।

- दोनों को गुपचुप तरीके से अक्सर मिलते रहे। वे इसी कोशिश में लगे रहते कि किसी को इसकी भनक तक नहीं लगे, लेकिन एक दिन ससुर गंगाराम ने उन्हें आपत्तिजनक अवस्था में देख लिया।

- बस यहीं से शुरू हो गई दूसरी कहानी।

- दोनों अब इस बात से डर चुके थे कि गंगाराम एक न एक दिन दोनों के बीच चल रहे प्रेम प्रसंग का खुलासा कर ही देगा।

- अब गंगाराम भी सतर्क हो गया था। वह हर रोज बहू कमली पर नजर रखने लगा।

- यही बात कमली को नागवार गुजरने लगी और उसने अपने प्रेमी से मिलकर ससुर को ही रास्ते से हटाने की ठान ली।

हत्या कर शव का ये किया हाल




- हीराका खेड़ा गांव में मृत्युभोज में शामिल होने के बाद 10 मार्च को गंगाराम गांव के चौराहे पर खड़ा था।

- इसी दौरान वहां नारायण आया और अफीम दिलाने के बहाने उसे मांडल चौराहा लेकर आया।

- धूलखेड़ा के पास सुनसान जगह देखकर नारायण ने गंगाराम को धारदार हथियार से मौत के घाट उतार दिया।

- पहचान छिपाने के लिए चेहरा जला दिया। इसके बाद भी बदले की आग शांत नहीं हुई तो आरोपी ने मृतक के प्राइवेट पार्ट में डंडा डाल दिया।




ऐसी थी मृतक की हालत




- सूचना पर जब पुलिस पहुंची तो मृतक अर्धनग्न था। उसके शरीर के निचले हिस्से में कपड़ा नहीं था।

- पहचान छिपाने के लिए शव का मुंह जला दिया गया था। उसके पास कुछ ऐसे दस्तावेज मिले जिससे उसकी पहचान हो सकी थी।

- पुलिस ने जब पड़ताल शुरु की और पड़ोसियों से पूछताछ की तो शक की सुई बहू कमली की ओर घूम गई।

- फिर क्या था कमली से पूछताछ के बाद पूरी घटना का खुलासा हो गया।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top