edvertise

edvertise
barmer

जैसलमेर  201 महारावल रणजीतसिंह (भाटी 62 ) कोट नाचणा व् देवा का निर्माण


       
                    :: 201 महारावल रणजीतसिंह ::

महारावल रणजीतसिंह महारावल गजसिंह के लघु भ्राता केसरसिंह के बड़े पुत्र थे | १९०२ वि.में आषाढ़ सुदी ५ को १८४५ ई. में जैसलमेर के राज सिंहासन पर बिराजे | उस समय उनकी आयु महज ३ वर्ष थी | अतः राज्य भार उनके पिता केशरसिंह ने आपने हाथ में लिया | ये पढ़े लिखे व् बुद्धिमान थे | उन्होंने अल्प समय में हि आपने कार्य की कुशलता से राज्य की अच्छी उनत्ती की | बीकानेर और भावलपुर सरहदी झगड़े भी इसी समय अमल लाये गए | सं, १९०७ सरहद नबाब भावल पुर मीर मुराद अली खेरपुर से और सरकार अंग्रेजी गवर्मेंट सिंध से मेजर वीचर नकाल हदूद की हद्बन्धी करायी | संवत १९०९ मारवाड़ पोकरण की सरहद कप्तान सिविल साहेब निकाली | जिसमे गाँव ओढ़ाणीया शासन गयो | मय बहुत सी जमीरे | संवत १९१९ राज बीकानेर से सरहद कप्तान हमलतीन साहेब निकाली | जिसमे धनेरी बहाल रही और राव बरसलपुर की कुछ जमीन गयी | गरांन्धी बांगड़ सर के खेत गए | गाँव रणजीत पूरा गाम गोडू और साचु ,फ़तेहवालों,मेघवालों और ढोलों ,रातेवालों बसाया | डेरो केसरसिंह का बनाया |

                       :: कोट नाचना व् देवा क निर्माण :;

महारावल रणजीतसिंह ने नाचना व् देवा कोट का निर्माण करवाया |

                      :: ईसाल में बंगले का निर्माण ::

महारावल ने ईसाल बंगले का निर्माण करवाया | इनका विवाह १.महाजन के ठाकुर अमरसिंह की पुत्री से २.खुहडी के महादान सोढा की पुत्री से हुए |

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top