edvertise

edvertise
barmer



बाड़मेर ग्राम स्वास्थ्य स्वछता एवं पेयजल पोषण समिति कार्यशाला : भाटी



बाड़मेर :- मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ हेमराज सोनी के

निर्देशानुसार जिला आशा समन्वयक राकेश भाटी ने खंड बाड़मेर क्षेत्र की

ग्राम पंचायत जसाई, राणीगाँव, बालेरा, हातीतला के उपसरपंच/वार्ड पंच,

एएनएम, आशा सहयोगिनी, आगनवाडी कार्यकर्ता, एनजीओ प्रतिनिधि, स्वयं सहायता

समूह के प्रतिनिधि को ग्राम स्वास्थ्य स्वछता एवं पेयजल पोषण समिति का

प्रशिक्षण चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, और वर्ड विजिन इण्डिया बाड़मेर

द्वारा प्रशिक्षण दिया गया |




जिला आशा समन्वयक राकेश भाटी ने ग्राम स्वास्थ्य स्वछता एवं पेयजल पोषण

समिति के उदेश्य, आशा एवं एएनम की भूमिका के बारे में विस्तार से जानकारी

दी | भाटी ने बताया की इस प्रशिक्षण में ग्राम पंचायत की आशा, एएनएम,

आगनवाडी कार्यकर्ता, सहायिका वार्ड पंच, एवं अन्य सदस्य प्रशिक्षण में

उपस्थित रहे | वर्ड विजिन इंडिया बाड़मेर के मेनेजर बिनीत बाखला ने अपने

संसथान के बारे में विस्तार से बताया एवं संस्थान द्वारा किये जा रहे

कार्यो का उल्लेख किया गया | प्रशिक्षण के दोरान वर्ड विजिन से अभिमन्यु

सिंह, जॉन, खुसबू आदि उपस्थित रहे | कार्यरत आशा सहयोगिनी एवं जिला अस्पताल में कार्यरत यशोदा की

मासिक बैठक का आयोजन जिला स्वास्थ्य भवन में जिला आशा समन्वयक राकेश भाटी

द्वारा ली गई | बैठक के दोरान भाटी ने टीकाकरण शत प्रतिशत पूर्ण करने

हेतु जानकारी दी एवं समस्त आशा सहयोगिनियो को पाबंद किया गया की आपके

कार्यक्षेत्र में कोई भी बच्चा टीकाकरण से वंचित नही रहे, जिन बच्चो का

टीकाकरण नही हुवा है उनकी ड्यू लिस्ट तेयार करे एव आगामी टीकाकरण दिवस पर

आवश्यक रूप से लेकर आये एवं आगनवाडी केन्द्र पर सभी गर्भवती एवं धात्री

महिलाओ की माँ एक संकल्प पर मासिक बैठक लेने हेतु जानकारी दी गई एवं बैठक

के दोरान स्तनपान के बारे में सभी गर्भवती महिलाओ को जानकारी देवे | जिला

आशा समन्वयक राकेश भाटी ने बैठक के दोरान माह अप्रेल से दिसम्बर तक किये

गये कार्यो की समीक्षा की गई, जिन आशाओ द्वारा राष्ट्रीय कार्यक्रमों में

पूर्ण भागीदारी नही है उनको कार्य में सुधार करने हेतु पाबंद किया गया |

भाटी ने बताया की आगनवाडी क्षेत्र में सभी गर्भवती महिलाओ का प्रथम तिन

माह में आवश्यक रूप से पंजीयन किया जाये एवं गर्भावस्था के दोरान चार

जाँच एएनएम के पास ले जाकर करवाए ताकि गर्भावस्था के दोरान महिला को कोई

खतरा नही हो, सभी प्रसव संस्थागत करवाए, जिला अस्पताल से एसएसएनसीयु से

डिस्चार्ज बच्चो के नियमित रूप से फोलो अप करने, प्रसव पश्चात माँ एवं

बच्चो की 42 दिन तक जाँच करने हेतु एवं खतरे के लक्षण दिखाई देने पर

तुरंत प्रभाव से रेफर करने हेतु जानकारी दी गई | भाटी ने बताया की आगामी

15 दिनों में प्रत्येक आशा सहयोगिनी अपने कार्यक्षेत्र में भ्रमण कर अति

कुपोषित बच्चो की पहचान कर रिकोर्ड संधारण कर जिला अस्पताल में संचालित

कुपोषण उपचार केन्द्र में भर्ती करवाने हेतु बताया गया | भाटी ने सभी

आशाओ को बताया की अपने आगनवाडी केन्द्र के अधीन सभी किशोरी बालिकाओ की

सूचि तेयार करे एवं नियमित रूप से बैठक आयोजन करवाए | बैठक के दोरान डॉ

मुकेश गर्ग, मूलशंकर द्वे, ओमप्रकाश, कालू देव शर्मा एवं बाड़मेर शहर में

कार्यरत समस्त आशा सह्योगिनिया एवं जिला अस्पताल में कार्यरत यशोदा

उपस्थित रही |

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top