edvertise

edvertise
barmer




गोदारा गैंग का मुख्य सरगना प्रकाश गिरफ्तार

70 लाख की फिरौती वसूलने के मामले में जोधपुर एटीएस ने जालोर एसपी के नेतृत्व में रविवार तड़के दी दबिश




सांचौर थाना क्षेत्र के पलादर टोल प्लाजा के निकट धोरीमन्ना निवासी व्यापारी मोहनलाल प्रजापत का अपहरण कर 70 लाख रुपए की फिरौती वसूलने के मामले में फरार गोदारा गैंग के मुख्य सरगना प्रकाश गोदारा को जोधपुर की एटीएस टीम ने रविवार सुबह 5 बजे चितलवाना में उसके निवास से गिरफ्तार किया है। इसके बाद उसे चितलवाना थाना लाया गया जहां उससे पूछताछ की गई। बाद में टीम उसे अपने साथ लेकर जोधपुर रवाना हो गई। जानकारी के अनुसार प्रकाश पुत्र ठाकराराम गोदारा निवासी चितलवाना ने अपनी गैंग के सहयोग से कुछ महीने पहले मुंबई में व्यवसाय करने वाले धोरीमन्ना निवासी व्यापारी मोहनलाल का अपहरण कर 70 लाख रुपए की फिरोती वसूली थी। इसे लेकर सांचौर थाने में मामला दर्ज हुआ था। इसके बाद पुलिस ने दबिश देकर उसके दूसरे साथियों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया, जबकि शनिवार को ही उसके साथी शैतान खिलेरी को अंबाला से गिरफ्तार किया गया था। यहां से उसके मोबाइल नंबर ट्रेस कर जोधपुर की एटीएस टीम ने मुखबिर की सूचना पर चितलवाना में उसके निवास पर रविवार तड़के जालोर एसपी कल्याणमल मीना के नेतृत्व में दबिश देकर उसे दबोच लिया।

गोदारागैंग के नाम से था प्रसिद्ध : प्रकाशगोदारा चितलवाना पुलिस सहित कई थानों का वांटेड है। सांचौर के चितलवाना क्षेत्र में इसकी गैंग गोदारा गैंग के नाम से प्रसिद्ध है। इस गैंग ने सांचौर थाना क्षेत्र में शराब तस्करी, अपहरण 70 लाख रुपए की फिरौती के मामले में गोदारा मुख्य सरगना था।

मुखबिरसे मिली पुख्ता जानकारी पर दबोचा : जोधपुरएटीएस की टीम को मुखबिर से जानकारी मिली थी कि प्रकाश गोदारा उसके घर पर ही है। इस पर जोधपुर से पहुंची एटीएस की टीम ने रविवार तड़के उसके घर पर दबिश देकर उसे दबोच लिया गया।

यह था मामला

उपखंडक्षेत्र के पलादर सरहद से 3 मई 2016 को मुंबई के कपड़ा व्यापारी कोजा (धोरिमन्ना) निवासी मोहनलाल प्रजापत का अपहरण कर उससे 70 लाख की फिरौती वसूली थी। 3 मई को प्रजापत उसकी फॉरच्यूनर से मुंबई जा रहा था। इस दौरान सांचौर के पलादर सरहद में कुछ बदमाशों ने उसको अगवा कर लिया। अपहरणकर्ता व्यापारी उसके साथियों को एक स्कॉर्पियों में डालकर बाड़मेर जैसलमेर जिले में घुमाते रहे। इस दौरान उसे जान से मारने का भय दिखाकर 70 लाख रुपए की फिरौती मांगी। फिरौती के रूप में 50 लाख रुपए दिल्ली में तथा 20 लाख रुपए मुंबई में अपने साथियों को दिलवाए। इसके बाद 4 मई की रात आरोपियों ने व्यापारी को पुन: पलादर सरहद में गाड़ी सहित छोड़ दिया और फरार हो गए। व्यवसायी मोहनलाल की ओर से 5 मई को सांचौर थाने में इस मामले में मुकदमा दर्ज कराया था।

इन आरोपियों की हो चुकी है गिरफ्तारी

व्यापारीसे फिरौती वसूलने के मामले में पुलिस ने अब तक फिरौती की रकम वसूलने के मामले में मुख्य आरोपी चितलवाना निवासी प्रकाश गोदारा पुत्र ठाकराराम गोदारा, दिनेश कुमार पुत्र गंगाविशन बिश्नोई निवासी कोजा, दूदू निवासी कमलेश जाट उर्फ कमल सहित कुल 7 आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी है। वहीं श्रवण पुत्र हरिराम जाति विश्नोई निवासी कोजा, धोलाराम पुत्र किशनाराम जाति विश्नोई निवासी कोजा, दुर्जनसिंह पुत्र श्यामसिंह राजपूत निवासी खबडाला को अभी भी फरार है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top