edvertise

edvertise
barmer



अजमेर आजादी के बाद पहली बार तीन गांवों में नल से हुई जलापूर्ति
हाथीखेड़ा, अजयसर व खरेकड़ी की 8.9 करोड़ की जलप्रदाय योजना का शुभारंभ
काजीपुरा के लिए भी ढाई करोड़ की योजना मंजूर, शीघ्र शुरू होगा काम
अजमेर, 18 जनवरी। अजमेर शहर से सटे हाथीखेड़ा, अजयसर व खरेकड़ी गांवों के लिए बुधवार का दिन ऐतिहासिक रहा। इन तीन गांवों के 20 हजार लोगों को आजादी के बाद पहली बार नल से जलापूर्ति की जाएगी। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्य मंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने 8.9 करोड़ की जलप्रदाय योजना आज ग्रामीणों को समर्पित की। उन्होंने ग्रामीणों से आग्रह किया कि जल का महत्व समझें और इसे व्यर्थ बहने से रोकें। उन्होंने काजीपुरा गांव के लिए भी ढाई करोड़ रुपए की जलप्रदाय योजना स्वीकृत होने की घोषणा की।

शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने आज हाथीखेड़ा, अजयसर व खरेकड़ी गांवों में बीसलपुर का पानी पहुंचाने के लिए स्वीकृत पेयजल योजना का लोकार्पण किया। इसके साथ ही तीनों गांवों में नल से जलापूर्ति शुरू हो जाएगी। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम में प्रो. देवनानी ने कहा कि हमने ग्रामीणों से जो वादा किया था, वह पूरा कर दिया है। इन गावों की पीड़ा थी कि आजादी के बाद से आज तक किसी न उनकी सुध नहीं ली। पेयजल की समस्या गंभीर थी। इसी वजह से मुख्यमंत्राी श्रीमती वसुंधरा राजे से विशेष स्वीकृति लेकर 8.9 करोड़ रुपए की योजना स्वीकृत कराई गई। इसी के साथ काजीपुरा गांव के लिए ढाई करोड़ रुपए की स्वीकृति कराई गई है। इसका काम शीघ्र शुरू होगा।

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्राी का सपना है कि राजस्थान जल के क्षेत्रा में आत्मनिर्भर बने। इसके लिए पूरे प्रदेश में मुख्यमंत्राी जल स्वावलम्बन अभियान शुरू किया गया है। आज राजस्थान जल के क्षेत्रा में नया इतिहास रच रहा है। शहरी क्षेत्रों में जलापूर्ति सुधारने के लिए सरकार पूरे प्रयास कर रही है। अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्रा में ही 20 करोड़ रुपए से ज्यादा राशि सिर्फ पेयजल क्षेत्रा के लिए खर्च की गई है। लोहागल क्षेत्रा के लिए 3.5 करोड़ रुपए की राशि स्वीकृत की गई है.

प्रो. देवनानी ने कहा कि इन तीनों गांवों में अब हर घर जल उपलब्ध होगा। महिलाओं को बड़ी राहत मिलेगी। उन्होंने आग्रह किया कि ग्रामीण जल को व्यर्थ ना बहाएं । जल अनमोल है, हमें इसकी बचत का पूरा ध्यान रखना होगा। शिक्षा राज्यमंत्राी ने राज्य सरकार की विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं का जिक्र करते हुए कहा कि इससे समाज के हर वर्ग को फायदा मिला है।

जिला प्रमुख सुश्री वंदना नोगिया ने कहा कि घर-घर नल कनेक्शन होने से सबसे ज्यादा फायदा महिलाओं को होगा। उन्हेें रोजाना सिर पर मटका रख्रकर दूर से पानी लाना पड़ता था। अब उन्हें इस परेशानी से निजात मिलेगी। ग्रामीण पानी की बचत करना सीखें। मुख्यमंत्राी जल स्वावलंबन अभियान ने पूरे प्रदेश को जल के क्षेत्रा में आत्मनिर्भर बनाने में बड़ी भूमिका निभाना शुरू कर दिया है।

अजमेर विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री शिव शंकर हेड़ा ने कहा कि हमने क्षेत्रा की जनता से जो वादा किया था, वह पूरा कर दिखाया है। अब प्रत्येक घर को पानी मिलेगा। यह योजना ग्रामीणों को बड़ी समस्या से निजात दिलाने वाली साबित होगी। शहरों के साथ-साथ गांवों का भी पूरा विकास किया जा रहा है। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना में बीमारी होने पर 30 हजार से 3 लाख रुपए तक का उपचार मुफ्त मिल रहा है। अध्यक्ष अरविंद यादव ने कहा कि यह काम तय समय सीमा में पूरा हुआ है। ग्रामीणों के लिए यह उत्सव का दिन है।

इस अवसर पर महापौर श्री धर्मेंद्र गहलोत, श्रीनगर प्रधान श्रीमती सुनीता रावत, जिला परिषद सदस्य शमशेर रावत, पंचायत समिति सदस्य शंकर सिंह रावत, सीताराम शर्मा, जयकिशन पारवानी, रमेश सोनी, राजकुमार ललवानी, राजेश शर्मा, सरपंच मतिया बाट, मोहसिना, उपसरपंच लाल सिंह रावत सहित अन्य जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण उपस्थित थे।




इल्म-ओ-हुनर की उड़ान कार्यक्रम

छात्रा शिक्षा अर्जित कर समाज की मुख्य धारा से जुड़ें - शिक्षा राज्यमंत्राी

कौशल विकास के साथ सकारात्मक सोच से आगे बढ़ें - अध्यक्ष, मदरसा बोर्ड़


अजमेर, 18 जनवरी। शिक्षा राज्य मंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने अल्पसंख्यक छात्रा छात्राओं से आग्रह किया है कि है कि वे शिक्षा अर्जित कर समाज एवं देश की मुख्य धारा से जुड़े। सरकार ने प्रदेश से अशिक्षा एवं गरीबी दूर करने के लिए अनेक योजनाएं चलाई है, उनका लाभ उठावे ।

प्रो.देवनानी बुधवार को सूचना केन्द्र में अल्पसंख्यक विभाग द्वारा आयोजित इल्म-ओ-हुनर की उड़ान समारोह में मुख्य अतिथि पद से संबोधित कर रहे थे। समारोह की अध्यक्षता राजस्थान मदरसा बोर्ड़ की अध्यक्ष श्रीमती मेहरून्निसां टाक ने की जबकि विशिष्ट अतिथि के रूप में नगर निगम के महापौर श्री धर्मेन्द्र गहलोत, आरसीडीईएस के उपाध्यक्ष फादर कोसमोस शेखावत, अल्प संख्यक अधिकारी-कर्मचारी महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष श्री हारून खान एवं श्री अरविन्द यादव थे।

शिक्षा राज्य मंत्री ने कहा कि इल्म और हुनर के बिना जीवन अधूरा हैं। इल्म (शिक्षा) से जुड़ कर ही व्यक्ति आगे बढ़ सकता हैं। सरकार ने भी प्रत्येक बालक को शिक्षा से जोड़ने के लिए अनेक योजनाएं चलाई हैं, उनका लाभ उठायें। उन्होंने बताया कि बालिकाओं की शिक्षा के लिए राजश्री योजना चला रखी है जिसमें बालिका के जन्म से लेकर 12 वी कक्षा तक उसे सरकार 50 हजार रूपये देती हैं। उन्होंने कहा कि आज कम्प्यूटर युग आ गया है। उससे जूडें तथा समाज, देश की मुख्य धारा में आगे बढ़े। प्राप्त ऋण का सदुपयोग करें। सरकार सदैव सभी के साथ है।

अजमेर की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि अजमेर को स्मार्ट सिटी, हेरिटेज एवं अमृत जैसी योजनाएं मिली है। हर व्यक्ति खुषहाल बने, हर चेहरे पर मुस्कान रहें इसके लिए निःषुल्क दवा एवं षिक्षा की व्यवस्था सरकार ने की है।

समारोह की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान मदरसा बोर्ड़ की अध्यक्ष श्रीमती मेहरून्निसां टाक ने कहा कि जिस उद्देश्य से आज मदरसों को कम्प्यूटर एवं सामग्री का वितरण किया जा रहा है, उनका पूर्ण उपयोग किया जाएं। साथ ही ऋण की सुविधा का उपयोग कर उसका समय पर चुकाने की भी व्यवस्था रखें तथा अजमेर का नाम रोशन करें। उन्होंने कहा कि आज ई-लर्निंग का जमाना है। इस मुख्य धारा से सभी जुड़े। उन्होंने बताया कि मदरसा का भी अलग से पार्टल बनाया गया है।

मदरसा बोर्ड अध्यक्ष ने कौशल विकास पर जोर देते हुए कहा कि कौशल विकास के साथ साथ सभी सकारात्मक सोच रखें तथा समाज की मुख्य धारा से जुड़े। लघु उद्योगों के लिए ऋण हेतु आवेदन करें। सभी अपने बच्चों को पढ़ाएं। उन्होंने बताया कि आगामी मार्च माह तक 34 हजार बच्चें मदरसों में फर्निचर पर बैठ कर पढाई कर सकेंगे।

इस मौके पर अल्प संख्यक अधिकारी कर्मचारी महासंघ के प्रदेषाध्यक्ष श्री हारून खान ने भी अपने विचार रखें। प्रारंभ में जिला अल्प संख्यक अधिकारी श्री यू.डी. खान ने सभी का स्वागत किया तथा बताया कि ऋण की पुर्न अदायगी का जिले में विशेष ध्यान रखा जा रहा है।

समारोह में 34 व्यक्तियों को 51 लाख रूपये के ऋण वितरित किए गए। जबकि सात मदरसों को 24 कम्प्यूटर सहित अन्य सामग्री का वितरण किया गया ।

अंत मे आभार श्री शंकर सिंह रावत ने व्यक्त किया। कार्यक्रम का संचालन श्रीमती वृतिका शर्मा ने किया। इस मौके पर राजस्थान मदरसा बोर्ड की सदस्य सहित अनेक गणमान्य नागरिक उपस्थित थे।




आधार कार्ड धारक ही होगें नरेगा से लाभान्वित

अधिकारी एंव जनप्रतिनिधी करें आम जन के लिए कार्य -प्रो.देवनानी


अजमेर 18 जनवरी। अप्रेल 2017 से आधार कार्ड धारक श्रमिकों को ही महात्मा गांधी नरेगा के माध्यम से लाभान्वित किया जाएगा। जिले के अधिकारियों एवं जन प्रतिनिधियों को आम जन की बेहतरी के लिए कार्य करना चाहिए।

शिक्षा एंव पंचायतराज मंत्राी प्रो.वासुदेव देवनानी ने बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि जन प्रतिनिधियों को क्षेत्रा की बराबर चिंता करते हुए अपना मानकर कार्य करना चाहिए। इसी प्रकार अधिकारियों को भी औपचारिकता के स्थान पर जन सामान्य के लाभ के लिए सकारात्मक कार्य करना चाहिए। जन हित में आगे बढकर कार्य करने से सरकारी योजनाओं की पहुुंच जरूरतमंद व्यक्ति तक हो जाती है। सरकार द्वारा उपलब्ध करवाये गए बजट का अधिकतम उपयोग निर्धारित समयावधि में किया जाना चाहिए। अधिकारियों को चाहिए कि समपूर्ण कार्य के विभिन्न चरण निर्धारित करके प्रत्येक तीन माह में उसकी समीक्षा की जानी चाहिए। अजमेर की जिला परिषद तथा प्रशानिक तंत्रा जनता को सकारात्मक परिणाम देने वाली बनना चाहिए। सरकारी योजनाओं के प्रति जागरूकता बढने से जरूरतमंद व्यक्ति तक इसका लाभ पहंुचना सुनिश्चित हो पाएगा। जन प्रतिनिधियों द्वारा दिये गये प्रस्तावों पर संबंधित विभागों द्वारा त्वरित क्रियान्वित की जानी चाहिए।

जिला प्रमुख सुश्री बन्दना नोगिया के अध्यता में बुधवार को जिला परिषद की साधारण सभा की बैठक जिला परिषद सभागार में आयोजित हुई। बैठक में महात्मा गांधी नरेगा योजना पर चर्चा करते हुए उन्होने कहा कि अप्रेल 2017 के पश्चात महात्मा गांधी नरेगा में कार्य करने के लिए आधार कार्ड आवश्यक होगा। साथ ही मजदूरी का भुगतान आधार नम्बर से जुडें हुए बैंक खाते मे ही स्थानान्तरित किया जाएगा। बैंक खाता कोर बैंकिग सेवा युक्त बैंक की शाखा में होना चाहिए। मजदूरी के बाकाया भुगतान को पंचायत समिति के माध्यम से करवाने के लिए उच्च स्तर से प्रयास किये जाऐगें।

उन्होंने कहा कि वार्षिक कार्ययोजना के प्रस्ताव बनाने से पहले स्थानीय जनप्रतिनिधियों से चर्चा की जानी चाहिए। ग्रामीण विकास के लिए समाज के सभी वर्गो का सहयोग अपेक्षित है ग्राम सभाओं के दौरान क्षेत्रा के विकास से जुडे कार्याें में समस्त जनप्रतिनिधियों की सहभागिता आवश्यक है।

इस अवसर पर उपजिला प्रमुख श्री टीकम चैधरी, समस्त प्रधान, जिला परिषद सदस्य शमशेर सिंह रावत, रामधन नुवाद, दिनेश प्रजापत, मुकेश कंवर, संतोष गोयल, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निकया गोहाएन, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री अरविंद कुमार सेंगवा सहित समस्त जिला स्तरीय अधिकारी एवं जनप्रतिनिधी उपस्थित थे।



लावारिस वस्तुओं की सूचना दें पुलिस कंट्रोल रूम में
अजमेर 18 जनवरी। सार्वजनिक स्थानों पर लावारिस पडी वस्तुओं की सूचना निकटतम पुलिस थाने अथवा पुलिस कंट्रोल रूम को दी जानी चाहिए।

वर्तमान में बम विस्फोट एवं अन्य आंतकवादी धटनाओं को ध्यान मे रखते हुए समस्त नागरिकों को सावधानी रखनी चाहिए। विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर पडी लावारिस ब्रीफकेस जैसी अन्य वस्तुओं की सूचना निकटतम पुलिस थाने अथवा पुलिस कंट्रोल रूम पर टेलिफोन नम्बर 100, 1090, 0145-2629166 एवं 2621349 पर दी जा सकती है। लावारिस वस्तु के साथ छेड़छाड़ नहीं की जानी चाहिए। इसी प्रकार संदिग्ध व्यक्तियों के वारे में भी जानकरी पुलिस कंट्रोल रूम को दी जानी चाहिए।


सुराज प्रदर्शनी का समापन गुरूवार को
अजमेर 18 जनवरी। राज्य सरकार के तीन वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर आजाद पार्क में चल रही सुराज प्रदर्शनी का समापन गुरूवार 19 जनवरी को होगा। इस प्रदर्शनी का आरम्भ 12 जनवरी को किया गया था। अब तक जिले के विभिन्न स्थानों से आये हुए नागरिको ने प्रदर्शनी का अवलोकन कर राज्य सरकार के कार्यो की सराहना की है। बुधवार को शहर के विद्यार्थियो ने प्रदर्शनी का भ्रमण किया।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top