दिल्ली की युवती को बाड़मेर में दो लाख में बेचा, दोबारा तीन लाख में बेच रहे थे, भागकर उज्जैन आई


दिल्ली की 22 साल की युवती को तीन साल पहले इंदौर की पूनम नाम की महिला ने बाड़मेर के सामदड़ी के जितेंद्र के हाथों दो लाख रुपए में बेचा। एक माह पहले पूनम गैंग ने उसे फिर से तीन लाख रुपए में किसी और को बेचने की कोशिश की तो वह भाग निकली। जितेंद्र ने सामदड़ी थाने में प|ी की गुमशुदगी दर्ज कराई। चिमनगंज मंडी पुलिस ने मंगलवार को उसे बरामद कर बाड़मेर पुलिस के हवाले कर दिया।




युवती की कहानी, उसी की जुबानी - मेरा घर दिल्ली के सुल्तानपुरी इलाके में है। मां ठीक नहीं हैं। इंदौर की पूनम नाम की एक महिला मुझे दिल्ली से भगाकर लाई। उसने मेरी शादी सामदड़ी के जितेंद्र से कर दी। बाद में पता चला कि जितेंद्र ने दो लाख रुपए में मुझे खरीदा है। मैं अपना घर बसाना चाहती थी। इसलिए जितेंद्र के साथ रहने लगी। मेरी एक छोटी बच्ची भी है। एक माह पहले पूनम के साथ चार-पांच आदमी आए। वे सामदड़ी के ही हैं। मैं उन्हें पहचानती हूं लेकिन नाम नहीं जानती। मुझे जबरदस्ती घर से ले गए। कहां ले गए, मुझे नहीं पता। चार-पांच लड़कों को दिखाया। पता चला कि मेरा तीन लाख में दोबारा सौदा कर दिया है। मैं उनसे कहती रही कि मुझे जितेंद्र के साथ ही रहना है। मैं मौका पाकर उज्जैन भाग आई और पुलिस से शिकायत की।










उसके पास वापस भेज दो। रेलवे स्टेशन पर जुनैद मिला। उसे मैं नहीं जानती थी। वह अपने घर ले गया। उसकी प|ी सपना है। 20-25 दिन से उसी के घर में हूं। मंगलवार को पुलिस मुझे पकड़कर थाने ले आई।




ऐसे हुआ खुलासा -




सीएसपी मलकीत सिंह ने बताया सपना कुछ समय पहले अपने पति जुनैद के खिलाफ रेप का मुकदमा लिखा चुकी है। बावजूद इसके वह उसी के साथ रह रही है। सोमवार को सपना एक लड़की को लेकर थाने आई। लड़की से वह जुनैद पर छेड़छाड़ का मुकदमा लिखाना चाहती थी। इसी बात पर संदेह हुआ। उसके बाद लड़की से अलग से पूछताछ की तो पूरी कहानी सामने आई। फिलहाल उसे बाड़मेर पुलिस के सुपुर्द कर दिया है।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top