edvertise

edvertise
barmer

अन्नपूर्णा रसोई योजना पूरे प्रदेश में लागू करेंगे
     -मुख्यमंत्री


जयपुर/बाड़मेर, 14 दिसम्बर। मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे ने कहा कि 8 रूपए में खाना तथा     5 रूपए में नाश्ता देने की अन्नपूर्णा रसोई योजना को पूरे प्रदेश में लागू करेंगे। श्रीमती राजे ने कहा कि हमने 12 जिलों के लिए यह योजना शुरू की है, आगे हम इसे पूरे प्रदेश में लागू करेंगे। 
श्रीमती राजे राज्य सरकार के तीन वर्ष पूरे होने के अवसर पर बुधवार सुबह 11 बजे आकाशवाणी के फोन-इन कार्यक्रम के जरिए प्रदेष की जनता से सीधा संवाद कर रही थीं। करीब एक घंटे के इस कार्यक्रम में प्रदेश के कोने-कोने से लोगों ने श्रीमती राजे से सवाल किए, अपने सुझाव दिए और अपनी समस्याएं भी बताई। साथ ही कल्याणकारी योजनाओं के बेहतर क्रियान्वयन के लिए राज्य सरकार की सराहना भी की।
माॅडल स्टेट बनाने के लिए आओ साथ चलें
श्रीमती राजे ने पूरी संवेदनशीलता के साथ लोगों से बात की, उनकी समस्याएं और सुझाव सुने। उन्होंने श्रोताओं को आश्वस्त किया कि जो बात उन्होंने कही है या जो सुझाव दिए हैं, उन पर पूरी गंभीरता से ध्यान दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों से कहा कि राजस्थान को देश का माॅडल स्टेट बनाने के लिए आओ साथ चलें। उन्होंने कहा कि यह काम अकेले सरकार का नहीं है, इसके लिए आप सबको साथ चलना होगा। इस कार्यक्रम का प्रसारण प्रदेश के सभी 19 आकाशवाणी केन्द्रों से एक साथ किया गया।
कह दो आसमान को थोड़ा और ऊपर हो जाए....
उन्होंने प्रदेश के विकास को लेकर अपने जज्बे का इजहार इन पंक्तियों के साथ किया-
’कह दो मुश्किलों से थोड़ा और कठिन हो जायें,
कह दो चुनौतियों से थोड़ा और जटिल हो जायें,
नापना चाहते हो गर हमारे परों की हिम्मत को,
तो कह दो आसमान से थोड़ा और ऊपर हो जाये’
श्रीमती राजे ने कहा कि प्रदेशवासियों ने उन्हें बहुत बड़ी जिम्मेदारी दी है। उनकी आकांक्षाओं पर खरा उतरने के लिए 365 दिन और 24 घंटे भी काम करें तो कम होगा।
रिसर्जेंट राजस्थान और ’ग्राम’ बदलेंगे प्रदेश की तस्वीर
मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले तीन सालों में प्रदेश ने तरक्की की ऊंचाईयां छुई हैं। ’रिसर्जेंट राजस्थान’ और ’ग्राम-2016’ जैसे आयोजनों से प्रदेश मंे निवेश आया है। उन्होंने कहा कि इसमें करीब साढ़े तीन लाख करोड़ के 470 एमओयू हुए थे, जिनमें से एक साल में ही पांच हजार करोड़ का निवेश आ चुका है। करीब   1.08 लाख करोड़ का निवेश विभिन्न स्तरों पर क्रियान्विति की प्रक्रिया में है। इसी प्रकार ’ग्राम’ में 4400 करोड़ के 38 एमओयू हुए। इजराइल जैसा देश इस आयोजन में हमारा भागीदार था, जो कि एक बड़ी सफलता है। 


पर्यटन में आएगा बड़ा बदलाव
ट्रेवल व्यवसाय से जुड़े जयपुर निवासी श्री संजय कौशिक के सवाल पर श्रीमती राजे ने कहा कि टूरिज्म राजस्थान की लाइफ लाइन है। हम टूरिज्म को मिशन के रूप में ले रहे हैं। आने वाले 6 महीने में पर्यटन के क्षेत्र में बड़े बदलाव देखने को मिलेंगे। हमने युवाओं को साथ लेकर पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए प्रदेश के टूरिज्म का नया मार्केटिंग कैम्पेन शुरू किया है। उन्होंने कहा कि हम प्रदेश की ऐतिहासिक धरोहरों, संग्रहालयों, पुस्तकालयों, रंगमंचों, कला केन्द्रों आदि को नया रूप दे रहे हैं ताकि पर्यटकों को राजस्थान का एक नया स्वरूप दिखाई दे।
भामाशाह ने बढ़ाया प्रदेश का मान
मुख्यमंत्री ने भामाशाह योजना तथा भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना का उल्लेख करते हुए कहा कि इन योजनाओं ने प्रदेश का मान बढ़ाया है। इसके सुखद परिणाम सामने आए हैं। उन्होंने कहा कि राजस्थान को भामाशाह योजना के लिए गोल्ड मेेडल मिला है और देश एवं दुनिया में इसकी सराहना हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के करीब 4 करोड़ 71 लाख लोग इससे जुड़े हैं और करीब 5 हजार करोड़ रुपये बैंक खातों में ट्रांसफर हुए हैं। भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना से 6 लाख रोगियों को कैशलेस उपचार मिला है। उन्होंने एक उदाहरण देते हुए बताया कि सवाई मानसिंह अस्पताल में एक महिला ने उनका हाथ पकड़कर रोका और कहा कि उसके पति को हार्ट अटैक आ गया था, लेकिन भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना के कारण उसे तुरन्त उपचार मिल सका और आज उनके पति पूरी तरह स्वस्थ है। साथ ही उन्होंने बताया कि इस योजना के अतिरिक्त मुफ्त दवा योजना के लिए भी राज्य सरकार ने 400 करोड़ रुपये का बजट प्रावधान रखा है।

महिलाओं का रखा विशेष ख्याल
महिला सशक्तीकरण, बालिका शिक्षा तथा उनके पोषण स्तर में सुधार को लेकर श्वेता उपाध्याय एवं अन्य श्रोताओं के सवाल पर मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में चिकित्सा सुविधाओं के विस्तार, राजश्री योजना, आदर्श विद्यालय योजना के जरिए महिलाओं का विशेष ख्याल रखा गया है। भामाशाह योजना में महिलाओं को परिवार की मुखिया बनाया गया है। राज्य सरकार के प्रयासों से प्रदेश में लिंगानुपात पहले की तुलना में काफी सुधरा है। राजश्री योजना के तहत बालिकाओं को हम जन्म से लेकर 12वीं कक्षा तक 50 हजार रुपये तक की सहायता दे रहे हैं। इन योजनाओं का फायदा हर समाज और तबके की बालिकाओं का समान रूप से मिल रहा है। 
हैप्पीनेस इन्डेक्स को बढ़ावा देने से मिली संतुष्टि
मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्हे सर्वाधिक संतुष्टि टाॅय बैंक, क्लाॅथ बैंक जैसे हैप्पीनेस इन्डेक्स को बढ़ावा देने के छोटे-छोटे प्रयासों से मिलती है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कई जिलों में लोगों ने खिलौनों को आंगनबाड़ी केन्द्रों में देकर तथा क्लाॅथ बैंक स्थापित कर ऐसे लोगों के चेहरों पर खुशी लाने का काम किया है जो वास्तविक रूप में जरूरतमंद हैं। श्रीमती राजे ने कहा कि हैप्पीनेस इन्डेक्स को बढ़ावा देने के प्रयास जारी रहेंगे। अन्नपूर्णा योजना लागू करने तथा प्रदेशवासियों के दुख-सुख में काम आने से भी मुझे खुशी मिली है।
इसके अलावा श्रीमती राजे ने मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान, न्याय आपके द्वार अभियान, स्किल डवलपमेन्ट आदि योजनाओं एवं कार्यक्रमों के जरिए प्रदेशवासियों के जीवन में आ रहे बदलाव तथा सुझावों पर चर्चा की। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने आकाशवाणी जयपुर के क्षेत्रीय समाचार एकांश के फेसबुक पेज को भी लाॅन्च किया।
-----

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top