edvertise

edvertise
barmer



अजमेर कैशलेस तकनीक से बैंकों को होगा फायदा - अतिरिक्त जिला कलक्टर
अजमेर, 30 दिसम्बर। कैशलेस तकनीक से बैंको तथा बैंकर्स को हर दृष्टि से लाभ होगा बैंको के मानवीय संसाधनों का अन्य महत्वपूर्ण कार्यों में उपयोग किया जा सकेगा। साथ ही भौतिक संसाधनों पर हाने वाले व्यय मे भी कमी आएगी। यह बात अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री किशोर कुमार ने शुक्रवार को अग्रणी बैंक की जिला स्तरीय समीक्षा समिति एवं जिला स्तरीय समन्वय समिति की बैठक में अध्यक्षता करते हुए कही।

उन्होंने कहा कि अजमेर जिले को कैशलेस डिजीटल अर्थव्यवस्था की दिशा में आगे बढ़ाने के लिए बैंक के साथ-साथ आमजन को भी जागरूक किया जाना आवश्यक है। जिले की समस्त बैंको की शाखाएं अपने क्षेत्रा के नागरिकों नगदी रहित अर्थव्यवस्था की ओर ले जाने के लिए जागरूकता शिविर आयोजित करेगी। प्रत्येक ग्राम पंचायत स्तर पर कम से कम एक पे पोईन्ट की स्थापना की जानी चाहिए। पुष्कर शहर को डिजीटल पैमेंट सिस्टम का रोल माॅडल बनाने के लिए समस्त स्थानीय बैंकर्स के साथ समन्वय स्थापित किया जाए। पुष्कर नगर पालिका के 20 वार्डों को बैंकों को लक्ष्य आधारित वितरण किए जाए।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अन्तर्गत अधिकतम व्यक्तियों को लाभान्वित किया जाना चाहिए। सरकारी योजनाओं के प्रति बैंकर्स को गम्भीरता पूर्वक कार्य करना चाहिए। प्रधानमंत्राी रोजगार सृजन कार्यक्रम में अधिकतम बेरोजगारों को ईकाई स्थापना के लिए प्रोत्साहित किया जाना चाहिए। बैंकों के साख जमा अनुपात को सुधार करने के लिए बैंक आॅफ बड़ौदा, स्टेट बैंक आॅफ इण्डिया, स्टेट बैंक आॅफ बीकानेर एण्ड जयपुर, पंजाब नेशनल बैंक, यूनियन बैंक तथा आईसीआईसीआई एवं जिला उद्योग केन्द्र की एक कमेटी बनायी जाए। इस कमेटी की साप्ताहिक बैठक सुनिश्चित करके साख जमा अनुपात बढ़ाया जाए। उपखण्ड मजिस्ट्रेट के माध्यम से रोडा एक्ट के प्रकरणों का चार्ज रजिस्ट्रेशन समय पर किया जाए। विभिन्न बैंकों के एटीएम कम डेबिट रूपे कार्ड का वितरण शाखा प्रबंधक द्वारा प्रत्येक माह की 5 एवं 20 तारीख को होने वाली ग्राम सभा में किया जा सकता है।

बैंक आॅफ बड़ौदा के क्षेत्राीय प्रबंधक बी.सी.विजय ने कहा कि अमजेर जिले में साक्षरता तथा स्मार्ट सिटी का कार्य आगे बढ़कर किया है। इसी तर्ज पर कैशलेस डिजीटल अर्थव्यवस्था की स्थापना में भी अजमेर अग्रगामी रहेगा।

इस अवसर पर जिला उद्योग के केन्द्र के महाप्रबंधक सी.बी.नवल, भारतीय रिजर्व बैंक के सहायक महाप्रबंधक आर.एस.रावत, नाबार्ड के जिला विकास अधिकारी बी.बी.खरबंदा, अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक आर.के.जांगिड़, आर सेटी की निदेशक श्रीमती सीमा खन्ना तथा समस्त बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।







आर सेटी की बैठक आयोजित

अजमेर, 30 दिसम्बर। अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री किशोर कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान की जिला स्तरीय आर सेटी सलाहकार समिति की बैठक कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित हुई। बैठक में महिलाओं को निःशुल्क लद्यु अवधि स्वरोजगार प्रशिक्षण दिए जाने पर विचार विमर्श किया गया।

उन्होंने कहा कि संस्थान द्वारा प्रदान किया जाने वाला निःशुल्क ड्रेस डिजाईनिंग, ब्यूटी पार्लर, आर्टिफिशयल ज्वेलरी, बैग मैकिंग, कम्प्यूटर, डेयरी, महेंदी, हैएिडक्राफ्ट का प्रशिक्षण महिलाओं को स्वरोजगार उपलब्ध करवाने के साथ ही अन्य महिलाओं को रोजगार दे सकने वाला होना चाहिए। प्रशिक्षण के दौरान अभ्यर्थियों को उत्तम क्वालिटी की आवास एवं भोजन व्यवस्था निःशुल्क उपलब्ध करवायी जाती है।

उन्होंने कहा कि आर सेटी के माध्यम से प्रशिक्षण प्राप्त करने वाले अथ्यर्थियों को विभिन्न सरकारी योजनाओं के माध्यम से ऋण उपलब्ध करवाने के लिए बैंकों को आगे आना चाहिए। महात्मा गांधी नरेगा लाईफ प्रोजेक्टर सर्वे के तहत जिले के चयनित नरेगा श्रमिकों को आर सेटी के माध्यम से स्वरोजगार प्रशिक्षण प्रदान किया जाए।

इस अवसर पर जिला उद्योग के केन्द्र के महाप्रबंधक सी.बी.नवल, भारतीय रिजर्व बैंक के सहायक महाप्रबंधक आर.एस.रावत, नाबार्ड के जिला विकास अधिकारी बी.बी.खरबंदा, अग्रणी जिला बैंक प्रबंधक आर.के.जांगिड़, आर सेटी की निदेशक श्रीमती सीमा खन्ना तथा समस्त बैंकों के प्रतिनिधि उपस्थित थे।







सफलता की कहानी

सुशीला की आमदनी हुई चार गुणा

अजमेर। हरिभाऊ उपाध्याय नगर अजमेर की सुशीला टेलर ने बारहवीं तक अध्ययन किया तथा वैवाहिक जीवन व्यतीत करने लगी। पढ़ाई के प्रति लगाव होने के कारण सुशीला ने एनटीटी एवं पीटीटी किया। परिवार का खर्च उनकी इलेक्ट्रोनिक शाॅप से प्राप्त होने वाली आय से चलता था। उनके मन में विचार आता था कि मैं भी परिवार में आर्थिक मददगार बनूं। इसलिए निजी विद्यालय में अध्यापन करवाना आरम्भ किया। अध्यापन कार्य से मासिक 2000 से 2500 हजार रूपए की आय होती जिससे बच्चों की फीस मे ही पूरे हो जाते थे। मन में बार-बार आर्थिक अक्षमता का अनुभव हो रहा था। एक दिन इन्हें गैर-सरकारी संगठन के माध्यम से जानकारी हुई कि अजमेर में बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान महिलाओं को स्वरोजगार आधारित प्रशिक्षण लेकर आत्मनिर्भर बनाने का कार्य कर रहा है। आर सेटी के भवन में संस्थान निदेशक श्रीमती सीमा खन्ना द्वारा साक्षात्कार के पश्चात ड्रेस डिजाईन फोर वूमेन प्रशिक्षण कार्यक्रम में चयन किया गया। जिसमें कौशल एवं उद्यमिता विकास प्रशिक्षण अच्छा मिला। प्रशिक्षण के पश्चात सुशीला टेलर घर पर सिलाई कार्य करने लगी। कार्य की गुणवत्ता एवं व्यवहार की वजह से घर पर सिलाई व अध्यापन एवं टयूशन कार्य शुरू किया। जिससे मासिक 10 हजार रूपए की आय होती है। इसमें से समस्त खर्चे निकालने के बाद 6 हजार की शुद्ध आय अर्जित हो रही है। बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान के प्रशिक्षण ने सुशीला जैसी अनेको महिलाओं को आत्मनिर्भर व आर्थिक मजबूती का हुनर प्रदान किया है।




चायनीज मांझा रहेगा प्रतिबंधित
अजमेर, 30 दिसम्बर। नेशनल ग्रीन ट्रीब्यूनल के आदेशानुसार जिले में पतंग उड़ाने के काम में आने वाले नाॅयलान धागे, चायनीज मांझे तथा कांच कोटेट सिंथेथिक धागों एवं इसी तरह के अन्य हानिकारक पदार्थों की उपाप्ति, भण्डारण, बिक्री एवं उपयोग प्रतिबंंिधत रहेगा। यह जानकारी स्थानीय निकाय विभाग के उप निदेशक ने दी।




महिला एवं बाल विकास मंत्राी का यात्रा कार्यक्रम
अजमेर, 30 दिसम्बर। महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्राी श्रीमती अनिता भदेल रविवार एक जनवरी को अजमेर में जनसुनवाई, क्षेत्रा का दौरा एवं स्थानीय कार्यक्रमों में भाग लेने के पश्चात सांय 6 बजे नागौर के लिए प्रस्थान करेंगी। वे सोमवार को प्रातः 8.30 बजे देशनोक करणी माता मन्दिर के दर्शन उपरान्त प्रातः 11 बजे बीकानेर में विभागीय अधिकारियों की बैठक लेंगी।




गणतन्त्रा दिवस तैयारियों की बैठक 2 जनवरी को
अजमेर, 30 दिसम्बर। जिला कलक्टर गौरव गोयल की अध्यक्षता में सोमवार 2 जनवरी 2017 को प्रातः 10.30 बजे कलेक्ट्रेट सभागार में गणतन्त्रा दिवस समारोह की तैयारियों के संबंध में बैठक का आयोजन किया जाएगा। यह जानकारी अतिरिक्त कलक्टर श्री किशोर कुमार ने दी।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top