edvertise

edvertise
barmer



अजमेर।अजमेर में खूनी खेल- होटल मालिक की पत्नी से थे वेटर के अवैध संबंध, निर्वस्त्र मिली लाश

अजमेर में खूनी खेल- होटल मालिक की पत्नी से थे वेटर के अवैध संबंध, निर्वस्त्र मिली लाश
अंदर कोट जालियान कब्रिस्तान में गेस्ट हाउस के वेटर की पत्थर से सिर कुचल कर निर्मम हत्या के मामले का दरगाह थाना पुलिस ने 36 घंटे में पर्दाफाश करते हुए चार आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया।

आरोपितों मे गेस्ट हाउस का मैनेजर और उसके तीन साथी शामिल है। पुलिस की प्रारंभिक पड़ताल में गेस्ट हाउस संचालक की पत्नी से मृतक वेटर के अवैध संबंधों के शक में हत्या की वारदात अंजाम देना सामने आया है। पुलिस आरोपितों से गहनता से पड़ताल में जुटी है।

पुलिस के अनुसार गत 25 दिसम्बर को जालियान कब्रिस्तान गधा घाटी में वेटर पश्चिम बंगाल रानीगंज निवासी शेख शकील उर्फ चुन्नू की निर्मम हत्या के मामले में पश्चिम बंगाल वर्धमान रॉयल्टी मोड़ नया मोहल्ला हाल नासिर गेस्ट हाउस के संचालक मोहम्मद अख्तर हुसैन (38), रानीगंज नबी नगर हाल जनता गेस्ट हाउस निवासी नौशाद (44), रानीगंज सईदनगर हाल छड़ी बाबा की दरगाह के पास अंदर कोट निवासी बबलू शेख (22) व टीपू अंसारी ( 30) को गिरफ्तार किया।




पुलिस पूछताछ में आरोपितों ने अपना जुर्म स्वीकार किया। पुलिस ने आरोपितों की निशानदेही पर खून में सने कपड़े बरामद किए हैं। पुलिस को मृतक शकील के परिजन के अजमेर पहुंचने का इंतजार है। परिजन के आने के बाद शव का पोस्टमार्टम होगा।




शराब पीने के बहाने बुलाया

आरोपितों ने पूछताछ में बताया कि मृतक शकील चार माह पहले अजमेर आया था। वह देहलीगेट शनि मंदिर के पास नासिर गेस्ट हाउस के संचालक अख्तर हुसैन के पास काम करता था। अख्तर को अपनी पत्नी के शकील के साथ अवैध संबंधों का शक था। अख्तर का शक यकीन में तब्दील होने पर उसने 25 दिसम्बर को शकील को नौकरी से निकाल दिया।




वह दोस्त नौशाद के साथ शकील को शराब पीने के बहाने जालियान कब्रिस्तान ले गया। उसके पीछे पंकज गेस्ट हाउस के बबलू शेख और कमल गेस्ट हाउस के टीपू अंसारी भी पहुंच गए। चारों ने मिलकर शकील की पत्थरों से सिर कुचल कर हत्या कर दी।




निर्वस्त्र कर छोड़ गए

आरोपितों ने शकील की पहचान छिपाने व साक्ष्यों को मिटाने की मंशा से उसके चेहरे को नृशंसतापूर्वक पत्थरों से कुचल दिया। उसके बाद शव को निर्वस्त्र कर चारों अपने-अपने ठिकाने चले गए। अन्दर कोट गरीब नवाज कॉलोनी निवासी मोहम्मद ताहिर ने पुलिस को शव की सूचना दी। पुलिस ने ताहिर की रिपोर्ट पर मामला दर्ज किया था। शव के पास मिले आधार कार्ड से मृतक की पहचान करने के साथ आरोपितों तक पहुंचने में कामयाबी हासिल की।




पहले बेटी ने की आत्महत्या

पुलिस पड़ताल में सामने आया कि गेस्ट हाउस संचालक अख्तर की बेटी ने 25 दिन पहले आत्महत्या की थी जिसका गंज थाने में प्रकरण दर्ज है। अख्तर ने शकील को नौकरी से निकालने से पहले उसका हिसाब-किताब कर दिया था ताकि किसी को उस पर शक न हो सके। पुलिस ने दरगाह क्षेत्र में लगे सीसीटीवी फुटेज के आधार पर आरोपितों की तलाश करते हुए वारदात का पर्दाफाश कर दिया।




सिपाही की सूचना से खुला राज

वारदात का पर्दाफाश करने के लिए एसएचओ मानवेंद्रसिंह के नेतृत्व में एक टीम गठित की गई। टीम में एएसआई कानाराम, दीवान सतपालसिंह, सूरजकरण, सिपाही महेन्द्रसिंह, विजेश, जितेन्द्र, सुरेश और अब्दुल रहीम शामिल थे। सिपाही महेंद्र सिंह की सूचना पर चारों आरोपितों की गिरफ्तारियां संभव हुई।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top