जयपुर।मुख्यमंत्री ने किया मंत्रिमंडल का विस्तार, इन 8 मंत्रियों ने ली शपथ

मुख्यमंत्री ने मंत्रिमंडल का तीसरी बार विस्तार एवं फेर बदल करते हुए शनिवार को दो राज्य मंत्रियों को केबिनेट मंत्री बनाने के साथ दो वरिष्ठ विधायकों को केबिनेट मंत्री एवं चार विधायकों को राज्यमंत्री की शपथ दिलाई गई है।


राज्यपाल कल्याण सिंह ने राजभवन में आयोजित कार्यक्रम में मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई गई। शपथ ग्रहण समारोह में विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल, भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अशोक परनामी एवं सांसद दुष्यंत सिंह, रामचन्द्र बोहरा सहित कई राजनेता शामिल हुए।


समारोह में मुख्यमंत्री ने सबसे पहले सहकारिता राज्य मंत्री अजय सिंह किलक का नाम पुकारा। इसके बाद परिवहन राज्यमंत्री बाबू लाल वर्मा को केबिनेट मंत्री के रुप में शपथ दिलाई गई। इसी तरह पूर्व सांसद एवं निम्बाहेडा से विधायक श्रीचन्द कृपलानी एवं पूर्व सांसद एवं बहरोड़ से विधायक डॉ. जसवंत यादव ने केबिनेट मंत्री के रुप में शपथ ली।


इसके बाद दूसरी बार खंडेला से विधायक बंशीधर बाजियां एवं भोपालगढ़ से विधायक कमसा मेघवाल एवं पूर्व सांसद धनसिंह रावल और चौरासी से दूसरी बार विधायक सुशील कटारा को राज्यमंत्री के रुप मेंं शपथ दिलाई गई।


ये बने कैबिनेट मंत्री
डॉ. जसवंत यादव : बहरोड़ (अलवर) विधायक
श्रीचंद कृपलानी : निंबाहेडा (चित्तौडग़ढ़) विधायक


इन्हें बनाया गया राज्यमंत्री
बंसीधर बाजिया : खंडेला विधायक
कमसा मेघवाल : भोपालगढ़ (जोधपुर) विधायक
धनसिंह रावत : बांसवाड़ा विधायक
सुशील कटारा : चौरासी (डूंगरपुर) विधायक


5 नए संसदीय सचिव बनाए गए
मुख्यमंत्री पांच नए संसदीय सचिवों की नियुक्ति की घोषणा की है। मंत्रीमंडल विस्तार के बाद मुख्यमंत्री कार्यालय में शत्रुघ्न गौतम - केकड़ी (अजमेर), नरेन्द्र नागर - खानपुर (झालावाड़), ओमप्रकाश हुड़ला - महवा (दौसा), भीमा भाई - कुशलगढ़ (बांसवाड़ा) और कैलाश वर्मा - बगरू (जयपुर) को संसदीय सचिव नियुक्त किया है। सभी नवनियुक्त संसदीय सचिवों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई।


दो राज्यमंत्रियों ने इस्तीफे दिए
दो राज्य मंत्रियों ने अपने इस्तीफे मुख्यमंत्री को सौंप दिए जिसे स्वीकार कर लिया गया। राज्यपाल कल्याण सिंह ने मुख्यमंत्री की सिफारिश पर विधि राज्य मंत्री अर्जुन लाल गर्ग और प्रशासनिक एवं मोटर गैराज राज्य मंत्री जीत मल खांट का इस्तीफा मंजूर कर लिया। राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार से पहले इन दोंनो मंत्रियों को मंत्रिमंडल से बाहर होने की अटकले लग रही थी। बताया जा रहा है कि इन दोनों मंत्रियों के काम काज को लेकर मुख्यमंत्री संतुष्ट नहीं थी।


तीसरी बार विस्तार
मुख्यमंत्री तीसरी बार अपने मंत्रिमण्डल में फेरबदल करेंगी। 13 दिसंबर 2013 को शपथ लेने के बाद सात दिन बाद 20 दिसंबर को मंत्रिमण्डल गठन किया गया। 12 मंत्रियों को शामिल किया गया, इसमें 3 राज्यमंत्री शामिल थे। वर्तमान विधानसभा अध्यक्ष कैलाश मेघवाल भी इस मंत्रिमण्डल में शामिल थे। बाद में 19 जनवरी 2014 को अध्यक्ष बनने से पहले उन्होंने मंत्रिमण्डल से इस्तीफा दिया। इसके बाद 27 अक्टूबर 2014 को मंत्रिमण्डल फेरबदल किया गया।


4 केबिनेट और 11 राज्यमंत्री बनाए गए। इस फेरबदल में सांसद बन चुके सांवरलाल जाट को मंत्रिमण्डल से बाहर किया गया। पहले फेरबदल के दूसरे ही दिन मुख्यमंत्री ने फिर से एक छोटा बदलाव किया। दो राज्यमंत्रियों को केबिनेट मंत्री बनाया गया।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top