edvertise

edvertise
barmer



अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्रा में पेयजल के लिए अब तक 20 करोड़ की स्वीकृति- प्रो. देवनानी
शीघ्र पूरा होगा हाथीखेड़ा और लोहागल में पाइपलाइन का कार्य

शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्राी ने किया श्याम काॅलोनी में पाइपलाइन कार्य का शुभारम्भ


अजमेर, 30 दिसम्बर। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्य मंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा कि राज्य सरकार ने अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्रा को पेयजल के क्षेत्रा में आत्मनिर्भर करने के लिए अब तक 20 करोड़ रूपए की स्वीकृति जारी की है। हाथीखेड़ा, अजयसर, खरेकड़ी एवं लोहागल में करीब 12 करोड़ रूपए की पेयजल का कार्य भी शीघ्र पूरा कर लिया जाएगा। इन क्षेत्रों में आजादी के बाद पहली बार नल से घरों में पानी आएगा।

शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. देवनानी ने आज फाॅयसागर रोड स्थित श्याम काॅलोनी में पाइपलाइन कार्य का शिलान्यास किया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार शहरी क्षेत्रों में पेयजल आत्मनिर्भरता बढ़ाने के लिए पूरी गम्भीरता से कार्य कर रही है। अकेले अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्रा में ही अब तक 20 करोड़ से अधिक राशि पेयजल के लिए स्वीकृत की जा चुकी है। अन्य क्षेत्रों को भी शीघ्र ही पेयजल लाइनों से जोड़ा जाएगा।

प्रो. देवनानी ने कहा कि हाथीखेड़ा, अजयसर, खरेकड़ी एवं लोहागल में करीब 12 करोड़ रूपए की लागत से बनने वाली पेयजल परियोजना के कार्य भी शीघ्र पूरे कर लिए जाएंगे। गांवों में लम्बे समय से पेयजल की समस्या बनी हुई थी। हमने जब चुनाव लड़ा तब ग्रामीणों से वादा किया था कि इस समस्या का निराकरण किया जाएगा। इसके लिए जलदाय मंत्राी से विशेष आग्रह कर परियोजना को स्वीकृति दिलायी गई। परियोजना का कार्य शीघ्र पूरा किया जाएगा।

इस अवसर पर श्याम नगर विकास समिति अध्यक्ष श्री दीपक नरूका, श्री सीताराम शर्मा, श्री जयकिशन पारवानी, श्री रमेश सोनी, पार्षद श्री राजेन्द्र सिंह पंवार, श्री कुन्दन वैष्णव, श्री महेन्द्र जादम, श्री वीरेन्द वालिया, श्री के.के.त्रिपाठी, श्री गोपाल सिंह, सहित अन्य जनप्रतिनिधि व अधिकारी उपस्थित थे।




राज्य सरकार ने दी निजी स्कूल संचालकों को राहत

गांव में एक एकड़ जमीन तो नहीं कराना होगा भू-रुपांतरण

अजमेर, 30 दिसम्बर। राज्य सरकार ने प्रदेश में शिक्षा की उपलब्धता को बढ़ावा देने के लिए ग्रामीण क्षेत्रा में नए खुलने वाले निजी स्कूलों को नियमों में बड़ी राहत दी है। अब नया स्कूल खोलने के लिए एक एकड़ तक जमीन का भूमि रूपांतरण कराना आवश्यक नहीं होगी। इस राहत से निजी स्कूल खोलने की राहत आसान होगी।

शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने बताया कि अब तक प्रदेश में नई निजी स्कूल खोलने के लिए भूमि का रूपांतरण कराना आवश्यक था। अब सरकार ने इन नियमों में राहत दी है। अब एक एकड़ तक जमीन का भूमि रूपांतरण कराना आवश्यक नहीं होगा।

प्रो. देवनानी ने बताया कि सरकार के इस फैसले से प्रदेश में नए खुलने वाले निजी स्कूलों की राहत आसान हो जाएगी। ज्यादा से ज्यादा क्षेत्रों में नए स्कूल खुलेंगे और प्रदेश में शिक्षा की उपलब्धता बढ़ेगी। गौरतलब है कि राज्य सरकार ने निजी स्कूलों के लिए कई नियमों में राहत प्रदान की है।




नेतृत्व का गुण विकसित कर समाज को नई दिशा दें शिक्षक- प्रो. देवनानी

पुष्कर में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों के प्रधानाध्यापकों का संभाग स्तरीय लीडरशिप प्रशिक्षण

अजमेर, 30 दिसम्बर। शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने कहा कि शिक्षक समाज की रीढ़ हैं। शिक्षक अपनी ताकत को पहचानें, नेतृत्व के गुणों का विकास करें और विद्यार्थियों का नवनिर्माण कर समाज को दिशा दें। शिक्षक स्कूल को अपना समझ कर उसका विकास करें तो निश्चित रूप से सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे।

शिक्षा राज्यमंत्राी प्रो. वासुदेव देवनानी ने आज पुष्कर में प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों के प्रधानाध्यापकों के संभाग स्तरीय लीडरशिप प्रशिक्षण में यह बात कही। उन्होंने कहा कि किसी भी देश में स्वस्थ और सक्षम समाज का निर्माण तभी संभव है जब शिक्षक अपनी भूमिका का पूरी ताकत के साथ निर्वहन करें। राज्य सरकार का प्रयास है कि प्रत्येक स्कूल का मुखिया ही उसका नेतृत्व करे। हमें नेतृत्व के गुणों को आत्मसात करना होगा ताकि स्कूल का विकास हो सके।

उन्होंने कहा कि आदर्श व उत्कृष्ट विद्यालय राजस्थान में शिक्षा की पहचान बनते जा रहे हैं। स्कूलों को विकसित करने के लिए शिक्षक अपने क्षेत्रा के भामाशाहों से भी सतत सम्पर्क बनाए रखें तथा समय-समय पर स्कूल में योगदान के प्रति उन्हें प्रेरित करते रहें। प्राथमिक व उच्च पराथमिक विद्यालयों में बुनियादी ढांचे के साथ ही शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार की भी आवश्यकता है।

प्रो. देवनानी ने कहा कि राज्य सरकार के अथक प्रयासों से राजस्थान में शिक्षा के क्षेत्रा में शानदार प्रगति हुई है। लाखों विद्यार्थियों का नामांकन तो बढ़ा ही है, साथ ही सरकारी स्कूलों के प्रति अभिभावकों का विश्वास भी बढ़ा है। सरकार ने शिक्षकों की अधिकांश समस्याओं का निराकरण कर दिया है। एक लाख से ज्यादा शिक्षकों को पदोन्नति दी गई है।

इस अवसर पर शिक्षा विभाग के अधिकारी उपस्थित थे।




माॅडल स्कूल में एनएसएस शिविर का समापन

अजमेर, 30 दिसम्बर। राष्ट्रीय सेवा योजना के तहत राजकीय माॅडल बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय में पीछले 10 दिनों से जारी एनएसएस शिविर का आज समापन हुआ। शिविर के तहत बालिकाओं ने विद्यालय एवं वार्ड की सफाई के साथ ही आमजन को स्वच्छ भारत मिशन के प्रति जागरूक किया। बैनर व पोस्टर लगाकर स्वच्छता एवं स्वास्थ्य का महत्व समझाया गया। बालिकाओं ने कन्या भ्रूण हत्या, तम्बाकू निषेध सहित अन्य सामाजिक बुराईयों के खिलाफ भी लड़ने का संकल्प लिया। प्राचार्य श्रीमती बीनू मेहरा एवं शिविर प्रभारी श्रीमती अंजू कौशल ने बालिकाओं को शिविर के उद्देश्यों के बारे में जानकारी दी।

0 टिप्पणियाँ:

Post a Comment

 
Top